किडनी की पथरी के 7 प्रमुख शुरूआती और गंभीर लक्षण, जानें एक्सपर्ट डॉक्टर से

गुर्दे की पथरी यानि किडनी स्टोन की बीमारी में मरीज को 7 प्रमुख और शुरूआती लक्षण दिखते हैं, एक्सपर्ट डॉक्टर से जानें इनके बारे में।

Prins Bahadur Singh
Reviewed by: डॉ.नितिन श्रीवास्तवUpdated at: Aug 09, 2021 13:10 ISTWritten by: Prins Bahadur Singh
किडनी की पथरी के 7 प्रमुख शुरूआती और गंभीर लक्षण, जानें एक्सपर्ट डॉक्टर से

गुर्दे की पथरी यानि किडनी स्टोन एक गंभीर बीमारी है। किडनी की पथरी होने पर मरीज को गंभीर दर्द का सामना करना पड़ता है और यह स्थिति इतनी गंभीर होती है कि मरीज को मेडिकल इमरजेंसी की जरूरत पड़ जाती है। किडनी स्टोन से पीड़ित व्यक्तियों को पथरी की वजह से दर्द और इसके लक्षण दिखने पर अस्पताल जाने की जरूरत पड़ती है। ऐसी स्थिति में यह जानना जरूरी है कि किडनी स्टोन यानि गुर्दे की पथरी के लक्षण क्या हैं? इस समस्या से ग्रसित होने पर कौन से लक्षण शरीर में दिखाई दे सकते हैं? अगर आपको किडनी स्टोन की समस्या में दिखने वाले लक्षणों के बारे में जानकारी होगी तो आप समय पर इलाज और परामर्श लेकर इमरजेंसी की स्थिति से बच सकते हैं। किडनी स्टोन की समस्या में दिखने वाले प्रमुख लक्षणों के बारे में जानकारी दे रहे हैं दिल्ली एनसीआर के प्रसिद्ध यूरोलॉजिस्ट और किडनी ट्रांसप्लांट एक्सपर्ट डॉक्टर नितिन श्रीवास्तव (Dr. Nitin Shrivastava)। आइये जानते हैं किडनी स्टोन की समस्या में दिखने वाले प्रमुख लक्षणों के बारे में।

किडनी स्टोन या गुर्दे की पथरी में दिखने वाले 7 प्रमुख लक्षण (7 Symptoms of Kidney Stones We All Must Know)

किडनी स्टोन की समस्या में मरीज को यूरोलॉजिस्ट से सलाह जरूर लेनी चाहिए। इसके लक्षण दिखने पर तुरंत इलाज फायदेमंद होता है। इस समस्या का समय पर इलाज न होने की स्थिति में मरीज को कई परेशानियां झेलनी पड़ सकती हैं। डॉ नितिन श्रीवास्तव के मुताबिक किडनी की पथरी में दिखने वाले प्रमुख लक्षण इस प्रकार से हैं।

1. पेट के किसी एक साइड में दर्द (Pain in The Sides)

किडनी स्टोन यानि गुर्दे की पथरी में दर्द आमतौर पर पेट के निचले हिस्से में किसी भी तरफ हो सकता है। यह दर्द आपके बाईं तरफ या दाहिने तरफ होता है। यह दर्द पथरी के स्थान के हिसाब से होता है। अगर आपको पथरी की समस्या गुर्दे (किडनी) में है तो यह दर्द आपके पीठ की और निचले हिस्से में महसूस होगा। इस समस्या में आपको पीठ के दाहिने या बाएं हिस्से में तेज चुभन के साथ दर्द होगा। यही पथरी जब नीचे की तरफ की पाइप में चली जाती है तो इस स्थिति में आपको नीचे की तरफ ग्रोइन एरिया में दर्द महसूस होगा, इस पाइप को मूत्रवाहिनी कहा जाता है। गुर्दे की पथरी में होने वाला दर्द अचानक से शुरू होता है और यह कुछ समय बाद अपने आप या दवाओं के सेवन से ठीक हो जाता है। यह गंभीर दर्द कोलिकी फैशन में होता है जो अचानक से शुरू होगा और खत्म होने के कुछ देर बाद फिर से शुरू हो जायेगा। गुर्दे की पथरी में होने वाला दर्द आपकी पीठ के निचले हिस्से में कमर के पास तक हो सकता है। जब स्टोन पाइप में नीचे मूत्राशय के पास चला जाता है तो ऐसी स्थिति में दर्द कमर में या उसी तरफ के अंडकोष में या पेनिस की टिप पर महसूस होता है। अगर आपको इस प्रकार से दर्द की सस्य हो रही है या ऐसे लक्षण दिखते हैं तो जरूर मूत्र रोग विशेषज्ञ से परामर्श लेना चाहिए।

