इन कारणों से होती है किडनी में सूजन की समस्या, जानें लक्षण और इलाज

किडनी में सूजन की समस्या (नेफ्राइटिस) कई कारणों से हो सकती हैं, विशेषज्ञ डॉक्टर से जानें इसके कारण, लक्षण और इलाज के बारे में।

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghUpdated at: Jul 28, 2021 02:44 IST
इन कारणों से होती है किडनी में सूजन की समस्या, जानें लक्षण और इलाज

किडनी (Kidney) हमारे शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग है। शरीर में यूरिन निर्माण से लेकर खून में मौजूद अपशिष्ट पदार्थों और शरीर के विषाक्त पदार्थों बाहर करने का काम किडनी का ही होता है। खानपान और जीवनशैली के साथ कुछ प्रकार के इंफेक्शन की वजह से किडनी में सूजन की समस्या होती है। इस समस्या को अंग्रेजी में नेफ्राइटिस कहा जाता है। किडनी में सूजन की समस्या कई प्रकार की होती है और इनमें से कुछ अचानक से भी विकसित हो सकती हैं। हालांकि ज्यादातर मामलों में किडनी से जुड़ी पुरानी बीमारियों की वजह से सूजन की समस्या देखने को मिलती है। किडनी में सूजन की समस्या को ग्लोमेरुलोनेफ्राइटिस भी कहा जाता है। किडनी में सूजन होने की समस्या (Kidney Swelling Nephritis) में इसके फिल्टर में सूजन आ जाती है, इस समस्या को हल्के में नहीं लेना चाहिए। दिल्ली के अपोलो हॉस्पिटल में कार्यरत वरिष्ठ नेफ्रोलॉजिस्ट डॉ डी के अग्रवाल के मुताबिक इस समस्या को नजरअंदाज करना जानलेवा हो सकता है। किडनी में सूजन होने पर उसके लक्षणों को समझते हुए नेफ्रोलॉजी की मदद से इससे निजात पाया जा सकता है।

किडनी में सूजन की समस्या के प्रकार (Types of Kidney Swelling or Nephritis)

Kidney-Swelling-Nephritis-Causes-Symptoms-and-Treatment

किडनी में सूजन की समस्या कई तरह की होती है। सूजन किस तरह से किडनी को प्रभावित करती है उसके आधार पर इसे बांटा गया है। किडनी में मौजूद  ग्लोमेरुली, ट्यूबल, मध्य गुर्दे ऊतक आदि इस समस्या से अधिक प्रभावित होते हैं। किडनी में सूजन की समस्या पुरानी बीमारी और किडनी इंफेक्शन के कारण भी हो सकती है। किडनी में सूजन या नेफ्राइटिस के प्रकार ये हैं।

इंटरस्टीशियल नेफ्राइटिस (Interstitial Nephritis)

इंटरस्टीशियल नेफ्राइटिस किडनी की नलिकाओं यानि नेफ्रोन में होने वाली सूजन की स्थिति को कहा जाता है। इस समस्या में किडनी के नलिकाओं के बीच सूजन आने की समस्या होती है। 

ग्लोमेरुलोनेफ्राइटिस (Glomerulonephritis)

ग्लोमेरुलोनेफ्राइटिस की समस्या में किडनी की सूक्ष्म कोशिकाएं प्रभावित होती हैं। किडनी की कोशिकाएं खून को फिल्टर करने का काम करती हैं और सूजन आने पर ये कोशिकाएं ठीक ढंग से अपना काम नहीं कर पाती हैं।

इसे भी पढ़ें : गर्मियों में क्यों बढ़ जाता है किडनी की पथरी का दर्द, एक्सपर्ट से जानें लक्षण और बचाव के उपाय

पायलोनेफ्राइटिस (Pyelonephritis)

किडनी का काम शरीर में यूरिन का निर्माण कर उसे बाहर निकालने के लिए मूत्राशय तक भेजना होता है। किडनी शरीर में मौजूद विषाक्त पदार्थों को भी फिल्टर कर बाहर निकालने का काम करती है। पायलोनेफ्राइटिस की समस्या में मूत्राशय और किडनी में सूजन होती है।

इसे भी पढ़ें : कोरोना वायरस किडनी को कैसे करता है प्रभावित, डॉक्टर से जानें किडनी को स्वस्थ रखने के टिप्स

Kidney-Swelling-Nephritis-Causes-Symptoms-and-Treatment

किडनी में सूजन की समस्या के कारण ( Kidney Swelling or Nephritis Causes)

नेफ्राइटिस या किडनी में सूजन की समस्या के कई कारण हो सकते हैं। आनुवंशिक कारणों से भी यह समस्या जन्म ले सकती हैं। इसके अलावा दवाओं का सेवन, किडनी में इंफेक्शन और एचआईवी जैसे रोग या हेपेटाइटिस की वजह से भी किडनी में सूजन की समस्या होती है। कुछ मामलों में किडनी में सूजन की समस्या के पीछे एंटीबायोटिक दवाओं का सेवन भी प्रमुख कारण बनता है। इन दवाओं के अधिक सेवन की वजह से किडनी को नुकसान होता है, जिसकी वजह से किडनी में सूजन की समस्या देखी जाती है। किडनी में सूजन की समस्या के प्रमुख कारण इस प्रकार से हैं।


