कोरोना के कारण पैकेट वाली चीजों को ज्यादा खा रहे हैं आप? कहीं हो न जाएं इन 5 समस्याओं के शिकार

पैकेज्ड खाद्य पदार्थों में मौजूद प्रिजर्वेटिव्स, एडिटिव्स, सोडियम, ट्रांस फैट और कृत्रिम तत्व आपके शरीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के लिए नुकसानदेह है।

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: Aug 17, 2020
कोरोना के कारण पैकेट वाली चीजों को ज्यादा खा रहे हैं आप? कहीं हो न जाएं इन 5 समस्याओं के शिकार

कोरोनावायरस (Covid-19) महामारी का कहर देश और दुनिया में अभी भी जारी है। ऐसे में पूरी दुनिया व्यक्तिगत, सामाजिक और आर्थिक तरीके से दुखी है। अगर व्यक्तिगत नुकसान की बात करें, तो इसने लोगों की शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य पर गहरा असर डाला है। लोग जहां गतिहीन जीवनशैली में जीवन जीने को मजबूर हैं, इससे उनके स्वास्थ्य को भारी नुकसान हो रहा है। वहीं स्ट्रेस भी कई बीमारियों को बढ़ा रही है। पर हाल ही में आया शोध ने एक नई परेशानी की ओर इशारा किया है। ये परेशानी पैक्ड फूड्स को खाने से जुड़ा हुआ है। दरअसल इस दौरान कोरोनावायरस के डर से और लॉकडाउन के कारण लोग पैक्ड फूड्स के इस्तेमाल पर ज्यादा निर्भर हुए है, जिससे उन्हें कई तरह के स्वास्थ्य से जुड़ी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। वो कैसे आइए हम आपको बताते हैं विस्तार से।

insidechips

कोरोनावायरस महामारी और पैक्ड फूड्स का इस्तेमाल  (Avoid packaged Food During Corona)

कोरोनावायरस के कारण ज्यादातर लोग खुली चीजों के इस्तेमाल से बच रहे हैं। वहीं लोग खाना पकाने को छोड़ कर घर की सफाई पर भी ज्यादा ध्यान दे रहे हैं। लोग तात्कालिक पास्ता से लेकर चिप्स जैसी इंस्टेंट फूड्स और रेडी-टू-ईट चीजों को खा रहे हैं, जो उन्हें बीमार कर सकती है। जैसे कि

1. कहीं आपकी आदत न बन जाएं पैक्ड फूड्स

मिशिगन विश्वविद्यालय और माउंट सिनाई अस्पताल (University of Michigan and Mount Sinai Hospital) में किए गए एक अध्ययन के अनुसार, प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ हार्ड ड्रग्स के समान ही नशे की लत लगा सकता है। इसका कारण यह है कि उनमें मौजूद चीनी, वसा और नमक की उच्च सामग्री मस्तिष्क को वैसा ही महसूस करवाती है और ट्रिगर करती है जैसे कि कोकीन और हेरोइन जैसी नशीली दवाएं। ये खाद्य पदार्थ डोपामाइन जैसे फील-गुड ब्रेन केमिकल्स को भी छोड़ते हैं, इस प्रकार, आपको इन्हें बहुत ज्यादा खाने का मन हो सकता है।

इसे भी पढ़ें : Coronavirus & Food: कोरोनावायरस से बचना है तो नॉनवेज खाना पकाते समय इन बातों रखें खास ख्‍याल

2. मोटापा

खाने की लत कारण आप अधिक कैलोरी का सेवन करते हैं और जाहिर है कि इससे तेजी से आपका वजन जरूर बढ़ेगा । जर्नल सेल मेटाबॉलिज्म (journal Cell Metabolism) में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार डिब्बाबंद खाद्य पदार्थ आमतौर पर परिष्कृत सामग्री से बने होते हैं और इस तरह पचने में कम समय लेते हैं, जिसका अर्थ है कि आप उनके पाचन में कम कैलोरी जलाते हैं। साथ ही ये अतिरिक्त वसा और कार्बोहाइड्रेट को बढ़ाते हैं, जो वजन बढ़ाने में एक बड़ा योगदान दे सकता है।

3. पेट से जुड़ी परेशानियां

पैक्ड जंक में नमक और चीनी की अधिकता ज्यादा होती है, जो गैस का कारण बन सकता है। साथ ही इन्हें खाने से ब्लोटिंग हो सकती है और आपका पेट हमेशा फूला हुआ या कब्ज वाला हो सकता है। इससे शरीर में और परेशानियां बढ़ती हैं, जैसे कि ये आपको चिढ़चिढ़ा और भारी-भारी सा महसूस करवा सकता है। वहीं ब्लड प्रेशर और ब्लड शुगर से जुड़ी परेशानियों को भी गति दे सकता है।

insideweightgain

4. ब्रोंकाइटिस की परेशानी

द इंटरनैशनल जर्नल ऑफ फ़ार्मास्युटिकल साइंसेज एंड रिसर्च में प्रकाशित एक अध्ययन की मानें, तो पैक्ड चीजों का लगातार सेवन ब्रोंकाइटिस की परेशानी को बढ़ा सकता है। आपको भले ही विश्वास न हो पर पैक्ड फूड्स को खाना श्वसन से जुड़ी परेशानियों को पैदा कर सकता है। ऐसा इसलिए क्योंकि इनमें नाइट्राइट जैसी अव्य हो सकते हैं, जो लंग्स को नुकसान पहुंचा सकता है। वहीं इनमें बेंजोएट, सल्फाइट्स और सॉर्बेट्स जैसे तत्व भी होते हैं, जो अन्य परेशानियों का कारण बन सकती हैं।

इसे भी पढ़ें : FSSAI ने जारी की विटामिन-ए से जुड़ी गाइडलाइन, कहा इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए खाने में शामिल करें ये 6 चीजें

5. मूड स्विंग्स और थका महसूस करना

हम सभी जानते हैं कि पैकेटबंद खाद्य पदार्थ आमतौर पर हाई शुगर और सॉल्ड से समृद्ध होते हैं। वहीं इसमें हाई कार्ब्स भी होते हैं, जिसका सेवन करने से थकावट और चिढ़चिढ़ापन महसूस हो सकता है। साथ ही इससे आप मूड स्विंग्स और क्रेविंग आदि भी ज्यादा महसूस कर सकते हैं।

इसलिए भले ही कोरोना का डर है, पर आपको अपने घरों में ताजी चीजों का ही इस्तेमाल करने की कोशिश करनी चाहिए। आप फल, सब्जियों के साथ चना व मूंग आदि दालों का इस्तेमाल करें। ऐसे पैक्ड फूड्स जिसमें हाई शॉल्ड और शुगर हो उनके इस्तेमाल से तो बिलकुल बचें, नहीं तो आप बैठे-बैठे ब्लड प्रेशेर, शुगर की बीमारी, मोटापा और डायबिटीज जैसी बीमारियों के आसानी से शिकार हो सकते हैं।

Read more articles on Health-News in Hindi

Disclaimer