इसे भी पढ़ें : नई तकनीक से सफल होगा किडनी ट्रांसप्लांट, जानें मरीजों के लिए कैसे फायदेमंद है फ्लूइड मैनेजमेंट तकनीक

Signs-and-Symptoms-of-Kidney-Stones

(Image Source - Freepik.com)

2. उल्टी (Vomiting)

किडनी स्टोन की समस्या में उल्टी की समस्या भी हो सकती है, विशेष रूप से जब स्टोन पाइप में नीचे चला जाता है और इसकी वजह से यूरिन का फ्लो बाधित होता है। पेशाब रुकने से किडनी में सूजन की समस्या हो जाती है और पेशाब एक जगह इकट्ठा हो जाता है। इस स्थिति में मरीज को दर्द और उल्टी की समस्या होती है। किडनी स्टोन की वजह से मरीज को या तो उल्टी जैसा महसूस होता है या गंभीर रूप से उल्टी हो सकती है। ऐसी स्थिति में मरीज तरल पदार्थ, दवाएं या यहां तक कि भोजन भी नहीं ले पाता है। मरीज को अस्पताल में भर्ती करने पर उसे एंटीबायोटिक दवाओं के साथ नसों के माध्यम से तरल पदार्थ, ग्लूकोज और दर्द निवारक दवाएं दी जाती हैं।

इसे भी पढ़ें : किडनी में कैंसर आम और गंभीर बीमारी है, जानें किडनी के कैंसर से कैसे करें बचाव?

3. पेशाब में खून आना (Blood in Urine)

किडनी स्टोन की समस्या में मरीज को पेशाब से खून आने की समस्या होती है। किडनी की पथरी के कारण कभी-कभी पेशाब से खून आने की समस्या गंभीर हो जाती है जिसे मरीज खुद देख सकता है लेकिन कुछ मामलों में इसका देखने पर पता नहीं चलता लेकिन यूरिन टेस्ट से पता लगाया जाता है। पेशाब में खून किडनी में मौजूद पथरी या मूत्रवाहिकाओं में मौजूद पथरी की वजह से आता है। कभी-कभी पेशाब से खून आने की समस्या बहुत गंभीर हो जाती है और आमतौर पर इसके साथ दर्द भी होता है। अगर किसी भी व्यक्ति को पेशाब के साथ खून आने की साइड में दर्द की समस्या होती है तो यह किडनी या यूरेटरल स्टोन का लक्षण माना जाता है।

इसे भी पढ़ें : क‍िडनी की दुश्‍मन हैं ये 4 ड्रिंक्स, बंद करें सेवन नहीं तो डैमेज हो सकती है किडनी

Signs-and-Symptoms-of-Kidney-Stones

(Image Source - Freepik.com)

4. पेशाब करने में दिक्कत (Difficulty in Passing Urine)

किडनी स्टोन या गुर्दे की पथरी की समस्या में मरीज को पेशाब से जुड़ी कई समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है, खासतौर पर जब पथरी नीचे पेशाब की नली में चली जाती है। ऐसी स्थिति में रोगी को बार-बार पेशाब आने की समस्या होती है लेकिन पेशाब करते समय उसे दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। इस स्थिति में मरीज को अचानक पेशाब लगता है और कभी-कभी अंडरगारमेंट में ही यूरिन लीक हो जाता है। अगर पथरी किसी भी व्यक्ति के मूत्राशय के आसपास या मूत्राशय में हो या पेशाब की नली में हो तो मरीज को पेशाब के दौरान गंभीर जलन और दर्द का सामना करना पड़ता है। यूरिन पास करने में जलन होना भी यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन का लक्षण हो सकता है जो कभी-कभी स्टोन के कारण भी होता है।

इसे भी पढ़ें : कोरोना वायरस किडनी को कैसे करता है प्रभावित, डॉक्टर से जानें किडनी को स्वस्थ रखने के टिप्स

Signs-and-Symptoms-of-Kidney-Stones

(Image Source - Freepik.com)

5. यूरिन के निकास में कमी (Decreasing Urine Output)

