इन 9 समस्याओं से राहत पहुंचाए पत्थरचट्टा का पत्ता, आयुर्वेदाचार्य से जानें इसके फायदे और नुकसान

पत्थरचट्टा का प्रयोग काफी पुराना और प्रसिद्ध है। सेहत की कई समस्याओं को दूर करने में इसका इस्तेमाल किया जाता है। ऐसे में जानें इसके फायदे और नुकसान...

Garima Garg
Written by: Garima GargUpdated at: Feb 11, 2021 12:03 IST
इन 9 समस्याओं से राहत पहुंचाए पत्थरचट्टा का पत्ता, आयुर्वेदाचार्य से जानें इसके फायदे और नुकसान

औषधीय गुणों से भरपूर पत्थरचट्टा (Patharchatta) का पौधा शरीर को अनेक रोगों से मुक्त करने में मददगार है। बरसों से पत्थरचट्टा का उपयोग किडनी से और मूत्र विकारों से जुड़ी समस्याओं को दूर करने में किया जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं यह केवल पथरी के इलाज या पेट से विषाक्त पदार्थों को बाहर नहीं निकलता बल्कि ये शरीर को कई तरीकों से लाभ पहुंचा सकता है। आज हम इस लेख में उन्हीं लाभों का वर्णन करेंगे। आज हम आपको इस लेख के माध्यम से आपको बताएंगे कि पत्थरचट्टा किन तरीकों से सेहत के लिए फायदेमंद (Patharchatta Benefits) हैं। साथ ही हम जानेंगे इसके सेवन से शरीर को किन नुकसानों ((Patharchatta Side effects) का सामना करना पड़ सकता है। इसके लिए हहमने महर्षि आयुर्वेद अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक और आयुर्वेदाचार्य सौरभ शर्मा से भी इनपुट्स मांगे हैं। पढ़ते हैं आगे...

 

पत्थरचट्टा से होने वाले फायदे (health benefits of pattharchatta)

पत्थरचट्टा के सेवन से सेहत को अनेक फायदे मिल सकते हैं। जानते हैं इन फायदों के बारे में...

1 - सिर दर्द को दूर करें पत्थरचट्टा (patharchatta for headache)

जो लोग सिरदर्द से परेशान रहते हैं वे पत्थरचट्टा के माध्यम से अपने इस दर्द को दूर कर सकते हैं। पत्थरचट्टा का बना लेप ना केवल सिर दर्द को कम करता है बल्कि माइग्रेन की समस्या को भी दूर करता है। इसके लिए आपको पत्थरचट्टा के पत्ते को पीसना होगा और उसका लेप अपने माथे पर लगाना होगा। ऐसा करने से सर दर्द दूर हो जाएगा।

2 - घाव को भरने में मददगार है पत्थरचट्टा (patharchatta for wounds)

अगर शरीर पर कोई घाव लग जाए या कोई निशान हो, जिसके चलते आपको शर्मिंदगी का सामना करना पड़ता है तो उसे दूर करने में पत्थरचट्टा का उपयोग किया जा सकता है। इसके अंदर ना केवल घाव भरने के गुण पाए जाते हैं बल्कि यह निशान की समस्या से भी निजात दिलाता है। इसके लिए सबसे पहले पत्थरचट्टा के पत्तियों को गर्म करके उन्हें हाथों से मसलना होगा। अब अपने घाव पर बने लेप को लगाएं, ऐसा करने से न केवल घाव जल्दी भरते हैं बल्कि निशान भी दिखने बंद हो जाते हैं। यह फोड़े, लालिमा, सूजन को ठीक करने में बेहद मददगार है।

3 - योनि संक्रमण से बचाने में मददगार है पत्थरचट्टा (patharchatta for vaginal discharge)

वेजाइनल डिसचार्ज होने के कारण महिलाओं को कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। इसके कारण अकसर योनि के संक्रमित होने की आशंका भी बढ़ जाती है। लेकिन इस समस्या को दूर करने में पत्थर चट की मदद ली जा सकती है। पत्थरचट्टा से बना काढ़ा इस समस्या यानी योनि स्राव कम करने में बेहद मददगार है। काढ़ा बनाने के लिए आपको पत्थरचट्टा के पत्ते में 2 ग्राम शहद को मिलाना होगा। इसका सेवन आप 1 दिन में एक या दो बार करना होगा। ऐसा करने से योनि स्राव कम हो जाएगा। साथ ही योनि संक्रमण का खतरा भी कम हो जाएगा।

इसे भी पढ़ें : इन 4 आसान तरीकों से करें बेडसोर (दबाव अल्सर) का इलाज, जानें क्या है तरीका

4 - खूनी दस्त से राहत दिलाए पत्थरचट्टा (patharchatta for Bleeding diarrhoea)

बता दें कि पत्थरचट्टा के पत्ते रक्त को रोकने में बेहद मददगार है। वहीं खूनी दस्त में राहत भी पत्थरचट्ट के पत्ते से मिल सकती है। इसके लिए आपको पत्थरचट्टा की पत्तियों का रस निकालना होगा और रस में जीरा और घी को मिलाकर उसका सेवन करना। होगा ऐसा करने से खूनी दस्त में राहत मिलेगी।

