नई रिसर्च! बिना किसी साइड इफेक्‍ट के दर्द से राहत दिलाएगा मकड़ी का जहर, शोध में हुआ खुलासा

टारेंटयुला मकड़ी का जहर ओपियोड दर्द निवारक के लिए एक बेहतर और सुरक्षित विकल्प साबित हो सकता है। यह नए शोध में पाया गया है। 

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtPublished at: Apr 17, 2020
नई रिसर्च! बिना किसी साइड इफेक्‍ट के दर्द से राहत दिलाएगा मकड़ी का जहर, शोध में हुआ खुलासा

दर्द सबसे आम स्वास्थ्य समस्‍याओं में से एक है, जिससे हर कोई संबंधित हो सकता है। हम सभी विभिन्न प्रकार के दर्द से पीड़ित हैं, वह आंतरिक हो या बाहरी। जो दर्द की तीव्रता को सहन नहीं कर सकते वे पेन किलर या ओपियोड लेते हैं, जिन दवाओं में दर्द से राहत देने वाले गुण होते हैं। हालांकि, इस हालिया अध्ययन का कहना है कि टारेंटयुला मकड़ी का जहर ओपियोड दर्द के लिए एक संभावित विकल्प हो सकता है। यह सुनने में अजीब लगता है, लेकिन दावे बहुत मजबूत हैं। आइए यहां आगे जानिए कैस? 

क्‍या कहती है रिसर्च? 

जर्नल ऑफ बायोलॉजिकल केमिस्ट्री ने अपने हालिया अध्ययन में इसे प्रकाशित किया। इस अध्ययन के अनुसार, मकड़ी (टारेंटयुला) के जहर ने नशे के बिना किसी साइड-इफ़ेक्ट के प्रभावी दर्द निवारक गुण दिखाए हैं। यह थोड़ा अजीब है कि कोई कैसे दर्द में राहत पाने के लिए मकड़ी के जहर का सेवन कर सकता है, लेकिन यह पुराने दर्द को तुरंत कम करने में मदद कर सकता है।

क्वींसलैंड विश्वविद्यालय, ब्रिस्बेन, ऑस्ट्रेलिया ने इस शोध को अंजाम दिया और टारेंटयुला स्पाइडर वेनम यानि मकड़ी के जहर से एक नोवल मिनी-प्रोटीन डिजाइन किया, जो प्रभावी रूप से गंभीर और पुराने दर्द में राहत पहुंचा सकता है। ओपियोड की लत के विपरीत, यह व्यक्ति को व्यसनी यानि आदि महसूस नहीं कराता है। यह शोध अफ़ीम के वैश्विक संकट को ध्यान में रखते हुए किया गया था ताकि मॉर्फिन जैसी गुणों वाली दवाओं के लिए सर्वोत्तम संभव विकल्प मिल सकें।

इसे भी पढ़ें: जांघों का मोटापा कम कर सकता है हाई ब्‍लड प्रेशर का खतरा

spider tarantula venom for pain management

टारेंटयुला मकड़ी किसी भी साइड-इफेक्ट का कारण नहीं है

क्वींसलैंड विश्वविद्यालय के बायोसाइंस इंस्टीट्यूट के डॉ. क्रिस्टीना ने कहा, "हालांकि ओपियोड दर्द से राहत देने में प्रभावी हैं, लेकिन यह अवांछित दुष्प्रभाव जैसे मतली, कब्ज और नशे के खतरे के साथ आते हैं और समाज पर बहुत बड़ा बोझ डालते हैं।" अध्ययन में पाया गया कि चीनी बर्ड स्‍पाइडर से टारेंटयुला वेमन में एक मिनी-प्रोटीन है, जिसे हुवेंटोक्सिन-IV के रूप में जाना जाता है, यह शरीर में दर्द रिसेप्टर्स को बांधता है।

उन्‍होंने कहा, "मिनी-प्रोटीन, इसके रिसेप्टर और मकड़ी के जहर से आस-पास की झिल्ली को शामिल करने वाली हमारी ड्रग डिज़ाइन में तीन-आयामी दृष्टिकोण का उपयोग करके, हमने इस मिनी-प्रोटीन को बदल दिया है। जिसके परिणामस्वरूप विशिष्ट दर्द रिसेप्टर्स के लिए अधिक शक्ति और विशिष्टता है।" यह सुनिश्चित करता है कि मिनी-प्रोटीन की सही मात्रा केवल रिसेप्टर और दर्द रिसेप्टर के आसपास की कोशिका झिल्ली से जुड़ी हो। "

इसे भी पढ़ें: स्वाइन फ्लू से 10 गुना ज्यादा जानलेवा है कोरोना वायरस, WHO ने बताया कई देशों में 3-4 दिन में डबल हो रहे मरीज

चूहों पर किया गया अध्‍ययन ला परीक्षण माउस

spider tarantula venom

डॉ। क्रिस्टीना ने बताया कि टारेंटयुला जहर से प्राप्त मिनी-प्रोटीन का समापन होने से पहले चूहों के एक मॉडल में परीक्षण किया गया था। इसने उनमें सकारात्मक परिणाम दिखाए हैं, यही वजह है कि हमें विश्वास है कि यह मनुष्यों के लिए भी प्रभावी साबित होगा। "हमारे निष्कर्ष संभावित रूप से साइड-इफेक्ट्स के बिना दर्द के इलाज के एक वैकल्पिक तरीके को जन्म दे सकते हैं और दर्द से राहत के लिए कई व्यक्तियों की ओपियोड दवाओं पर रहने की निर्भरता को कम कर सकते हैं।" 

Read More Article On Health News In Hindi

Disclaimer