बच्चेदानी निकलवाने से शरीर को हो सकते हैं ये 10 नुकसान, जानें हिस्टेरेक्टॉमी से जुड़े अन्य खतरे

 बच्चेदानी निकलवाना स्वास्थ्य से जुड़ी कुछ गंभीर स्थितियां पैदा कर सकती हैं। तो, आइए जानते हैं हिस्टेरेक्टॉमी के बाद शरीर को होने वाले कुछ नुकसान।

सम्‍पादकीय विभाग
महिला स्‍वास्थ्‍यWritten by: सम्‍पादकीय विभागPublished at: Aug 08, 2018Updated at: Dec 30, 2021
बच्चेदानी निकलवाने से शरीर को हो सकते हैं ये 10 नुकसान, जानें हिस्टेरेक्टॉमी से जुड़े अन्य खतरे

हिस्टेरेक्टॉमी (hysterectomy) बच्चेदानी निकलाने (uterus removal) के लिए की जाने वाली एक सर्जरी है। ये सर्जरी कई बार स्वास्थ्य से जुड़ी कुछ गंभीर स्थितियों के कारण महिलाओं को करवाना पड़ता है। जैसे कि- फाइब्रॉएड, पीरियड्स का ज्यादा होना, एंडोमेट्रियोसिस के कारण, पेल्विक इंफ्लेमेटरी डिजीज (PID), गर्भाशय का आगे बढ़ना और गर्भाशय ग्रीवा का कैंसर। लेकिन कई बार कुछ अन्य और निजी कारणों से भी महिलाएं बच्चेदानी निकलवा लेती हैं। हालांकि ये निजी फैसला है लेकिन चिकित्सकों के मुताबिक बिना किसी विशेष स्तिथि के बच्चेदानी निकलवाने से बचना चाहिए। ऐसा इसलिए भी कि बिना डॉक्टर के बताए या स्वास्थ्य से जुड़ी गंभीर स्थितियों के कारण बच्चेदानी निकलवाने से शरीर को कुछ गंभी नुकसान (side effects of removing uterus) हो सकते हैं। तो, आज हम आपको बच्चेदानी निकलवाने के नुकसान के बारे में विस्तार से बताएंगे पर उससे पहले जानते हैं क्या है हिस्टेरेक्टॉमी।

womens health

बच्चेदानी निकलवाने के लिए हिस्टेरेक्टॉमी (hysterectomy) सर्जरी की जाती है। ये सर्जरी महिला के पेट या योनि के माध्यम से की जाती है। वैसे तो हिस्टेरेक्टॉमी के कई प्रकार हैं, जो निकालने पर निर्भर करता है। जैसे कि एक प्रकार के सर्जरी में हिस्टेरेक्टॉमी गर्भाशय को हटा देती है लेकिन गर्भाशय ग्रीवा को बरकरार रखती है। दूसरे में हिस्टेरेक्टॉमी गर्भाशय और गर्भाशय ग्रीवा दोनों को हटा देती है। तीसरे में हिस्टेरेक्टॉमी गर्भाशय (Uterus), गर्भाशय ग्रीवा, और एक या दोनों अंडाशय और फैलोपियन ट्यूब को निकाल देती है। आपको बता दें कि बच्चेदानी निकालने के बाद शरीर को नुकसान भी होते हैं (health problems after removing uterus)

बच्चेदानी निकलवाने के नुकसान-Side effects of removing uterus

1. सर्जरी के बाद आपको कुछ दिनों या कुछ हफ्तों तक योनि से खून स्राव की संभावना हो सकती है। इस सर्जरी के बाद ये समस्या काफी सामान्य है। 

2. कुछ दिनों तक सर्जरी वाली जगह पर दर्द होना।

3. प्रभावित हिस्से में सूजन, लालिमा, या चोट महसूस होना।

4. सर्जरी के आसपास जलन या खुजली।

5. कुछ हिस्सों का सुन्न पड़ना। 

6. इसे हटाने का मतलब है कि आप कभी भी गर्भवती नहीं हो पाएंगी, जो महिलाएं सोचती है कि हम इसके बाद भी गर्भवती हो सकती है तो ये बिलकुल गलत धारणा है।

7. इसके अलावा आपके मासिक धर्म भी रुक जाएंगे। 

8. योनि में सूखापन महसूस होना।

9. सेक्स के दौरान लगातार दर्द।

10. सेक्स ड्राइव में कमी भी आ सकती है। 

इसे भी पढ़ें: नॉर्मल डिलवरी के लिए अपनी बॉडी को इन 6 तरीकों से तैयार करें प्रेग्नेंट महिलाएं, जच्चा-बच्चे दोनों होंगे स्वस्थ

Inside2Uterusremoval

हिस्टेरेक्टॉमी से जुड़े अन्य खतरे-Risk of hysterectomy

यूटेरस को निकलवाने के लिए हिस्टेरेक्टॉमी एक बहुत बड़ी सर्जरी होती है जिसके बाद आपको थोड़ी तकलीफ जरूर हो सकती है। जैसे: 
-शरीर में खून की कमी होना।
-मूत्राशय, मूत्रमार्ग, रक्त वाहिकाओं और नसों सहित आसपास के कोशिकाओं को नुकसान।
-खून के थक्के निकलना।
-संक्रमण होने का खतरा।

इसे भी पढ़ें: क्या महिलाओं को पुरुषों से ज्यादा देर तक सोना चाहिए? जानें महिलाओं की सेहत का नींद से क्या है कनेक्शन?

आपको यहां ध्यान देना चाहिए कि ये सर्जरी आपके लिए कोई सही हो सकती है लेकिन कुछ शर्तों के साथ। आप जिस डॉक्टर से इस सर्जरी को करवाएंगे वो आपको सभी देखभाल और स्वस्थ रहने के तरीके बताएंगे जिसकी मदद से आप किसी भी चीज से अपना बचाव करने में कामयाब हो सकती हैं। हिस्टेरेक्टॉमी (Hysterectomies) के कारण कई छोटे और बड़े दुष्प्रभावों का सामना आपसे हो सकता है। आपको सर्जरी से पहले डॉक्टर से अच्छी तरह जानकारी ले लेनी चाहिए। जिससे की आपको भविष्य में किसी भी प्रकार की समस्या पैदा न हो। अगर आप किसी भी बिना अनुभव वाले डॉक्टर से संपर्क करते हैं तो ये आपके लिए नुकसानदायक ही नहीं बल्कि जानलेवा भी हो सकता है। इसलिए आप सर्जरी से संबंधित डॉक्टर से ही संपर्क करें और पूरी देखभाल के साथ सर्जरी का कदम उठाएं, क्योंकि ये आपके जीवन में भारी बदलाव लेकर आता है। 

Disclaimer