प्रेगनेंसी में वजाइना से यलो डिस्चार्ज (पीला चिपचिपा पानी) आने के कारण और बचाव के उपाय

गर्भावस्था के दौरान पीला पदार्थ (यलो डिस्चार्ज) होना कितना आम है और कितना गंभीर, इसके बारे में पता होना जरूरी है। जानें इसके लक्षण, कारण और बचाव

Garima Garg
Written by: Garima GargUpdated at: Aug 26, 2021 12:27 IST
प्रेगनेंसी में वजाइना से यलो डिस्चार्ज (पीला चिपचिपा पानी) आने के कारण और बचाव के उपाय

प्रेगनेंसी में महिलाओं के शरीर में कई प्रकार के परिवर्तन आते हैं। इन परिवर्तनों के कारण अक्सर महिलाओं का मूड भी स्विंग होता है। ऐसा ही एक बदलाव है प्रेगनेंसी के दौरान पीला डिस्चार्ज होना (Yellow Discharge during Pregnancy)। यह एक गाढ़ा, पतला और चिपचिपा पदार्थ हो सकता है। आज का हमारा लेख इसी विषय पर है। आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से बताएंगे कि प्रेगनेंसी के दौरान पीले डिस्चार्ज के होने के पीछे क्या क्या कारण होते हैं। साथ ही इसके लक्षण और बचाव भी जानेंगे। पढ़ते हैं आगे...

 

बता दें कि महिलाओं में पीले डिस्चार्ज की समस्या ल्यूकोरिया के नाम से जानी जाती है। कुछ स्थितियां ऐसी होती है जिनमें यह पदार्थ का आना सामान्य होता है। वहीं कुछ स्थितियों में इस पदार्थ को संक्रमण का संकेत भी मान सकते हैं। यदि गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को इस समस्या का सामना करना पड़े तो इसका मुख्य कारण एस्ट्रोजन हार्मोन के बदलाव होता है। इससे संबंधित रिसर्च भी सामने आई है रिसर्च पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। गर्भावस्था में डिस्चार्ज होना एक आम बात होती है लेकिन अगर पदार्थ का रंग पीला, बदबूदार और योनि से खुजली हो रही है तो यह संक्रमण का संकेत हो सकता है।

 इसे भी पढ़ें- प्रेगनेंसी में खर्राटे लेने के क्या कारण हो सकते हैं? जानें इससे बचाव के आसान तरीके

प्रेगनेंसी में पीला डिस्चार्ज होने के कारण

यह तो हम आपको पहले भी बता चुके हैं कि पीला डिस्चार्ज अगर दुर्गंध के साथ हो रहा है तो यह संक्रमण के लक्षण होते हैं। ऐसे में यह पता होना जरूरी है कि गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को किस प्रकार के संक्रमण हो सकते हैं, जिनके संकेतों में यह पीला पदार्थ भी शामिल है-

1 - बैक्टीरियल संक्रमण क्लैमिडिया

2 - सीरियल संक्रमण गोनोरिया

3 - बैक्टीरिया संक्रमण ट्राईकोमोनिएसिस

4 - बैक्टीरिया वेजिनोसिस।

5 - इससे अलग जब महिलाएं किसी क्रीम, ऑइंटमेंट, फेमिनिन स्प्रे, डिटर्जेंट आदि में पाए जाने वाले केमिकल के संपर्क में आती हैं। तब भी येल्लो डिस्चार्ज की समस्या हो सकती है।

6 - जब महिलाओं को त्वचा संबंधित समस्या जैसे लिचेन प्लेनस या डिस्क्वैमेटिक‌ वेजाइनाइटिस की समस्या होती है तब भी महिलाओं को येल्लो डिस्चार्ज हो सकता है।

 

प्रेगनेंसी के दौरान पीले डिस्चार्ज के साथ दिखने वाले लक्षण-

1 - योनि में खुजली होना।

2 - योनि में सूजन आ जाना।

3 - योनि से बदबू आना।

4 - योनि में हल्की जलन महसूस करना।

 इसे भी पढ़ें- प्रेगनेंसी के दौरान छाछ पीने के फायदे, नुकसान और जरूरी सावधानियां

इसके अलावा कुछ गंभीर लक्षण भी होते हैं जैसे की योनि में दर्द होना, बुखार आ जाना, पेट के निचले हिस्से में दर्द महसूस करना, योनि में लालिमा आ जाना, योनि में घाव हो जाना, फफोले पड़ जाना, ऐसे में डॉक्टर को तुरंत दिखाना चाहिए।

प्रेगनेंसी के दौरान पीले डिस्चार्ज से बचाव

महिलाएं कुछ सावधानी बरतने से इस समस्या को रोक सकती हैं। जानते हैं इन सावधानियों के बारे में-

1 - महिलाएं कॉटन के कपड़े पहने।

2 - ज्यादा टाइट कपड़े पहनने से बचें।

3 - प्रेगनेंसी के दौरान त्वचा में खुजली और जलन से दूर रहने के लिए ढीले कपड़ों का चयन करें।

4 - शौच करने के बाद गुप्तांग को अच्छे से साफ करें लेकिन किसी भी साबुन का इस्तेमाल ना करें।

5 - गुप्तांग पर किसी भी तरह के खुशबूदार प्रोडक्ट का इस्तेमाल ना करें।

6 - गुप्तांग को गुनगुने पानी से धोएं लेकिन इससे पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

7 - गुप्तांग को बार-बार ना धोएं।

नोट - ऊपर बताए गए बिंदुओं से पता चलता है कि गर्भवती महिलाओं को पीला डिस्चार्ज आना एक आम समस्या भी हो सकती है और यह एक संक्रमण का लक्षण भी हो सकता है। ऐसे में सबसे पहले ऊपर बताए लक्षणों को पहचानना जरूरी है और उसके बाद ही डॉक्टर से संपर्क करें। गर्भवती महिलाएं लापरवाही ना बरतें। अगर वह किसी भी प्रकार की असमानता का सामना कर रही है तो तुरंत एक्सपर्ट की राय लें। साथ ही ऊपर बताए गए बचाव को अपनाएं और अपने आसपास स्वच्छता बनाए रखें।

इस लेख में इस्तेमाल की जानें वाली फोटोज़ Freepik से ली गई हैं।

Read More Articles on women health in hindi

Disclaimer