रोज 1 ग्लास दूध पीने से कम होता है हार्ट की बीमारियों का खतरा, जानें इस रिसर्च पर एक्सपर्ट की राय

एक नए रिसर्च में खुलासा हुआ है कि रोजाना एक गिलास दूध पीने से हार्ट डिजीज का खतरा कम होता है। चलिए जानते हैं क्या कहती है ये रिसर्च

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraPublished at: May 31, 2021
रोज 1 ग्लास दूध पीने से कम होता है हार्ट की बीमारियों का खतरा, जानें इस रिसर्च पर एक्सपर्ट की राय

दूध सेहत के लिए काफी फायदेमंद होता है। इस बात से हम सभी अच्छे से वाकिफ हैं। हाल ही में हुए एक रिसर्च के मुताबिक, नियमित रूप से 1 गिलास दूध का सेवन करने से दिल से जुड़ी बीमारी को ठीक किया जा सकता है। रिसर्च में बताया गया है कि दूध पीने वालों का कोलेस्ट्रॉल स्तर काफी कम होता है। यह रिसर्च इंटरनेशनल जर्नल ऑफ ओबेसिटी में प्रकाशित किया गया है। इस रिसर्च मे दुनियाभर के कई शोधकर्ता शामिल हैं। 

यूनिवर्सिटी ऑफ रीडिंग, साउदर्न ऑस्ट्रेलियन हेल्थ एंड मेडिकल रिसर्च इंस्टीट्यूट, यूनिवर्सिटी ऑफ साउथ ऑस्ट्रेलिया, यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन और यूनिवर्सिटी ऑफ ऑकलैंड के शोधकर्ताओं अमेरिका और बिट्रिश के 20 लाख नागरिकों के डेटा शेयर किए हैं। इस डेटा के मुताबिक, रोज 1 गिलास दूध पीने से कोलेस्ट्रॉल स्तर कम होगा।

क्या दूध पीने से दिल की बीमारी का खतरा है कम?

इंटरनेशनल जर्नल ऑफ ओबेसिटी द्वारा पब्लिश रिपोर्ट के अनुसार, जो लोग नियमित रूप से दूध पीते हैं, उनके शरीर में गुड और बैड दोनों ही कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम होता है। मालूम हो कि कोलेस्ट्रॉल दो तरह के होते हैं, हाई डेंसिटी लिपोप्रोटीन और लो डेंसिटी लिपोप्रोटीन। इस रिसर्च में कुछ लोगों के शरीर में गुड कोलेस्ट्रॉल भी पाया गया है और कुछ के शरीर में बैड कोलेस्ट्रॉल भी। इसके अलावा रिसर्च में बताया गया है कि नियमित रूप से दूध पीने से बॉडी मास इंडेक्स औसत रूप से अधिक होता है। 

14 प्रतिशत हार्ट अटैक का खतरा है कम

रिसर्च में बताया गया है कि जो लोग नियमित रूप से 1 गिलास दूध पीते हैं, उनको हार्ट अटैक का खतरा 14 प्रतिशत तक कम होता है। मालूम हो कि पिछले रिसर्च में बताया गया था कि  सैचुरेटेड फैट का अधिक सेवन करने से दिल की बीमारी बढ़ने की संभावना होती है। 

इसे भी पढ़ें- कोरोना को हराने में चीन ले रहा दूध का सहारा, एक्सपर्ट से जानें क्या सच में फायदेमंद है दूध

क्या कहते हैं शोधकर्ता

यूनिवर्सिटी ऑफ रीडिंग की न्यूट्रिशनिस्ट और रिसर्चर्स प्रोफेसर विमल करानी का कहना है कि "दूध को आप हार्ट-हेल्दी डाइट के रूप में शामिल कर सकते हैं। क्योंकि इस तरह का कोई स्पष्ट मामला सामने नहीं आया है, जिसमें दूध का इस्तेमाल करने से कार्डियो-वैस्कुलर बीमारी का खतरा बढ़ा हो। हालांकि, इस रिसर्च में दूध पीने वालों के शरीर का फैट और बॉडी मास इंडेक्स बढ़ा है।

विमल करानी ने आगे बताया कि अभी रिसर्च से यह पूरी तरह से स्पष्ट नहीं हुआ है कि डेयरी प्रोडक्ट्स में मौजूद फैट कोलेस्ट्रोल लेवल कम करने में योगदान करता है या नहीं। हालांकि, इसके पीछे कई अन्य कारण भी हो सकते हैं। दूध पीने से आंत में मौजूद जीवित बैक्टीरिया प्रभालित होता है। इसपर रिसर्च होना बाकि है। ताकि यह पता चल सके कि दूध पीने से किस तरह से बीमारियों से लड़ा जा सके।

इसे भी पढ़ें - अंडे और दूध का सेवन एक साथ करने से सेहत को हो सकते हैं ये 5 नुकसान, जानें जरूरी सावधानियां

क्य कहती हैं डायटीशियन?

नोएडा स्थित डाइट मंत्रा क्लीनिक की डायटीशियन कामिनी का कहना है कि दूध पीने से शरीर को कई तरह के फायदे होते हैं। दूध प्रोटीन और कैल्शियम का नैचुरल स्त्रोत होता है। इसके शरीर की हड्डियां मजबूत होती हैं। इम्यूनिटी विकसित होता है। लेकिन यह हार्ट हेल्थ के लिए कितना प्रभावी है। इसपर कहना मुश्किल है। इस तरह के कई रिसर्च सामने आ चुके हैं। लेकिन अभी इस बात में कितनी सच्चाई है, इसपर कुछ भी कहना गलत होगा। इसके अलावा यह रिसर्च अमेरिका और ब्रिटिश नागरिक पर किए गए हैं। भारतीय नागरिकों पर इस तरह का रिसर्च नहीं हुआ है, तो हो सकता है यह रिसर्च अमेरिका और ब्रिटिश नागरिक पर लागू हों, लेकिन भारतीय नागरिक पर नहीं।

बता दें कि दूध स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है, लेकिन यह हार्ट रोग के खतरे को कम करता है। इस बारे में कहना मुश्किल है कि भारतीय नागरिक अगर नियमित रूप से दूध पीते हैं, तो उनको दिल से जुड़ी बीमारी होने का खतरा कम होता है।

Read More Articles on Health News in Hindi

Disclaimer