तुलासन करने के फायदे और सही तरीका

तुलासन करना सेहत के लिए काफी फायदेमंद होता है। यहां जानें इससे होने वाले फायदे और करने का सही तरीका। 

 
Kunal Mishra
Written by: Kunal MishraUpdated at: Sep 07, 2021 09:52 IST
तुलासन करने के फायदे और सही तरीका

स्वस्थ रहने के लिए योग और एक्सरसाइज करना कितना जरूरी है यह तो आप सभी जानते होंगे। ऐसे बहुत से योगासन हैं जिनके बारे में हम शायद ही जानते होंगे। क्या आपने कभी तुलासन के बारे में सुना है? अगर नहीं, तो इस लेख के माध्यम से हम आपको तुलासन से सेहत को होने वाले कुछ फायदों और इस आसन को करने के तरीके के बारे में बताएंगे। दरअसल, यह आसन आपके हाथ, पैर और हिप्स को मजबूत बनाने के लिए काफी मददगार साबित होता है। इस आसन को करने से आपकी पाचन संबंधी परेशानियां दूर होने के साथ ही हाथ की भुजाएं, बाजू और हिप्स के आस-पास की मसल्स में स्ट्रेंथ आती है। यह आपकी शरीर से एक्सट्रा फैट को बर्न करने पर भी प्रतिक्रिया करता है। चलिए जानते हैं तुलासन करने के कुछ फायदे और करने के तरीके के बारे में।  

insomnia

1. अनिद्रा में मददगार (Helps in Insomnia)

तुलासन आपको चैन की नींद देने में भी कारगर साबित होता है। अनिद्रा आज के समय में किसी समस्या से कम नहीं है। तुलासन करने से आप अधिक कैलरी बर्न करते हैं। यह आपको जल्दी थकाती है हालांकि इसे करने से आपका स्टैमिना बूस्ट और मसल्स रिलैक्स होती हैं। लगभग 10 मिनट तक इसका नियमित अभ्यास करने से आपकी अनिद्रा की समस्या पर विराम लग सकता है और आप एक चैनभरी नींद लेते हैं। 

इसे भी पढ़ें - विपरीत करनी आसन से दूर होती हैं पीठ, पेट और कमर की परेशानियां, एक्सपर्ट से जानें करने का तरीका और सावधानियां

2. ब्लड सर्कुलेशन को करे बेहतर (Improves Blood Circulation)

शरीर को स्वस्थ रखने के लिए शरीर के तमाम हिस्सों में ब्लड सर्कुलेट होना आवश्यक होता है। शरीर में खराब ब्लड फ्लो होने से न सिर्फ त्वचा का रंग फीका पड़ता है बल्कि एनर्जी का स्तर भी धीमा पड़ जाता है। तुलासन करने से पेट और हिप के आस-पास के हिस्सों में रक्त का बहाव सुचारू रूप से होता है। इस आसन को करने से मुख्य रूप से आपके हिप्स पर दबाव पड़ता है, जिससे पेल्विक एरिया में रक्त का बहाव तेज होता है। यही नहीं इस आसन के अभ्यास से आपके हिप्स की मसल्स भी मजबूत होती है। 

3. कंधे और भुजाएं होती हैं मजबूत (Makes Shoulders and Arms Strong) 

तुलासन का अभ्यास करना मुख्य रूप से आपके कंधों और भुजाओं को मजबूत बनाता है। दरअसल, तुलासन करने के दौरान आपका सारा भार आपके कंधों और भुजाओं पर ही होता है, जिससे मसल्स के टिशू सक्रिय होते हैं और मांसपेशियों में खिंचाव और मजबूती आती है। अगर आप नियमित रूप से कुछ समय तक यह आसन करते हैं तो इससे आपकी ट्राइसेप्स भी जनरेट होती है। साथ ही हाथों को एक बेहतर पकड़ यानि ग्रिप मिलती है।   

इसे भी पढ़ें - सुखासन योग करने से क्या फायदे मिलते हैं और इसे कैसे किया जाता है? एक्सपर्ट से जानें इस योगासन के बारे में

4. पाचन तंत्र दुरुस्त करे (Improves Digestion)

अगर आपको पाचन संबंधी समस्या है तो आप इस आसन को कर सकते हैं। यह आपके एबडोमिनल पेन और डाइजेस्टिव सिस्टम में हो रही समस्याओं पर जल्दी प्रतिक्रिया करता है। वहीं यह आपके पेट के आस-पास की मांसपेशियों को इंप्रूव करने के साथ ही एबडॉमिनल एरिया में रक्त संचार को भी सुचारू रूप से करता है। यही नहीं इससे आपका वजन भी कम होता है साथ ही शरीर में जमा एक्सट्रा फैट भी बर्न होता है। 

tulasana

तुलासन करने का सही तरीका (Way to do Tulasana)

  • तुलासन करना काफी आसान है, लेकिन इसे थोड़ी सावधानी के साथ किया जाए तो बेहतर है। 
  • तुलासन करने के लिए सबसे पहले पद्मासन की अवस्था में बैठें। 
  • इस स्थिति में बैठने के साथ ही एक लंबी गहरी श्वास लें। 
  • अब अपने हाथों पर जोर देते हुए अपने कूल्हों को उपर की ओर उठाएं। इस स्थिति में आपके पैर मुड़े और कूल्हों के साथ उठे होने चाहिए। 
  • अब इस मुद्रा को लगभग 3. सेकेंड तक रोककर रखें। 
  • लीजिए आपकी तुलासन की मुद्रा बनकर तैयार है। 

तुलासन का अभ्यास करना सेहत के लिए काफी फायदेमंद होता है। इस लेख में दिए गए तरीकों से आप इसका अभ्यास कर सकते हैं। 

Read more Articles on Yoga in Hindi 

Disclaimer