कोरोना वायरस का नया 'एटा वैरिएंट' कितना खतरनाक है? जानें इसके बारे में सब कुछ

देश में काेराेना वायरस के नए ‘एटा वैरिएंट’ ने दस्तक दी है। क्या है यह वैरिएंट और कितना खतरनाक हाे सकता हैं? चलिए जानते हैं-

Anju Rawat
Written by: Anju RawatPublished at: Aug 16, 2021Updated at: Aug 16, 2021
कोरोना वायरस का नया 'एटा वैरिएंट' कितना खतरनाक है? जानें इसके बारे में सब कुछ

देश में काेराेना वायरस की दूसरी लहर के मामलाें में काफी हद तक कमी आ गई है (Second Wave of Coronavirus)। लेकिन विशेषज्ञाें के अनुसार दुनियाभर में काेराेना वायरस की तीसरी लहर दस्तक दे सकती है, जिसका सबसे अधिक असर बच्चाें पर पड़ सकता है। इसकी वजह यह है कि 18 से ऊपर के उम्र के लाेगाें काे तब तक काेविड 19 वैक्सीन लग चुकी हाेगी, जिससे इन लाेगाें पर काेराेना वायरस का असर कम देखने काे मिलेगा और बच्चे इसकी चपेट में अधिक आ सकते हैं। 

लाेगाें में, स्वास्थ्य जगत में जहां तीसरी लहर आने की संभावना काे लेकर भय है, वहीं दूसरी तरफ नए-नए वैरिएंट्स भी लाेगाें में डर पैदा कर रहे हैं (Third Wave of Coronavirus)। चिकित्सा जगत एक वैरिएंट से लड़ने की रणनीति बनाते हैं, तब तक एक नया वैरिएंट सामने आ जाता है। अभी तक दुनियाभर में डेल्टा वैरिएंट, कप्पा वैरिएंट जैसे तमाम कई तरह से वैरिएंट्स के मामले देखने काे मिले हैं। लेकिन हाल ही में देश में काेराेना वायरस के एटा वैरिएंट ने भी दस्तक दे दी है। कर्नाटक में एटा वैरिएंट का एक मामला सामने लाया है, जिससे लाेगाें में डर का माहौल है। लेकिन क्या सच में काेविड 19 का एटा वैरिएंट खतरनाक है? डेल्टा वैरिएंट से यह कितना और कैसे अलग है? फैमिली फिजिशियन ऑफ इंडिया, नाेएडा के अध्यक्ष डॉक्टर रमन कुमार से जानें इसके बारे में-

coronavirus

(Image Source : thequint.com)

क्या है काेराेना वायरस का नया ‘एटा वैरिएंट’ (What is Eta Variant of Covid-19)

जब से काेराेना वायरस ने दुनिया में दस्तक दी है, इसके अलग-अलग वैरिएंट (New Variants) निकलकर सामने आ रहे हैं। हाल ही में काेराेना वायरस के ‘एटा वैरिएंट’ का भी एक मामला सामने आया है। यह काेई नया वैरिएंट नहीं है, सिर्फ इसकी पुष्टि अब हुई है।

एटा वैरिएंट काे लाइनेज B.1.525 भी कहा जाता है। काेविड 19 के एटा वैरिएंट में E484K म्यूटेशन मौजूद है। यह म्यूटेशन इससे पहले गामा, जीटा और बीटा वैरिएंट्स में मिला था। लेकिन गामा, बीटा और जीटा में मौजूद N501Y म्यूटेशन एटा वैरिएंट में नहीं है। इससे इसके खतरनाक हाेने की संभावना कम हाे जाती है। साथ ही यह वैरिएंट स्ट्रेन 69 और 70 पर अमीनो एसिड्स हिस्टिडिन और वैलाइन मौजूद नहीं है।

इसे भी पढ़ें - काेराेना वायरस का कप्पा वैरिएंट कितना खतरनाक है? जानें इस वैरिएंट के लक्षण और जरूरी बातें

तीसरी लहर से एटा वैरिएंट का कनेक्शन 

एटा वैरिएंट का मामला आने पर लाेगाें में डर का माहौल है कि कही इस वैरिएंट से देश में तीसरी लहर ताे दस्तक नहीं देगी? लेकिन अभी इसके बारे में कुछ भी कहा जाना मुश्किल है कि एटा वैरिएंट का तीसरी लहर से काेई कनेक्शन है कि नहीं। इसके बारे में अभी रिसर्च जारी है।

कितना खतरनाक है एटा वैरिएंट 

एटा वैरिएंट काेराेना वायरस के डेल्टा प्लस वैरिएंट की तरह खतरनाक नहीं है। क्याेंकि इसे अभी तक वैरिएंट ऑफ कंसर्न की श्रेणी में नहीं रखा गया है। इसे वैरिएंट ऑफ इंटरेस्ट की श्रेणी में रखा गया है। दरअसल, जाे वैरिएंट घातक और खतरनाक हाेते हैं, उन्हें वैरिएंट ऑफ कंसर्न कहा जाता है। जबकि जाे कम घातक या खतरनाक हाेते हैं, उन्हें वैरिएंट ऑफ इंटरेस्ट की श्रेणी में रखा जाता है।

social distancing

(Image Source : LSE Blogs)

एटा वैरिएंट से कैसे करें बचाव

एटा वैरिएंट काेराेना वायरस का ही एक नया म्यूटेशन है। इसलिए इस वैरिएंट से बचने के लिए भी आपकाे काेविड 19 के सभी गाइडलाइंस या नियमाें का पालन करना जरूरी हाेता है। डॉक्टर रमन कुमार बताते हैं कि भले ही इस समय देश की स्थिति में सुधार है, लेकिन आपकाे फिर भी सभी एहतियात बरतने की जरूरत हाेती है। काेराेना वायरस से बचाव के टिप्स-

  • घर से बाहर निकलने में मास्क जरूर लगाएं। बिना मास्क घर से बिल्कुल न निकलें।
  • लाेगाें से अधिक से अधिक दूरी बनाकर रखें। आपकाे इस समय भी साेशन डिस्टेंसिंग जैसे नियमाें का पालन करना जरूरी है।
  • हाथाें काे बार-बार धाेएं या सेनिटाइज करें।
  • बाहर से घर आने पर अच्छी तरह से हाथाें काे धाेएं या नहाएं।
  • शरीर की राेग प्रतिराेधक क्षमता बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थाें का सेवन करें।

काेराेना वायरस के नए-नए वैरिएंट दस्तक दे रहे हैं। इनसे बचने के लिए आपकाे काेराेना वायरस की सभी गाइडलाइंस का पालन करना जरूरी हाेता है।

(Main Image Source : elvocero.com, rotlichtlampe.com)

Read More Articles on Other Diseases in Hindi

Disclaimer