वजन कम करने की 'मॉर्डन डाइट' है नींद, इसकी वजह बता रही हैं डॉ. स्‍वाति बाथवाल

डॉ. स्‍वाति बाथवाल कहती हैं कि, अगर आप वजन कम करना चाहते हैं तो आपके लिए पर्याप्‍त नींद बहुत जरूरी है।

स्वाती बाथवाल
Written by: स्वाती बाथवालPublished at: Feb 05, 2020Updated at: Feb 05, 2020
वजन कम करने की 'मॉर्डन डाइट' है नींद, इसकी वजह बता रही हैं डॉ. स्‍वाति बाथवाल

क्या आपने कभी सोचा है कि अच्छी नींद लेने से आप अपना वजन कम कर सकते हैं? वजन घटाने के लिए हम अक्‍सर सुनते हैं कि एक्‍सरसाइज और कैलोरी काउंट, लो कार्बोहाइड्रेट, हाई प्रोटीन डाइट बेस्‍ट है, लेकिन नींद, खुद को स्‍वस्‍थ रखने का एक सीक्रेट तरीका है। जब हम कहते हैं कि अच्छी तरह से सोने से हमारी सेहत पर बड़ा फर्क पड़ता है, तो हमारे कहने का मतलब है:  

दरअसल, अच्‍छी नींद लेने से पेट की चर्बी कम होती है और वजन कम होता है और हमारी इम्युनिटी बढ़ती है। यह समय से पहले आने वाले बुढ़ापे की संभावना को कम करता है और संपूर्ण स्वास्थ्य में सुधार करता है। हालांकि, यह हमारी नींद की गुणवत्ता पर निर्भर करता है, कि हम कितने घंटे सोते हैं। हमें सोने का समय बढ़ाने से ज्‍यादा जरूरी है कि हम सोने की गुणवत्‍ता पर काम करें।

weight-loss 

जब हम अच्‍छी नींद ले रहे होते हैं तो घ्रेलिन नामक हार्मोन रिलीज होता है जो हमारे अधिक खाने की इच्‍छा को नियंत्रित करता है। इसलिए हमें भूख नहीं लगती है। इसलिए, जब हम अच्‍छी तरह से नींद नहीं ले रहे होते हैं हार्मोन असंतुलित हो जाता है, जिसके कारण हमें भूख ज्‍यादा लगती है और हम अधिक मात्रा में भोजन कर लेते हैं, जिससे नींद प्रभावित होती है। तो क्‍या आपने महसूस किया है कि जब आप अच्‍छी नींद नहीं ले पाते हैं तो आप अधिक भोजन के लिए उत्‍साहित होते हैं।

इसे भी पढ़ें: वजन घटाना है तो सिर्फ गेहूं ही नहीं, इन 3 की तरह की रोटियां भी खाएं

मस्तिष्क और शारीर से कनेक्‍शन 

जब हम सो रहे होते हैं तो हमारा दिमाग डिटॉक्स होता है, और हमारी लसीका प्रणाली (हमारे शरीर का ड्रेनेज सिस्टम) अच्छा काम करती है। जब हम सो रहे होते हैं तो हमारा मस्तिष्क विषाक्त पदार्थों को बाहर निकाल देता है। नींद के दौरान, ह्यूमन ग्रोथ हार्मोन (Human growth hormone) शरीर को ठीक करने और मांसपेशियों की मरम्मत और बढ़ने में मदद करता है। तो यह बॉडी बिल्डरों के लिए बहुत अच्छी बात हो सकती है।

sleep

हमारा नींद चक्र (Sleep cycle) स्वाभाविक रूप से सूर्य के प्रभाव से संतुलित है। सूर्यास्त के बाद, हमारे शरीर में मेलाटोनिन नामक एक प्राकृतिक हार्मोन स्रावित होता है। यह रात के समय पीक पर होता है। यह हार्मोन हमारे शरीर में नींद को प्रेरित करता है, और जब सुबह होती है तो मेलाटोनिन के स्तर को बढ़ाता है। यदि हम टीवी, लैपटॉप, मोबाइल फोन, आईपैड आदि जैसे आर्टिफिशियल लाइटों को ऑन करते हैं, तो मेलाटोनिन के स्‍तर में कमी आती है, इसलिए, सोने से कम से कम 3 घंटे पहले कृत्रिम लाइटों के इन स्रोतों से बचना चाहिए ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि आपकी नींद की गुणवत्ता ठीक हो।

इसे भी पढ़ें: आपका ध्यान भले इन पर न जाए, मगर आपके मोटापे का कारण हो सकते हैं ये 6 अजीब कारण

इसलिए, यदि आप उस पेट की चर्बी से छुटकारा चाहते हैं और इसके साथ ग्‍लोइंग स्किन, मांसपेशियों का निर्माण और बढ़ती उम्र को रोकना चा‍हते हैं तो आपको अच्छी नींद लेनी चाहिए। दिन में 7-8 घंटे की नींद से ज्‍यादा आवश्यक है कि आपकी नींद की गुणवत्‍ता कितनी अच्‍छी है। तो कुल मिलाकर निष्‍कर्ष यह है कि, खुद को शेप में रखना चाहते हैं तो अच्‍छी नींद जरूरी है। 

Read More Articles On Weight Management In Hindi

Disclaimer