Ayurvedic Diet Benefits : वजन घटाने व तन-मन को बेहतर बनाती है आयुर्वेदिक डाइट, जाने इसके बेहतरीन लाभ

आयुर्वेदिक डाइट आपके शारीरिक व मानसिक स्वास्थ्य में सुधार के साथ आपके वजन को कम करने में भी मददगार है। आजकल कई तरह के डाइट प्‍लान प्रचलन में हैं। लेकिन आर्युवेदिक डाइट में आपके शरीर के अनुसार, आपके खानपान को किया जाता है। आर्युवेदिक डाइट न केव

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtPublished at: Aug 02, 2019
Ayurvedic Diet Benefits : वजन घटाने व तन-मन को बेहतर बनाती है आयुर्वेदिक डाइट, जाने इसके बेहतरीन लाभ

आयुर्वेद और उससे जुड़ी चीजें आपके शरीर और मन में विभिन्न प्रकार की ऊर्जा को संतुलित करने पर केंद्रित है। जिससे आपके शारीरिक व मानसिक स्वास्थ्य में सुधार के लिए अपनाया जाता है। इसके अलावा, यह आपके वजन को कम करने में भी मददगार है। आजकल कई तरह के डाइट प्‍लान प्रचलन में हैं। लेकिन आर्युवेदिक डाइट में आपके शरीर के अनुसार, आपके खानपान को किया जाता है। आर्युवेदिक डाइट न केवल आपके शरीर, बल्कि आपके दिमाग के लिए बेहतर स्वास्थ्य को बढ़ावा देती है। आइए आपको बताते हैं आयुर्वेदिक डाइट क्‍या है और इसके आपके लिए क्‍या-क्‍या फायदे हैं। 

आयुर्वेदिक डाइट क्या है?

आयुर्वेद से जुड़ी लगभग सभी चीजें आपके शरीर और मन के बीच संतुलन को बढ़ावा देने में मदद करती हैं। आयुर्वेद के अनुसार, पांच तत्व ब्रह्मांड बनाते हैं, जिसमें- जल, वायु, आकाश, अग्नि, और पृथ्वी शामिल हैं। इन तत्वों को तीन अलग-अलग दोषों के रूप में माना जाता है, जिन्हें आपके शरीर में तीन ऊर्जाओं के रूप में परिभाषित किया गया है। जिसमें कि प्रत्येक दोष आपके शारीरिक कार्यों के लिए जिम्मेदार होता है। उदाहरण के लिए, पित्त दोष भूख, प्यास और शरीर के तापमान को नियंत्रित करता है और इसी बीच वात दोष इलेक्ट्रोलाइट संतुलन को बनाए रखता है, जबकि कफ दोष शरीर की मजबूती और इम्युनिटी क्षमता बढ़ाने में सहायक होता है। आयुर्वेदिक डाइट आपके तीनों दोषों के बीच संतुलन को बढ़ावा देने के लिए महत्‍वपूर्ण व फायदेमंद होती है, जो कि कुछ विशिष्ट खाद्य पदार्थों पर आधारित है। 

आयुर्वेदिक डाइट कैसे काम करती है?

आयुर्वेदिक डाइट एक प्रकार का डाइट प्‍लान है, जिसमें आपके आपके दोष और शरीर के हिसाब से यह तय होता है, कि आपको कब, कैसे और क्‍या खाना चाहिए। आइए यहाँ हम आपको प्रत्येक दोष के लिए कुछ जरूरी बातें बता रहे हैं, जो यह आपको यह तय करने में मदद करेगी कि आपके लिए क्‍या बेहतर है। 

वात 

रचनात्मक, ऊर्जावान, और जीवंत। इस दोष वाले लोग आमतौर पर थोड़े पतले होते हैं और पाचन संबंधी समस्याओं, थकान या चिंता से जूझ सकते हैं। इस दोष वालों को ड्राई फ्रूट्स, जड़ी-बूटियों और कच्ची सब्जियों के सेवन को कम करना चाहिए और गर्म और ग्राउंडिंग फूड्स का सेवन करें। 

प्रोटीन: सी फूड्स, टोफू। 

डेयरी: दूध, मक्खन, दही, पनीर, घी। 

फल: पूरी तरह से पके, मीठे फल, जैसे कि केला, ब्लूबेरी, स्ट्रॉबेरी, अंगूर, आम, आड़ू और आलूबुखारा।

सब्जियां: शकरकंद, प्याज, मूली, शलजम, गाजर, और हरी बीन्स। 

फलियां: छोले, दाल, मूंग। 

अनाज: पके हुए ओट्स, पके हुए चावल। 

नट और बीज: बादाम, अखरोट, पिस्ता, चिया बीज, और सूरजमुखी। 

जड़ी बूटी और मसाले: इलायची, अदरक, जीरा, तुलसी, लौंग, अजवायन, अजवायन, काली मिर्च। 

इसे भी पढें: वजन बढ़ाए, दुबलापन दूर करे और तनाव से दिलाए छुटकारा, जानें सफेद मूसली के 5 जबरदस्त फायदे

