हवा में फैल रहे कोरोना वायरस की बात सरकार मानने को तैयार नहीं, डॉक्टर से जानें इसकी वजह और बचाव के टिप्स

अब कोरोना वायरस के हवा में फैलने के भी सबूत मिले हैं। लेकिन सरकार इस बात को मानने को तैयार नहीं है। ऐसे में कोरोना वायरस से कैसे बचाव किया जा सकता है।

Anju Rawat
Written by: Anju RawatPublished at: Apr 20, 2021Updated at: Apr 21, 2021
हवा में फैल रहे कोरोना वायरस की बात सरकार मानने को तैयार नहीं, डॉक्टर से जानें इसकी वजह और बचाव के टिप्स

दुनिया भर में कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। यह वायरस रुकने का नाम नहीं ले रहा है। देश में हालत इतनी गंभीर है कि पिछले 24 घंटे में 2 लाख 59 हजार 170 मामले सामने आए हैं। इसी बीच एक चौंकाने वाली रिपोर्ट भी सामने आई है, जिसमें कोरोना वायरस के हवा में फैलने की बात कही गई है। हाल ही में मेडिकल जर्नल ‘द लांसेट’ में छपी एक स्टडी में कोरोना वायरस के हवा में फैलने को लेकर भी पक्के सबूत भी मिले हैं। इस स्टडी को देखने के बाद सभी लोगों के मन में अब कोरोना वायरस को एक ज्यादा चिंता और डर बैठ गया है। क्योंकि पहले सामाजिक दूरी से लोग अपना बचाव कर लेते थे, लेकिन अब हवा से फैलने वाले कोरोना वायरस के कैसे बचाव किया जा सकता है, सभी लोगों के मन में यह सवाल पैदा हो रहा है। लेकिन कोरोना वायरस के हवा में फैलने की बात को केंद्र सरकार मानने को तैयार ही नहीं है। सरकार के इस रवैये के बारे में हमने मणिपाल हॉस्पिटल के पल्मोनोलॉजिस्ट डॉक्टर देविंदर कुंद्रा से बात करने की कोशिश की, लेकिन उन्होंने इसका कोई जबाव नहीं दिया।  

corona

डॉक्टर देविंदर कुंद्रा बताते हैं कि कोरोना वायरस हवा में पैदा नहीं होता है, बल्कि इंफेक्टेड व्यक्ति (Infected Person) के झींकने या सांस लेने के दौरान यह हवा में प्रेवश करता है। जिससे दूसरा व्यक्ति इसकी चपेट में आ सकता है। उदाहरण के तौर पर डॉक्टर देविंदर समझाते हैं कि जैसे पार्क में कोई व्यक्ति एक्सरसाइज करता है और वह हमसे काफी दूरी पर होता है, तो हमें लगता है कि अभी मास्क लगाने की जरूरत नहीं है क्योंकि व्यक्ति हमसे काफी दूरी पर है। लेकिन ऐसा करना बिल्कुल गलत है, क्योंकि यह हवा के माध्यम से आप तक पहुंच सकता है। इसलिए घर से बाहर निकलते ही आपको मास्क जरूर लगाना है, चाहे उस जगह पर भीड़-भाड़ हो या नहीं। मास्क ही कोरोना से बचाने में मददगार है।

इसे भी पढ़ें - इस बार मुंह की बूंदों नहीं हवा के जरिये फैल रहा है कोरोना वायरस, मेडिकल जर्नल 'द लांसेट' ने बताए 10 कारण

डबल लेयरिंग मास्क का करें इस्तेमाल (Use Double Layering Mask)

डॉक्टर देविंदर कहते हैं कि अभी तक ज्यादातर लोग कोरोना से बचने के लिए कपड़े का मास्क लगा रहे हैं। लेकिन अब कोरोना के हवा में फैलने की बात सामने आई है, तो कपड़े के मास्क को सुरक्षित नहीं कहा जा सकता है। ऐसे में आप डबल लेयरिंग मास्क का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके लिए आप पहले एक कपड़े का मास्क लगा लें। इसके ऊपर एक सर्जिकल मास्क लगा लें, इससे आप अपना बचाव आसानी से कर सकते हैं। सर्जिकल मास्क का इस्तेमाल 6-7 घंटे से ज्यादा न करें और न ही इसका धो कर दोबारा यूज करें। लेकिन आप कपड़े के मास्क का इस्तेमाल दोबारा कर सकते हैं। इसलिए कपड़े के मास्क के साथ आप सर्जिकल मास्क को बार-बार बदल सकते हैं। यह ज्यादा खर्चाला भी नहीं है। आप चाहें तो N95 या KN95 मास्क भी लगा सकते हैं। इसके एक मास्क का एक ही दिन इस्तेमाल किया जाना चाहिए। इसके इस्तेमाल के बाद इन्हें किसी पेपर से रैप करके फेंक दें। 

सामाजिक दूरी का पालन करें (Social Distancing)

कोरोना वायरस लोगों के संपर्क में आने से होता है, इसलिए आपको भीड़-भाड़ वाली जगहों पर जाने से भी बचना चाहिए। कोरोना वायरस के बचने के लिए सामाजिक दूरी का खास ध्यान रखना चाहिए। उचित होगा कि इस समय आप अपने घर पर ही रहें और बहुत जरूरी हो तो ही घर से बाहर निकलें। 

इसे भी पढ़ें - केंद्र सरकार का बड़ा फैसला, 1 मई से 18 साल से अधिक उम्र के लोग लगा सकते हैं कोरोना का टीका

सैनिटाइजेशन का रखें पूरा ध्यान (Sanitization is Important)

कोरोना वायरस के बचाव के लिए सैनिटाइजेशन भी बहुत जरूरी होता है। भले ही कोरोना के अब हवा में फैलने की बात सामने आ रही है, लेकिन इसमें भी सैनेटाइजर हमारी मदद कर सकता है। सैनेटाइजर कोरोना वायरस के हमारा बचाव करने के लिए एक कारगर हथियार की तरह काम करता है।

corona

कोरोना के हवा में फैलने की बात को जानने के बाद आपको डरने की जरूरत नहीं है। आप सभी कोरोना की गाइडलाइंस का पालन करके कोरोना वायरस से अपना बचाव कर सकते हैं। इस दौरान आपको उचित मास्क, सामाजिक दूरी और सैनिटाइजेशन का पूरा ध्यान रखना है।

Read More Articles on Health News in Hindi

Disclaimer