क्या थायराइड रोगियों को चावल नहीं खाना चाहिए? डॉक्टर से जानें इसके नुकसान और जरूरी सावधानियां

अगर आप भी थायराइड के मरीज हैं तो क्‍या आपके ल‍िए चावल खाना सेहतमंद है या नहीं ये जानने के ल‍िए पूरा लेख पढ़ें

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Sep 22, 2021
क्या थायराइड रोगियों को चावल नहीं खाना चाहिए? डॉक्टर से जानें इसके नुकसान और जरूरी सावधानियां

ज्‍यादातर घरों में लगभग हर द‍िन चावल बनता है पर क्‍या आपको पता है क‍ि थायराइड के दौरान चावल खाना हान‍िकारक हो सकता है। चावल खाने से कैलोरीज बढ़ती है ज‍िसके चलते थायराइड और ब्‍लड शुगर लेवल में भी बदलाव आता है। ज‍िन लोगों को पहले से ही ये गंभीर बीमार‍ियां हैं उन्‍हें चावल का सेवन करते समय कुछ सावधान‍ियों का ध्‍यान रखना चाह‍िए। अगर आप रोजाना चावल खाते हैं तो मोटापे का श‍िकार हो जाएंगे और वजन बढ़ने पर कई बीमार‍ियां शरीर को बीमार कर देती हैं। इस लेख में हम ये जानेंगे क‍ि क्‍या थायराइड के मरीजों को चावल खाना चाह‍िए या नहीं और अगर खाना है तो क‍िन बातों का ध्‍यान रखना चाह‍िए। इस व‍िषय पर ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के वेलनेस डाइट क्‍लीन‍िक की डाइटीश‍ियन डॉ स्‍म‍िता सिंह से बात की।

rice in thyroid

(image source:grain.com)

क्‍या थायराइड में चावल खाना चाह‍िए? (Can you eat rice in thyroid) 

डॉ स्‍म‍िता स‍िंह ने बताया क‍ि थायराइड में आपको चावल ब‍िल्‍कुल नहीं खाना चाह‍िए। अगर आप चावल के शौकीन हैं तो अपनी डाइट में सफेद चावल की जगह ब्राउन राइस एड कर सकते हैं। बहुत से लोग थायराइड में भी चावल खाते हैं, लेकि‍न एक्‍सपर्ट इसका सेवन करने की राय नहीं देते। चावल में ग्‍लूटेन प्रोटीन होता है जो थायराइड के दौरान आपके ल‍िए हान‍िकारक हो सकता है। ग्‍लूटन एक ऐसा प्रोटीन है जो बॉडी में मौजूद एंटीबॉडीज को कम देता है और ग्‍लूटन के कारण थायरॉक्‍स‍िन हार्मोन के अन‍ियम‍ित होने की समस्‍या भी होती है।

इसे भी पढ़ें- क्या चावल को अच्छे से न पकाकर खाने से बढ़ता है कैंसर का खतरा? जानें इस पर डायटीशियन की राय और नई रिसर्च

थायराइड में चावल क्‍यों नुकसानदायक है? (Side effects of eating rice in thyroid) 

  • चावल में स्‍टार्च की मात्रा ज्‍यादा होती है ज‍िससे चावल जल्‍दी पच जाता है और आपको ज्‍यादा भूख लगती है। 
  • चावल में फैट की मात्रा भी रोटी के मुकाबले ज्‍यादा होती है, अगर आप थायराइड जैसी बीमारी के मरीज हैं तो चावल अवॉइड करें।
  • चावल में कॉर्बोहाइड्रेट की मात्रा कम और कैलोरीज ज्‍यादा होती हैं जबक‍ि रोटी में चावल के मुकाबले कम कैलोरीज होती हैं। 
  • चावल खाने से मेटाबोलिक स‍िंड्रोम हो सकता है ज‍िससे शरीर में थायराइड के साथ-साथ टाइप 2 डायब‍िटीज और स्‍ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है। 
  • लंबे समय तक चावल खाने से थायराइड मरीजों का वजन बढ़ेगा ज‍िससे ब्‍लड शुगर और ब्‍लड प्रेशर भी बढ़ सकता है।

इसे भी पढ़ें- ये है बचे हुए चावल को दोबारा इस्तेमाल करने का पारंपरिक तरीका, एसिडिटी और अपच जैसी समस्याएं रहेंगी दूर

रोटी चावल से ज्‍यादा हेल्‍दी होती है (Roti vs Rice)

रोट में कैल्‍श‍ियम, फॉस्‍फोरस, आयरन, पोटैश‍ियम की मात्रा चावल से ज्‍यादा होती है जबक‍ि चावल में ये म‍िनरल कम पाए जाते हैं। रोटी में चावल के मुकाबले माइक्रोन्‍यूट्र‍िएंट्स औश्र फाइबर की ज्‍यादा मात्रा होती है ज‍िससे इसल‍िए आपको सही डाइट में चावल की जगह रोटी को प्राथम‍िकता देनी चाह‍िए।

थायराइड में चावल खाते समय ये सावधान‍ियां बरतें (Precautions while eating rice in thyroid)

thyroid diet

(image source:seriouseats.com)

अगर आपको थायराइड की बीमारी है या थायराइड के लक्षण हैं पर आप चावल खाने के शौकीन हैं तो इन सावधान‍ियों को बरतें जैसे आप प्‍लेन जीरा राइस या सादे चावल की जगह सब्‍ज‍ियों से बना पुलाव खा सकते हैं जिससे चावल की मात्रा कम हो और सब्‍ज‍ियों के जरिए फाइबर आपके शरीर में ज्‍यादा जाए। आप म‍िक्‍स सब्‍ज‍ियों के साथ ब्राउन राइस या रेड राइस को खा सकते हैं। अगर आप सादे चावल खा रहे हैं तो उसके साथ राजमा, छोले, मटर ले सकते हैं। चावल को प्‍लेन खाने के बजाय प्रोटीन युक्‍त सब्‍ज‍ियों के साथ खाएं। चावल को पकाते समय उसमें एक चम्‍मच नार‍ियल का तेल म‍िला दें और उसे फ्र‍िज में रख दें फ‍िर ठंडा होने पर इस्‍तेमाल करें तो चावल का मांड शरीर में जाकर फाइबर का काम करेगा और उसकी कैलोरीज भी घट जाएंगी। 

अगर आप थायराइड जैसी बीमारी के मरीज हैं तो अपनी डाइट और द‍िनचर्या के बारे में डॉक्‍टर से बात करें और अपना डाइट चार्ट तैयार करें।

(main image source:orissapost.com,epicurious.com)

Read more on Healthy Diet in Hindi

Disclaimer