5 - रक्तचाप को नियंत्रित रखें पत्थरचट्टा (pattharchatta for hypertension)

उच्च रक्तचाप यानी हाइपरटेंशन। जो लोग हाई बीपी से परेशान रहते हैं उन्हें बता दें कि पत्थरचट्टा के सेवन से वे अपनी समस्या को दूर कर सकते हैं। इसके लिए पत्थरचट्टा की पत्तियों से बने रस का सेवन 1 दिन में दो से तीन बार करें। ऐसा करने से हाइपरटेंशन में राहत मिलेगी।

6 - किडनी स्टोन से बचाए पत्थरचट्टा (patharchatta for kidney stone)

पथरी को दूर करने के लिए पत्थरचट्टा का उपयोग काफी पुराना और प्रसिद्ध है। इसके लिए आपको पत्थरचट्टा का काढ़ा तैयार कर उसमें शहद और शिलाजीत को मिलाना होगा और फिर मिश्रण का सेवन थोड़े थोड़े समय में करना होगा। ऐसा करने से पथरी की समस्या दूर हो जाएगी।

7 - फोड़े के इलाज के लिए अच्छा है पत्थरचट्टा (patharchatta for boils)

शरीर पर लालिमा, उभर आना या फोड़े से परेशान लोग पत्थरचट्टा के उपयोग से इस समस्या को दूर कर सकते हैं। इसके लिए पत्थरचट्टा के पत्ते का अर्क निकालें और उसे उससे फोड़े या लालिमा पर लगाएं। ऐसा कम से कम दिन में दो या तीन बार करें। बता दें कि इस लेप को प्रभावित जगह पर लगाने से ना केवल फोड़े की समस्या दूर होती है बल्कि इसकी लालिमा भी दूर होती है। बता दें कि जलन और सूजन को कम करने में ये बेहद लाभकारी है।

8 - आंखों के लिए लाभकारी है पत्थरचट्टा (patharchatta for eye problem)

आंखों में दर्द रहने की समस्या से अक्सर लोग परेशान रहते हैं। ऐसे में बता दें कि यदि आप भी इन लोगों में से एक है तो पत्थरचट्टा के माध्यम से इस समस्या को दूर किया जा सकता है। इसके लिए आपको पत्थरचट्टा के पत्तों का रस निकालकर अपनी आंखों के चारों ओर लगाना होगा। ऐसा करने से आंखों के सफेद हिस्से में जो दर्द हो रहा है वह दूर हो जाएगा।

9 - दांतो के दर्द को करें दूर पत्थरचट्टा (patharchatta for toothache)

बता दें कि पत्थरचट्टा के अंदर एंटीवायरस और एंटीबैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं जो मुंह को साफ रखने के साथ-साथ दांतो के दर्द को भी दूर करने के लिए उपयोगी हैं। बरसों से पत्थरचट्टा का उपयोग दांत के दर्द को दूर करने की पारंपरिक दवाई के रूप में किया जा रहा है।

इसे भी पढ़ें : इमली ही नहीं बल्कि इसके बीज भी हैं शरीर के लिए फायदेमंद, जानें इमली के बीज के 8 फायदे और इस्तेमाल का तरीका

पत्थरचट्टा से होने वाले नुकसान (side effects of patharchatta)

बता दें कि अभी तक पत्थरचट्टा के गंभीर नुकसान देखने को नहीं मिले हैं। लेकिन अगर आप किसी चिकित्सक दवाई का सेवन कर रहे हैं तो हो सकता है कि पत्थरचट्टा के सेवन से इन दवाइयों का असर कम हो जाए या बढ़ जाए। ऐसे में पत्थरचट्टा का सेवन करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूरी है। वहीं गर्भावस्था के दौरान भी महिलाएं पत्थरचट्टा का सेवन करने से पहले अपने एक्सपर्ट से संपर्क करें उसके बाद ही पत्थरचट्टा का सेवन करें। इसका सेवन करने से पहले एक बार एकस्पर्ट से इसकी मात्रा की भी जानकारी ले लें। इसका अत्यधिक सेवन सेहत को नुकसान पहुंचा सकता है।

नोट - ऊपर द्वारा दिए गए उपायों से पता चलता है कि पत्थरचट्टा को अपनी डाइट में जोड़ना एक अच्छा विकल्प साबित हो सकता है। लेकिन जो लोग स्पेशल डाइट फॉलो कर रहे हैं वे अपनी डाइट में बदलाव करने से पहले एक बार डॉक्टर से कंसल्ट कर लें। साथ ही वे किसी भी प्रकार की एलर्जी या जलन शरीर महसूस करते हैं तो तुरंत पत्थरचट्टा का उपयोग बंद कर दें और डॉक्टर की सलाह पर इसका सेवन करें। वहीं अगर आप किसी गंभीर बीमारी से ग्रस्ते हैं तो किसी के कहने पर पत्थरचट्टा का सेवन न करें। इसे लेने से पहले एख बार डॉक्टर से संपर्क करें।

(ये लेख महर्षि आयुर्वेद अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक और आयुर्वेदाचार्य सौरभ शर्मा द्वारा दिए गए इनपुट्स पर बनाया गया है।)

Read more articles on Home Remedies in Hindi

Disclaimer