क्‍या प्रेगनेंसी के दौरान वजाइनल डिस्‍चार्ज नॉर्मल है? एक्‍सपर्ट से जानें इसके कारण, लक्षण और 6 घरेलू उपाय

वजाइनल ड‍िस्‍चार्ज प्रेगनेंसी में एक बड़ी परेशानी है, इससे वजाइनल इंफेक्‍शन भी हो सकता है। इसका जल्‍द से जल्‍द इलाज करवाएं। 

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Feb 11, 2021Updated at: Feb 11, 2021
क्‍या प्रेगनेंसी के दौरान वजाइनल डिस्‍चार्ज नॉर्मल है? एक्‍सपर्ट से जानें इसके कारण, लक्षण और 6 घरेलू उपाय

प्रेगनेंसी में वजाइनल ड‍िस्‍चार्च क्‍यों होता है? आपके मन में भी ये सवाल उठता होगा। बहुत सी मह‍िलाओं को सफेद ड‍िस्‍चार्ज की समस्‍या होती है पर वो इसे शर्म के कारण छुपाती हैं। प्रेगनेंसी का समय बहुत नाजुक होता है। इस समय शरीर की रोग प्रत‍िरोधक क्षमता बहुत कमजोर हो जाती है इसल‍िए इस दौरान कई बीमार‍ियां शरीर पर हमला करती हैं ज‍िनमें से एक है वजाइनल ड‍िस्‍चार्ज। इसे हम मेड‍िकल भाषा में ल‍िकोर‍िया कहते हैं। वजाइना महिलाओं की बॉडी में बहुत सेंसेट‍िव पार्ट होता है इसल‍िए आपको इससे जुड़ी परेशानी पर तुरंत ध्‍यान देना चाह‍िए। खुजली, पानी आना ल्‍यूकोर‍िया के लक्षण हो सकते हैं। इससे आगे चलकर वजाइनल इफेक्‍शन हो सकता है इसल‍िए खुद पर ध्‍यान दें। आज हम आपको बताएंगे क‍ि प्रेगनेंसी के दौरान वजाइनल ड‍िस्‍चार्ज के कारण और इलाज। इस पर ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने स‍िल्‍वर जुबली सीएचसी की मेड‍िकल सुप्रीटेन्‍डेंट डॉ प्र‍ियंका यादव से बात की। 

vaginal discharge in pregnancy

प्रेगनेंसी में सफेद ड‍िस्‍चार्ज की समस्‍या को कैसे पहचानें? (How to identify leucorrhea)

बहुत सी मह‍िलाओं में वजाइनल ड‍िस्‍चार्ज या सफेद पानी की समस्‍या होती है। इसमें प्राइवेट पार्ट से स्‍मेल भी आ सकती है। इस बीमारी को हम ल‍िकोर‍िया कहते हैं। इसमें सफेद ड‍िस्‍चार्च के साथ रैश, फोड़ा या जलन भी हो सकती है। ज्‍यादातर मह‍िलाएं प्रेगनेंसी के आख‍िरी तीन महीने में वजाइनल ड‍िस्‍चार्ज की श‍िकायत करती हैं। इस पर गर्भस्‍थ श‍िशु पूरी तरह से तैयार हो चुका होता है। श‍िशु के वजन का भार यूट्रस पर पड़ता है और ड‍िस्‍चार्ज की समस्‍या बढ़ जाती है। प्रेगनेंसी के दौरान कभी भी सफेद पानी की समस्‍या हो सकती है इसल‍िए सर्तक रहें। 

प्रेगनेंसी में क्‍यों होता है वजाइनल ड‍िस्‍चार्ज? (Causes of vaginal discharge during pregnancy)

प्रेगनेंसी में वजाइनल ड‍िस्‍चार्ज का कारण हार्मोनल बदलाव हो सकते हैं। प्रेगनेंसी में हार्मोन्‍स चेंज होना आम है पर आपको ध्‍यान देना है क‍ि इससे शरीर में कोई बड़ा बदलाव न आ रहा हो। हॉर्मोन के कारण यीस्‍ट सेल बढ़ जाते हैं। इससे पीएच बैलेंस ब‍िगड़ता है। सर्व‍िक्‍स में क‍िसी तरह का बदलाव भी वजाइनल ड‍िस्‍चार्ज का कारण हो सकता है। लोअर एब्‍डोम‍िनल में क‍िसी भी तरह का दर्द हो तो डॉक्‍टर को द‍िखाएं। सर्व‍िक्‍स का साइज चौड़ा होने के कारण भी सफेद पानी की समस्‍या हो सकती है। 

प्रेगनेंसी में वजाइनल ड‍िस्‍चार्ज से कैसे बचें? (Treatment of vaginal discharge during pregnancy)