पित्त

बुद्धिमान, परिश्रमी और निर्णायक, इस दोष में आमतौर पर मध्यम शारीरिक निर्माण और अपच के साथ हृदय रोग या हाई ब्‍लड प्रेशर जैसी स्थितियों से पीड़ित हो सकते है। इसलिए पित्त दोष वाले लोगों को तेज मसाले, नट्स, और बीजों को के सेवन को सीमित करना चाहिए। 

प्रोटीन: कम मात्रा में चिकन, अंडे का सफेद भाग, टोफू। 

डेयरी: दूध, घी, मक्खन। 

फल: संतरे, नाशपाती, अनानास, केले, खरबूजे, और आम जैसे मीठे, पूरी तरह से पके हुए फल। 

सब्जियाँ: गोभी, फूलगोभी, अजवाइन, खीरा, तोरी, पत्तेदार साग, शकरकंद, गाजर, स्क्वैश, और ब्रसेल्स स्प्राउट्स और सब्जियाँ। 

फलियां: छोले, दाल, मूंग, लिमा बीन्स, ब्लैक बीन्स, किडनी बीन्स। 

अनाज: जौ, जई, बासमती चावल, गेहूं। 

नट और बीज: कद्दू के बीज, सूरजमुखी के बीज, नारियल। 

जड़ी-बूटी और मसाले: काली मिर्च, जीरा, दालचीनी, सीताफल, हल्दी। 

कफ

स्वाभाविक रूप से शांत और वफादार। इस कफ दोष वाले लोगों में अक्सर मोटापा, वजन बढ़ने, अस्थमा, डिप्रेशन या डायबिटीज की समस्या हो सकती है। कफ दोष वालों को फल, सब्जियों और फलियों के सेवन केसाथ नट्स, बीज और तेल जैसे वसायुक्‍त खाद्य पदार्थों के सेवन को सीमित करना चाहिए। इसके अलावा, तीनों ही दोष के लिए रेड मीट व प्रोसेस्‍ड फूड्स के सेवन को सीमित करना चाहिए। 

प्रोटीन: चिकन, सी फूड्स, अंडे की जर्दी। 

डेयरी: बकरी का दूध, सोया मिल्क। 

फल: सेब, ब्लूबेरी, नाशपाती, अनार, चेरी, और सूखे फल जैसे किशमिश, अंजीर। 

सब्जियां: शतावरी, पत्तेदार साग, प्याज, आलू, मशरूम, मूली, भिंडी। 

फलियां: कोई भी, जिसमें काले बीन्स, छोले, दाल, और नौसेना सेम शामिल हैं। 

अनाज: जई, राई, एक प्रकार का अनाज, जौ, मक्का, बाजरा। 

नट और बीज: कद्दू के बीज, सूरजमुखी के बीज। 

जड़ी बूटी और मसाले: जीरा, काली मिर्च, हल्दी, अदरक, दालचीनी, तुलसी, अजवायन। 

इसे भी पढें: डायबिटीज और किडनी रोगियों के लिए वरदान है 'बिच्‍छू बूटी' की चाय, जानें इस जड़ी-बूटी के 5 फायदे

आयुर्वेदिक डाइट के फायदे 

  • पूरे खाद्य पदार्थों को प्रोत्साहित करता है
  • आयुर्वेदिक डाइट में फल, सब्जियां, अनाज और फलियां जैसे पौष्टिक खाद्य पदार्थ शामिल हैं, जो आपके स्वास्थ्य को के लिए काफी लाभदायक होते हैं, क्योंकि ये खाद्य पदार्थ कई आवश्यक पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं।
  • इसमें प्रोसेस्‍ड फूड्स के सेवन को भी कम किया जाता है, जिनमें अक्सर फाइबर और महत्वपूर्ण विटामिन और खनिज की कमी होती है। अध्ययनों से पता चलता है कि अधिक मात्रा में प्रोसेस्‍ड फूड्स के सेवन से हृदय रोग, कैंसर, और यहां तक कि मृत्यु का खतरा भी बढ़ जाता है।
  • आयुर्वेदिक डाइट पुरानी बीमारी से बचाने और बेहतर स्वास्थ्य को बढ़ावा देने में मदद मिलती है। 
  • आयुर्वेदिक डाइट पोषक तत्वों से भरपूर खाद्य पदार्थों पर जोर दिया जाता है, जो कि आपके वजन घटाने में भी मददगार है। अध्ययन में पाया गया कि एक आयुर्वेदिक डाइट के साथ व्‍यायाम से 9 महीने में औसतन 6 किलो वजन कम किया जा सकता है। 
  • आयुर्वेदिक डाइट  शरीर के वजन को कम करने, डिप्रेशन, तनाव और बार-बार भूख लगने या खाने की इच्‍छा कम करता है। 

Read More Article On Ayurveda In Hindi

Disclaimer