Weight Loss Tips: तोंद कम करने और वजन घटाने के लिए आजमाएं ये 4 आयुर्वेदिक तरीके

कहने को जितना आसान लगता है कि वजन कम कर लो लेकिन हकीकत में यह उतना आसान नहीं। पेट की चर्बी (Belly Fat) को कम करना वाकई बहुत मुश्किल होता है। लेकिन हमारे पास आपके लिए एक सरल और प्रभावी तरीका है, जो आपको अपना वजन कम (Weight Loss) करने में मदद कर सकत

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtPublished at: Aug 22, 2019Updated at: Aug 22, 2019
Weight Loss Tips: तोंद कम करने और वजन घटाने के लिए आजमाएं ये 4 आयुर्वेदिक तरीके

कहने को जितना आसान लगता है कि वजन कम कर लो, कहां थुलथुला पेट लेकर घूम रहे हो, हकीकत में यह उतना आसान नहीं। पेट की चर्बी को कम करना वाकई बहुत मुश्किल होता है। मोटापे की समस्‍या से परेशान लोग इसकी सच्‍चाई जान सकते हैं। वैसे तो आजकल वजन कम करने के लिए कई एक्‍सरसाइज व डाइट प्‍लान प्रचलन में हैं। हर व्‍यक्ति की अलग जीवनशैली और कुछ स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याएं हैं, जिनकी वजह से कहीं न कहीं वह वजन को कंट्रोल रख पाने के प्रयासों में असफल रहते हैं। इसके अलावा, वजन बढ़ने के पीछे आनुवांशिकी भी एक प्रमुख कारण हो सकता है। लेकिन हमारे पास आपके लिए एक सरल और प्रभावी तरीका है, जो आपको अपना वजन कम करने में मदद कर सकता है।

आयुर्वेद, यह ऐसा विकल्‍प है, जो न केवल आपको जिद्दी बेली फैट को कम करने में मदद करता है, बल्कि आपको कई बीमारियों से भी दूर रखता है। आपका बढ़ता वजन कई बीमारियों को न्‍योता देता है। जिसमें स्ट्रोक, हृदय रोग, डायबिटीज और कैंसर जैसी घातक बीमारी भी शामिल है। आइए हम आपको बताते हैं 5 शक्तिशाली आयुर्वेदिक चीजें, जो तेजी से आपके वजन को कम करने में मदद करेंगी। 

गुग्‍गुल (Guggul)

गुग्‍गुल (Guggul)वजन घटाने के प्रभावी आयुर्वेदिक तरीकों में से एक है। गुग्गुल को आयुर्वेद में काफी गुणकारी माना जाता है। गुग्‍गुल एक पेड़ का नाम है और इससे प्राप्‍त गोंद या लार को भी गुग्‍गुल के नाम से ही जाना जाता है। गुग्‍गुल में प्लांट स्टेरोल, गुग्गुलस्टरोन है, जो वजन घटाने को बढ़ावा देता है। गुग्गुल में ऐसे पदार्थ होते हैं, जो ट्राइग्लिसराइड्स और कोलेस्ट्रॉल को कम करते हैं। गुग्‍गुल पेट की चर्बी, थुलथुली जांघों व हिप्‍स का फैट कम करने में बेहद फायदेमंद है। इसके लिए आप गुग्‍गुल को सुखाकर पीस लें और पाउडर बना लें। इसके बाद आप इस पाउडर को रोजाना 1 चम्‍मच गर्म पानी या दूध के साथ मिलाकर सेवन करें।  

इसे भी पढें: वजन बढ़ाए, दुबलापन दूर करे और तनाव से दिलाए छुटकारा, जानें सफेद मूसली के 5 जबरदस्त फायदे

गार्सिनिया कैम्बोजिया (Garcinia Cambogia)  

गार्सिनिया कैम्बोजिया एक उष्णकटिबंधीय फल है, जिसे मालाबार इमली व ब्रिंडलेबेरी भी कहा जाता है। यह एक फल है, जो छोटे कद्दू की तरह दिखता है। यह फल आपके वजन घटाने में आश्चर्यजनक रूप से काम करता है। यह फल वसा बनाने के लिए शरीर की क्षमता को अवरुद्ध करता है।  Hydroxyxcitric एसिड या Garcinia cambogia अर्क, जो फल में मुख्य घटक है, यह आपके मेटाबॉलिज्‍म को बढ़ावा देता है और भूख को कम करता है। यह फल वजन कम करने के साथ ब्‍लड शुगर लेवल, कोलेस्‍ट्रॉल लेवल और तनाव को कम करने में मदद करने के लिए जाना जाता है।

त्रिफला(Triphala)

अगर आप भी उनमें से एक हैं, तो वजन कम करने के प्रयासों से थक चुके हैं, तो आप भी त्रिफला का सेवन कर सकते हैं। वजन को कम करने का असरदार तरीका है। जैसे कि नाम से ही पता चलता है, त्रिफला तीन सूखे मेवों का मिश्रण है - हरितकी, आंवला और बिभीतकी। त्रिफला काढ़े के सेवन से न केवल आपको वजन कम करने में मदद मिलती है, बल्कि यह कई बीमारियों का इलाज करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। यह हर्बल मिश्रण शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने और आपके पाचन में सुधार करके वजन घटाने को बढ़ावा देने के लिए माना जाता है। क्‍योंकि यह आपके मेटाबॉल्जिम में सुधार कर उसे बढ़ावा देता है। इसलिए 1 गिलास गर्म पानी में 1 चम्‍मच त्रिफला पाउडर डालें और रात भर के लिए छोड़ दे या 1 दो घंटे पहले बना लें। अब आप इस काढ़े को दिन में दो बार - नाश्ते से आधे घंटे पहले यानि खाली पेट और रात के खाने के दो घंटे बाद सेवन कर सकते हैं। 

इसे भी पढें: वजन घटाने व तन-मन को बेहतर बनाती है आयुर्वेदिक डाइट, जाने इसके बेहतरीन लाभ

पुनर्नवा (Punarnava)

आर्युवेद में पुनर्नवा का इस्‍तेमाल कई वर्षों से दवा के तौर पर किया जा रहा है। पुनर्नवा को वैज्ञानिक रूप से बोहराविया डिफ्यूसा (Boerhaavia diffusa)के नाम से जाना जाता है। पुनर्नवा ऐसी आयुर्वेदिक जड़ी-बूटी है, जो तेजी से वजन कम करने के लिए इस्तेमाल की जाती है। इस पौधे में मूत्रवर्धक गुण होते हैं, जो मूत्राशय और गुर्दे को स्वस्थ रखता है। यह लिवर के इन्फेक्शन, गुर्दे की पथरी, गठिया, डायबिटीज में भी सहायक है। 

Read More Article On Ayurveda In Hindi 

Disclaimer