harmones can cause white discharge

सफेद ड‍िस्‍चार्ज की समस्‍या से बचने के ल‍िए सबसे पहला तरीका है सफाई। आप प्राइवेट पार्टस को क्‍लीन रखें। अगर आपको अपने अंडर गॉर्मेंट्स अक्‍सर गीले लगते हैं तो आपको डॉक्‍टर के पास जाने की जरूरत है। ड‍िस्‍चार्ज के साथ स्‍मेल की समस्‍या भी हो सकती है इसल‍िए द‍िन में 2 से 3 बार अंडर गॉर्मेंट्स को बदलें। आपको प्राइवेट पार्टस की सफाई के ल‍िए माइल्‍ड साबुन का इस्‍तेमाल करना है। हॉर्श कैम‍िकल युक्‍त साबुन यूज न करें। इसके साथ ही कॉटन के अंडर गॉर्मेंट्स ही पहनें। इसके अलावा आपको अपनी डाइट पर भी ध्‍यान देना है। द‍िन में कम से कम 2 से 3 लीटर पानी प‍िएं। आपको सफेद पानी की समस्‍या होने पर डॉक्‍टर से संपर्क करना चाह‍िए। यीस्‍ट इंफेक्‍शन के कारण भी ये समस्‍या हो सकती है। इसके ल‍िए डॉक्‍टर आपको एंटीफंगल क्रीम दे सकते हैं। इसमें एंटीबॉयोट‍िक दवाएं भी दी जाती हैं। अगर बैक्‍टेर‍ियल इंफेक्‍शन है तो आप एंटीबायोट‍िक दवाएं भी डॉक्‍टर की सलाह पर ले सकते हैं। 

इसे भी पढ़ें- प्रेगनेंसी में होता है पेट दर्द तो हल्के में न लें ये 7 लक्षण, हो सकती है गंभीर बीमारी

प्रेगनेंसी में सफेद ड‍िस्‍चार्ज रोकने के घरेलू उपाय (Home remedies to get rid of vaginal discharge)

1. केला (Banana)

अगर आपको प्रेगनेंसी के दौरान सफेद ड‍िस्‍चार्च की समस्‍या होती है तो उसे रोकने के ल‍िए रोज सुबह एक पका हुआ केला खाएं। आप अगर सादा केला नहीं खा सकतीं तो उसे घी, चीनी या गुड़ के साथ भी खा सकती हैं। केला वजाइना से जुड़ी समस्‍याओं में फायदेमंद होता है। इससे हान‍िकारक तत्‍व बाहर न‍िकल जाते हैं। 

2. मेथीदाना (Methi dana) 

प्रेगनेंसी में सफेद डिस्‍चार्ज की समस्‍या को खत्‍म करने के ल‍िए मेथी का इस्‍तेमाल करें। इससे एस्‍ट्रोजन हार्मोन कंट्रोल रहता है।  2 चम्‍मच मेथीदाना लें उसे पानी में उबाल लें। इस पानी को छानकर ठंडा होने के ल‍िए रख दें। जब पानी ठंडा हो जाए तो उसे पी लें। इससे वजाइना का पीएच बैलेंस रहेगा और सफेद ड‍िस्‍चार्च की समस्‍या खत्‍म होगी। 

3. आंवला (Amla)

ठंड के द‍िनों में आंवला खूब खाया जाता है पर क्‍या आपको पता है क‍ि प्रेगनेंसी के दौरान सफेद ड‍िस्‍चार्च की समस्‍या को भी आंवला खत्‍म करता है। जी हां। आंवला व्‍हाइट ड‍िस्‍चार्ज को रोकता है। आपको आंवला पाउडर में शहद म‍िलाकर गाढ़ा पेस्‍ट बनाना है। इस पेस्‍ट को द‍िन में 2 बार खाएं। दूसरा तरीका है क‍ि एक कप पानी में आंवला पाउडर उालें और पानी को आधा होने तक उबालें। इसमें शहद म‍िलाकर रोज खाली पेट प‍िएं तो फायेदा होगा।

इसे भी पढ़ें-  शिशु को बीमारियों से बचाता है मां का दूध, एक्सपर्ट से जानें ब्रेस्टफीडिंग का सही तरीका

4. चावल (Rice)

rice can cure white discharge

अगर आप इस मौसम में प्रेगनेंसी से गुजर रही हैं और सफेद ड‍िस्‍चार्ज की समस्‍या अक्‍सर रहती है तो आप चावल का इस्‍तेमाल करें। ठंड के द‍िनों में चावल से बना काढ़ा प‍िएं तो वजाइनल समस्‍या दूर होगी। पानी में चावल को उबाल लें। उबले हुए चावल का पानी प‍ियें। चावल के पानी में जंबुल के बीज का पाउडर भी डालकर प‍िएं तो जल्‍द बीमारी दूर होगी। 

5.धन‍िया (Coriander)

व्‍हाइट ड‍िस्‍चार्ज की समस्‍या से छुटकारा पाने के ल‍िए आप धन‍िया के बीजों को रातभर भिगोकर रख दें। सुबह उठकर इसके पानी को खाली पेट पी लें। आपको पानी को छानकर पीना है। इससे शरीर के व‍िषैले तत्‍व बाहर न‍िकल जाएंगे और आपकी परेशानी दूर होगी। 

6. सेब का स‍िरका (Apple cider vinegar)

सेब का स‍िरका शरीर का पीएच बैलेंस मेनटेन करता है। इसमें एंटीसेप्‍ट‍िक गुण पाए जाते हैं। अगर आपको वजाइना से सफेद ड‍िस्‍चार्ज की समस्‍या है तो आप रोज सेब के स‍िरके का सेवन करें इससे ड‍िस्‍चार्ज और स्‍मेल दोनों दूर होगी। आप एपल व‍िनेगर को सुबह के समय लें तो फायेदा होगा। 

इन उपायों से आप वजाइनल ड‍िस्‍चार्ज से न‍िजात पा सकते हैं पर समस्‍या बढ़ने पर र‍िस्‍क न लें और डॉक्‍टर से संपर्क करें। 

Read more on Women Health in Hindi

Disclaimer