Kidney-Swelling-Nephritis-Causes-Symptoms-and-Treatment

किडनी में सूजन की समस्या के लक्षण (Kidney Swelling or Nephritis Symptoms)

आमतौर पर शुरुआत में किडनी में सूजन होने की समस्या के कोई गंभीर लक्षण देखने को नहीं मिलते हैं लेकिन जैसे-जैसे ही यह समस्या बढ़ती जाती है इसके लक्षण भी बढ़ना शुरू होते हैं। किडनी में सूजन होने की समस्या में तुरंत इलाज की जरूरत होती है इस समस्या का समय पर इलाज न होने की स्थिति में किडनी में गंभीर दिक्कतें आ सकती हैं। किडनी में सूजन यानि नेफ्राइटिस की समस्या में दिखने वाले प्रमुख लक्षण इस प्रकार से हैं। 

  • पेशाब करने की आदतों में बदलाव
  • शरीर के कई हिस्सों में सूजन
  • पेशाब के रंग में बदलाव
  • पेशाब में खून आने की समस्या
  • बुखार और मतली की समस्या
  • किडनी में और इसके आसपास के हिस्से में दर्द
  • झाग के साथ पेशाब आना
  • ब्लड प्रेशर हाई होना
  • मानसिक स्थिति में परिवर्तन

किडनी में सूजन की समस्या का इलाज (Kidney Swelling or Nephritis Treatment)

नेफ्राइटिस यानि किडनी में सूजन की समस्या में डॉक्टर स्थिति और सूजन की गंभीरता के अनुसार इलाज करते हैं। कुछ मामलों में दवा के साथ कुछ थेरेपी लेने की जरूरत भी पड़ सकती है। हालांकि सामान्य कारणों से किडनी में सूजन आने की समस्या कुछ समय में बिना इलाज के भी ठीक हो सकती है। लेकिन इसके लक्षण दिखने पर डॉक्टर से संपर्क जरूर करना चाहिए। इसके अलावा नेफ्राइटिस की समस्या के इलाज के लिए चिकित्सक कुछ दवाएं और खानपान में विशेष परहेज की हिदायत देते हैं। हाई ब्लड प्रेशर और किडनी में सूजन को कम करने वाली दवाओं के साथ चिकित्सक भोजन में सोडियम, पोटैशियम और प्रोटीन के कम सेवन की सलाह भी देते हैं। 

किडनी में सूजन की समस्या में बचाव (How to Prevent Kidnet Swelling or Nephritis)

हालांकि किडनी में सूजन यानि नेफ्राइटिस की समस्या में रोकथाम हर मामले में संभव नहीं है।  लेकिन आप अपने खापान और जीवनशैली में सुधार कर इस समस्या से बचने में सफल हो सकते हैं। किडनी में सूजन की समस्या से बचने के लिए इन बातों को ध्यान में रखना महत्वपूर्ण है। 

  • वजन पर नियंत्रण रखने से किडनी से जुड़ी बीमारियां कम होती हैं। संतुलित वजन बनाये रखने से किडनी में सूजन की समस्या से बचा जा सकता है। 
  • किडनी में सूजन की समस्या से बचने के लिए शराब के सेवन और धूम्रपान से बचें, इनकी वजह से किडनी को नुकसान होता है। 
  • हाई ब्लड प्रेशर और डायबिटीज की समस्या की वजह से भी किडनी में सूजन की समस्या हो सकती हैं इसलिए शरीर में ब्लड शुगर और ब्लड प्रेशर को संतुलित बनाये रखें। 
  • सोडियम की कम मात्रा वाले खाद्य पदार्थों का सेवन कर आप इस समस्या से बच सकते हैं। 
  • किडनी को प्रभावित करने वाली दवाओं का सेवन न करें। अगर जरूरी है तो इसके लिए अपने चिकित्सक की सलाह जरूर लें। 
Kidney-Swelling-Nephritis-Causes-Symptoms-and-Treatment
 

इसके अलावा आप किडनी के लिए फायदेमंद फूड्स का सेवन करें। पेशाब और मल त्याग करने के बाद अपने प्राइवेट पार्ट्स को अच्छी तरह से साफ करें और बैक्टीरिया के संक्रमण से किडनी को बचाकर रखें। इन सभी उपायों से आप अपनी किडनी को हेल्दी रख सकते हैं और किडनी में सूजन की समस्या से बच सकते हैं। किडनी में सूजन की समस्या से जुड़े लक्षण दिखने पर तुरंत चिकित्सक के पास जाएं और उचित जांच के बाद इलाज जरूर लें। इस समस्या को अनदेखा करना जानलेवा हो सकता है। 

Read More Articles on Other Diseases in Hindi

Disclaimer