Doctor Verified

भारत के इस राज्य में लगी हेल्थ इमरजेंसी, तेजी से फैल रहा है डायरिया, जानें बचाव के उपाय

पुडुचेरी के कराइकल क्षेत्र में तेजी से डायरिया का प्रकोप देखने को मिल रहा है। यहां 700 से ज्यादा मरीज डायरिया के कारण अस्पताल में भर्ती हो चुके हैं।

सम्‍पादकीय विभाग
लेटेस्टWritten by: सम्‍पादकीय विभागPublished at: Jul 04, 2022Updated at: Jul 04, 2022
भारत के इस राज्य में लगी हेल्थ इमरजेंसी, तेजी से फैल रहा है डायरिया, जानें बचाव के उपाय

भारत के प्रमुख केंद्र शासित राज्य पुडुचेरी के कराइकल क्षेत्र में हेल्थ इमरजेंसी घोषित की गई है। पुडुचेरी के स्वास्थ्य निदेशक जी श्रीरामुलु की ओर से जारी की गई प्रेस रिलीज में कहा गया है कि कराइकल क्षेत्र में बड़ी संख्या में लोग डायरिया से पीड़ित बीमार पड़ रहे हैं। प्रेस रिलीज में कहा गया है कि कराइकल क्षेत्र में डायरिया के अब तक 700 से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं। इन लोगों में डायरिया की मुख्य वजह लोगों का गंदा गंदे पानी का सेवन करना है। जिला स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी किए गए बयान में कहा गया है कि कराइकल क्षेत्र की स्थिति चिंताजनक है, क्योंकि यहां कई रोगियों में डायरिया के साथ हैजा के लक्षण भी पाए हैं। फिलहाल स्थिति को काबू में करने के लिए पूरे इलाके में धारा 144 लागू कर दी गई है।

राइकल के जिला कलेक्टर मोहम्मद मानसून ने कहा, डायरिया के जो मरीज अब तक अस्पताल में भर्ती हुए हैं, उनके नूमने लिए गए हैं। इनमें विब्रियो हैजा की उपस्थिति का पता लगाया है। उन्होंने कहा कि इन सभी मामलों को देखते हुए इलाके में आपातकाल की घोषणा की गई है।

डायरिया के बढ़ते मामलों को देखते हुए पुडुचेरी के सभी होटल, रेस्त्रां और भोजनालयों में उबला हुआ पानी और आरओ-उपचारित पेयजल उपलब्ध कराने के लिए निर्देश जारी किए गए हैं। इसके साथ ही पानी की टंकियों को साफ करने का आदेश दिया गया है।

दरअसल भारत में इन दिनों मानसून का सीजन चल रहा है। ऐसे में डायरिया का खतरा बढ़ जाता है। दिल्ली में अपने निजी क्लीनिक पर प्रैक्टिस कर रहे डॉक्टर आरएस भदौरिया का कहना है कि मानसून में में नमी के कारण जमा हुए पानी में बैक्टीरिया और अन्य सूक्ष्मजीव तेजी से पनपते हैं। जो लोग बिना सोचे- समझे इस पानी का सेवन कर लेते हैं, उन्हें डायरिया का खतरा ज्यादा रहता है।

इसे भी पढ़ेंः Dengue से लड़ने में मदद कर सकते हैं ये 5 पत्ते, ऐसे करें यूज इस्तेमाल

cute diarrhoeal disease symptoms

क्या है डायरिया का कारण?

  • पेट में बैक्टीरिया का संक्रमण
  • गंदा या कई दिनों का रखा हुआ पानी पीने से
  • वायरल इन्फेक्शन
  • लंबे समय से काटकर रखे हुए फल को खाने से

वयस्कों की तुलना में शिशुओं में होने वाले डायरिया को नजरअंदाज करना गंभीर हो सकता है। शिशु को डायरिया होने पर निम्नलिखित लक्षण दिखाई दे सकते हैं-

  • कम पेशाब होना
  • काला मल आना
  • नींद ज्यादा आना
  • मुंह का सूखना
  • सिरदर्द
  • थकान
  • चिड़चिड़ापन

डायरिया को कैसे करें कंट्रोल (how To Manage Diarrhoea)

  • डॉक्टर भदौरिया का कहना है कि डायरिया होने पर शरीर में पानी की कमी हो जाती है।, ऐसे में जरूरी है कि शरीर को जितना हो सके हाइड्रेटेड रखना चाहिए। जहां तक संभव हो पानी को गर्म करके छानें और ठंडा करने के बाद ही पिएं।
  • डायरिया का सस्ता और आसान इलाज है रोगियों को ओआरएस का घोल पिलाना। आप बाजार में मिलने वाले किसी भी ओआरएस पाउडर को ले सकते हैं। आप चाहें तो चीनी, नमक और नींबू पानी को घोलकर घर पर ही ओआरएस बना सकते हैं। डायरिया में शरीर में इलेक्ट्रोलाइट की कमी हो जाती है, जो ORS पूरा कर सकता है।
  • डॉक्टर के मुताबिक डायरिया में आपकी पाचन क्रिया कमजोर हो जाती है, ऐसे में हल्का खाना खाना चाहिए। डायरिया में किसी भी तरह के डेयरी प्रोडक्ट का सेवन करने से बचना चाहिए।
  • इस बीमारी में फाइबर का सेवन करने से बचना चाहिए। फाइबर का सेवन करने से पेट फूल सकता है इसलिए गोभी, बीन्स जैसी चीजों को खाने से परहेज करें।
  • डायरिया से बचने के लिए अपने आसपास, घर और पानी की टंकी की सफाई का विशेष ध्यान रखें।

अगर आपको 2 से 3 दिनों से ज्यादा डायरिया के लक्षण दिखाई देते हैं तो डॉक्टर से संपर्क करें।

Disclaimer