यह लक्षण किडनी स्टोन के मरीजों में देखा जाने वाला एक दुर्लभ लक्षण है। मरीजों के यूरिन आउटपुट में कमी ऐसी स्थिति में होती है जब स्टोन दोनों किडनी या पेशाब की नली में मौजूद होता है। इस स्थिति में मरीज के दोनों किडनी से यूरिन बाहर नहीं जा पाता या इसके निष्कासन में बाधा उत्पन्न होती है। इस स्थिति में मरीज को 24 घंटे में कम मूत्र उत्पादन दिखाई देगा। एक्सपर्ट के मुताबिक ऐसा तब भी हो सकता है जब स्टोन एक ही किडनी में मौजूद हो और दूसरी किडनी सही तरीके से काम न कर पा रही हो। इस स्थिति को मेडिकल इमरजेंसी माना जाता है और ऐसे में मरीज को तुरंत अस्पताल ले जाने की जरूरत होती है। ऐसी स्थिति में किडनी फेलियर का खतरा रहता है इसलिए चिकित्सक यूरिन को बाहर निकलने के लिए इलाज करते हैं। 

इसे भी पढ़ें : गुर्दे की पथरी (किडनी स्टोन) से बचाव के 10 उपाय, जानें एक्सपर्ट डॉक्टर से

6. यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन या बुखार (Urinary Tract Infection or Fever)

गुर्दे की पथरी की समस्या में विशेष रूप से पथरी जो सतह पर चिकनी होती है, में यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन की स्थिति होती है। स्टोन के चिकने होने की वजह से किडनी के अंदर जलन, उल्टी और दर्द बहुत कम होता है लेकिन यह स्टोन यूरिन इंफेक्शन का कारण होती है। जब पेशाब की नली में किसी तरह की रुकावट होती है तो यह संक्रमण गंभीर हो सकता है और इस स्थिति में मरीज को तेज बुखार और ठंड लगने की समस्या होती है। अगर आप किडनी स्टोन की समस्या से ग्रसित हैं और यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन की वजह से आपको बुखार हो रहा है तो यह एक गंभीर स्थिति होती है। इस स्थिति में पेशाब में रुकावट फ्रैंक मवाद पैदा कर सकता है जिससे ब्लड में भी गंभीर संक्रमण फैल सकता है जिसे सेप्सिस कहा जाता है। अगर आपको किडनी स्टोन की समस्या में बुखार का भी सामना करना पड़ रहा है तो जल्द से जल्द यूरोलॉजिस्ट से परामर्श लेना चाहिए। 

7. बिना लक्षण वाले किडनी स्टोन (Asymptomatic Kidney Stones Found on Investigations)

जब किडनी में मौजूद पथरी की सतह बहुत चिकनी होती है तो इसकी वजह से आपको दर्द या उल्टी की समस्या नहीं होती है। लेकिन ये स्टोन आपकी किडनी को धीरे-धीरे नुकसान पहुंचाते हैं जिसे ब्लड टेस्ट के बाद देखा जा सकता है। इस स्थिति में सीरम क्रिएटिनिन का स्तर बढ़ता है और अल्ट्रासाउंड के बाद किडनी में स्टोन का पता चलता है। इसलिए यदि आपको अल्ट्रासाउंड के बाद गुर्दे की पथरी का पता चला है औरआपको कोई दर्द नहीं हो रहा लेकिन पथरी की वजह से आपकी किडनी में सूजन और सीरम क्रिएटिनिन का स्तर बढ़ने की समस्या हो रही है तो ऐसे में आपको तुरंत मूत्र रोग विशेषज्ञ से संपर्क करना चाहिए। इस स्थिति में रोकथाम नहीं किये जाने पर किडनी के फेल होने का खतरा रहता है।

Signs-and-Symptoms-of-Kidney-Stones

(Image Source - Freepik.com)

इसे भी पढ़ें : एक्सपर्ट से जानें किडनी स्टोन से जुड़ी 9 भ्रामक बातें (मिथक) और उनकी सच्चाई

ऊपर बताये गए सभी लक्षण किडनी की पथरी में दिखने वाले सामान्य और शुरूआती लक्षण हैं। हमारे देश भारत में किडनी स्टोन के मरीज लगातार बढ़ रहे हैं। कुछ लोगों में यह समस्या ऐसे स्टेज पर हो रही है जब पहले से ही उनके किडनी में नुकसान हो चुका है। अगर आपको भी ऐसे लक्षण दिखाई दे रहे हैं या आपके रूटीन ब्लड टेस्ट और अल्ट्रासाउंड की रिपोर्ट्स में असमानता दिखाई दे रही है तो समय पर मूत्र रोग विशेषज्ञ (यूरोलॉजिस्ट) से परामर्श जरूर लेना चाहिए। क्योंकि समय पर इसका पता लगाकर इलाज करने से समस्या को खत्म किया जा सकता है और आपके गुर्दे को भी गंभीर नुकसान से बचाया जा सकता है। 

(Main Image Source - Freepik.com)

Read More Articles on Other Diseases in Hindi

Disclaimer