क्या कच्चे स्प्राउट्स (अंकुरित मूंग, चना) खाने के कुछ नुकसान भी हैं? जानें डायटीशियन से

कच्चे स्प्राउट्स खाने से आपको पेट दर्द, दस्‍त, उल्‍टी आद‍ि की शिकायत हो सकती है इसल‍िए इन्‍हें खाने से पहले डॉक्‍टर से सलाह लें

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Jun 25, 2021Updated at: Jun 25, 2021
क्या कच्चे स्प्राउट्स (अंकुरित मूंग, चना) खाने के कुछ नुकसान भी हैं? जानें डायटीशियन से

क्‍या स्‍प्राउट्स को कच्‍चा खाना चाह‍िए? अंकुर‍ित मूंग या स्‍प्राउट्स के फायदों के बारे में हम सब जानते हैं पर इसे कच्‍चा खाने से कई समस्‍याएं हो सकती हैं जैसे- पेट में दर्द, पेट में ऐंठन, उल्‍टी, डायर‍िया आद‍ि। कच्‍चे स्‍प्राउट्स का सेवन करने से पहले आपको अपने डॉक्‍टर से सलाह जरूरी लेनी चाह‍िए। अगर आप स्‍प्राउट्स का सेवन कर रहे हैं तो कुछ बातों का ध्‍यान रखना चाह‍िए जैसे स्‍प्राउट्स को फ्र‍िज में स्‍टोर करें, स्‍प्राउट्स को धोकर खाएं, केवल कुरकुरे स्‍प्राउट्स ही खरीदें। अगर स्‍प्राउट्स का रंग काला हो या उनसे स्‍मेल आ रही हो तो स्‍प्राउट्स का इस्‍तेमाल न करें। ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए लेख अंत तक पढ़ें और इस व‍िषय पर ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के वेलनेस डाइट क्‍लीन‍िक की डायटीशियन डॉ स्‍म‍िता सिंह से बात की।

risks of eating sprouts

कच्‍चे स्‍प्राउट्स के सेवन से क्‍यों बचना चाह‍िए? (Why we should avoid raw sprouts)

अंकुर‍ित मूंग को गरम और ह्यूम‍िड तापमान म‍िलने के कारण उसमें बैक्‍टीर‍िया पनप जाते हैं इसल‍िए उन्‍हें कच्‍चा खाने की सलाह नहीं दी जाती है और हर चीज के फायदे और नुकसान दोनों होते हैं इसल‍िए हम स्‍प्राउट्स से होने वाले नुकसान को नजरअंदाज नहीं कर सकते। अकैडमी ऑफ न्यूट्रिशन एंड डायटेटिक्स के शोध के मुताब‍िक स्‍प्राउट्स में नमी के कारण ई कोली, ल‍िस्‍टेर‍िया जैसे बैक्‍टीर‍िया मौजूद होते हैं और ये हमारे शरीर में बीमारी फैलाने का काम करते हैं। स्‍प्राउट्स में मौजूद साल्मोनेला टाइफी बैक्टीरिया, टायफाइड का कारण बन सकता है। लिस्टीरिया बैक्‍टीर‍िया से क‍िडनी से जुड़ी समस्‍या हो सकती है वहीं ई कोली बैक्‍टीर‍िया से यूटीआई का खतरा रहता है।

इसे भी पढ़ें- मूंग दाल स्प्राउट्स खाने के 5 फायदे और रेसिपी

कच्चे स्प्राउट्स या अंकुरित मूंग खाने के नुकसान (Risks of eating raw sprouts)

raw sprouts

स्‍प्राउट्स को पौष्‍ट‍िक माना जाता है पर इनसे होने वाले नुकसान के बारे में भी आपको पता होना चाह‍िए-

  • अगर आप ज्‍यादा स्‍प्राउट्स खा लेंगे तो आपके पेट में दर्द हो सकता है। 
  • कच्‍चे स्‍प्राउट्स खाने से डायर‍िया हो सकता है। 
  • डॉ स्‍म‍िता सिंह ने बताया क‍ि कच्‍चे स्‍प्राउट्स खाने से कुछ लोग पेट में ऐंठन की श‍िकायत करते हैं। 
  • ज्‍यादा अंकुर‍ित मूंग खाने से उल्‍टी की समस्‍या हो सकती है। 
  • गैस्ट्रिक अल्सर के मरीज हैं तो आपको डॉक्‍टर से सलाह लेकर ही स्‍प्राउट्स का सेवन करना चाह‍िए।
  • कुछ डॉक्‍टर्स मानते हैं क‍ि स्‍प्राउट्स खाने से फूड पॉइजन‍िंग हो सकती है। 
  • स्‍प्राउट्स खाने से फूड पॉइजन‍िंग होने पर आपको 12 से 72 घंटे में आपको डायर‍िया, पेट दर्द, उल्‍टी की श‍िकायत हो सकती है। 
  • छोटे बच्‍चे, गर्भवती मह‍िलाओं और बूढ़े लोगों को स्‍प्राउट्स को अच्‍छी तरह से पकाकर ही खाना चाह‍िए, अन्‍यथा अवॉइड करें।

इसे भी पढ़ें- सुबह नाश्‍ते में अंकुरित अनाज का सेवन करने से नहीं बढ़ता मोटापा, कम होता है हार्टअटैक का खतरा

कच्चे स्प्राउट्स या अंकुरित मूंग खाते समय क‍िन बातों का ध्‍यान रखें? (Precaution tips while eating raw sprouts)

स्‍प्राउट्स खाते समय आपको कुछ बातों का ध्‍यान रखना चाह‍िए जैसे-

  • अगर आप मूंग स्‍प्राउट्स खा रहे हैं तो उसे अच्‍छी तरह से पका लें, ताक‍ि अंदर कोई बैक्‍टीर‍िया मौजूद न रहे। 
  • आपको ऐसे स्‍प्राउट्स नहीं खाने चाह‍िए जो द‍िखने में काले हों या ज‍िनसे स्‍मेल आ रही हो। 
  • कुरकुरे द‍िखने वाले स्‍प्राउट्स के दानों को खाने के ल‍िए चुनें।
  • स्‍प्राउट्स का इस्‍तेमाल करने से पहले आपको हमेशा अपने हाथों को अच्‍छी तरह से साफ करना है ताक‍ि बैक्‍टीर‍िया आपके हाथों पर न च‍िपके। 
  • फ्र‍िज के तापमान पर रखे हुए स्‍प्राउट्स की बाजार से खरीदें और उन्‍हें लाकर भी आप फ्र‍िज में रख दें। 
  • स्‍प्राउट्स को खरीदकर ज्‍यादा समय के ल‍िए न रखें, इन्‍हें धोकर उबाल लें और जल्‍दी इस्‍तेमाल कर लें।
  • डॉ स्‍म‍िता सिंह ने बताया क‍ि स्‍प्राउट्स रखने के ल‍िए फ्र‍िज का तापमान 48 ड‍िग्री या 8 ड‍िग्री सेल्‍श‍ियस होना चाह‍िए।
  • अगर स्‍प्राउट्स कुरकुरे न हों या उनकी एक्‍सपायरी डेट करीब हो तो उसे न खाएं।

स्‍प्राउट्स पौष्‍ट‍िक होता है पर इसको ज्‍यादा खा लेने से आपकी तबीयत ब‍िगड़ सकती है इसल‍िए अपने डायट एक्‍सपर्ट या डॉक्‍टर से सलाह लेकर ही इनका सेवन करें।

Read more on Healthy Diet in Hindi 

Disclaimer