Weight loss: वजन घटाना है तो सिर्फ गेहूं ही नहीं, इन 3 की तरह की रोटियां भी खाएं

जब बात वजन घटाने की आती है, तो आप अपने रोटी बनाने के तरीके में बदलाव करके इसे अच्छे विकल्प बना सकते हैं।

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: Jan 26, 2020Updated at: Jan 26, 2020
Weight loss: वजन घटाना है तो सिर्फ गेहूं ही नहीं, इन 3 की तरह की रोटियां भी खाएं

उत्तर भारतीयों के लिए रोटी रोज के भोजन का एक अभिन्न हिस्सा है। यह गोल पकवान भारतीय उपमहाद्वीप के अधिकांश हिस्सों में एक प्रधान भोजन है और सब्ज़ियों से लेकर कोरमा तक सब कुछ के लिए सबसे अच्छी संगत है।यह कोई आश्चर्य नहीं है कि भारतीय उपमहाद्वीप के कई हिस्सों में पैकेज्ड, सस्ती ब्रेड रोटियों के साथ एक बड़ी प्रतियोगिता का सामना कर रहे हैं। लेकिन पर जब भी बात स्वस्थ खाने की होती है, तो रोटी सबसे आगे निकल जाती है।रोटियां बनाने के लिए, आपको वास्तव में आटा बनाने की प्रक्रिया से गुजरना होगा, इसे समान रूप से रोल करना होगा, और फिर इसे पकाना होगा। वहीं ऐसी सैकड़ों किस्में हैं, जिनमें दुनिया भर में ब्रेड बनाने के लिए आटा, पानी और सीज़निंग को एक साथ लाया जाता है। रोटी उनमें से सिर्फ एक है।वजन कम करने की कोशिश करते समय पहली चीज हम सबसे पहले रोटी और चावल खाना बंद कर देते हैं, जो बिलकुल ही गलत है। जबकि हर राज्य की रोटी का अपना संस्करण है, सबसे आम गेहूं की रोटी है। 

inside-rotis

रोटी के फायदे

रोटी के कई प्राकृतिक लाभ हैं। रोटी में एक अच्छी मात्रा में फाइबर पाया जाता है, जो पाचन तंत्र के लिए अच्छा होता है। वहीं रोटी आमतौर पर खमीर के साथ बनाई जाए तो ये पेट के लिए और बेहतर हो सकता है। आपको रोटी पसंद हो, लेकिन पचाने में मुश्किल हो ऐसे में आपको इसे बनाने में अलग-अलग विधियों का इस्तेमाल करना चाहिए। रोटी एक और खास बात ये भी है कि इसमें कई तरह के पोषक तत्व भी पाए जाते हैं।

इसे भी पढ़ें : वजन कम करने में मदद करते हैं भूख को दबाने वाले ये फूड्स, शरीर को मिलते हैं और 3 फायदे

वजन घटाने वाले 3 तरह की रोटियां

चोकर के साथ गेहूं की रोटी

गेहूं की रोटी में कार्ब्स, आयरन, नियासिन, विटामिन बी 6, थायमिन और कैल्शियम होता है, जबकि चोकर फाइबर से भरपूर होता है। दोनों को मिलाने से बड़ी आंत की बीमारियों को रोकने में मदद मिल सकती है, जो कब्ज, चिड़चिड़ा आंत्र सिंड्रोम, उच्च कोलेस्ट्रॉल, मधुमेह और यहां तक कि उच्च रक्तचाप के इलाज में भी सहायक है। इस तरह के आटे में उच्च सामग्री फाइबर होते हैं और ये आपको लंबे समय तक फुलर रखने में मदद कर सकता है। वहीं इस तरह से आपके वजन घटाने में मददगार साबित हो सकता है।

चना अटा के साथ मल्टीग्रेन रोटी

हालांकि कई लोग पारंपरिक गेहूं के आटे से हेल्दी रहने के लिए मल्टीग्रेन आटे की ओर बढ़ गए हैं। लेकिन मल्टीग्रेन आटे में कुछ और चने के आटे को शामिल करने से यह वजन घटाने के लिए एकदम सही हो सकता है। वहीं चना में कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स होता है, जो शरीर में चीनी की धीमी गति से कैलोरी को जलाने की प्रक्रिया को तेज करता है। अपने नियमित रूप से इस्तेमाल होने वाले आटे या मल्टीग्रेन अटा में चने का आटा डालकर इस्तेमाल करें, तो ये और पौष्टिक बन सकता है। वहीं आप इसे कई तरह से इस्तेमाल कर सकते हैं। आप सिर्फ चने की रोटी बनाकर भी ब्रेकफास्ट में खा सकते हैं, जो आपको दिन भर के लिए आपको एनर्जी देगा और हल्का भी महसूस करेंगे।

इसे भी पढ़ें : वजन कम करने में इन 5 तरीकों से फायदेमंद है Paleo diet, तेजी से घटेगी पूरे शरीर की चर्बी

सत्तू वाली रोटी

क्या आप जानते हैं कि सत्तू का सेवन बिहार, झारखंड और पश्चिम बंगाल के कुछ हिस्सों में किया जाता है। सत्तू रोटी के बारे में सबसे अच्छी बात यह है कि यह स्वादिष्ट होने के साथ-साथ स्वास्थ्यवर्धक भी है। सत्तू प्रोटीन से भरा होता है, जो आपको अधिक समय तक भरा हुआ रखने में मदद करता है और इस तरह वजन घटाने को बढ़ावा देता है। हम सभी अपना वजन कम करने की कोशिश करते हुए अधिक से अधिक प्रोटीन प्राप्त करने का प्रयास करते हैं, इससे बेहतर तरीका क्या हो सकता है कि यह आपकी डाइट में सत्तू वाली रोटी को एड करें।

Read more articles on Weight Management in Hindi

Disclaimer