एक और बीमारी की आफत, ईराक में नोज ब्लीड फीवर से 19 की मौत, 111 लोगों में मिला संक्रमण

ईराक में एक नई बीमारी ने लोगों को शिकार बनाना शुरू किया है, जिसमें बुखार से साथ नाक से खून आता है। इससे अब तक 19 लोगों की मौत हो चुकी।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: May 31, 2022Updated at: May 31, 2022
एक और बीमारी की आफत, ईराक में नोज ब्लीड फीवर से 19 की मौत, 111 लोगों में मिला संक्रमण

दुनियाभर में इन दिनों नई-नई बीमारियों की आफत सामने आती जा रही है। कोरोना वायरस से अभी भी दुनिया जूझ रही है। पिछले एक महीने में ही मंकीपॉक्स, रैट फीवर, वेस्ट नाइल फीवर जैसी बीमारियां सामने आ चुकी हैं। और अब ईराक में एक नई बीमारी ने कहर मचाना शुरू किया है, जिसका नाम नोज ब्लीड फीवर दिया गया है। जैसा कि नाम से जाहिर है, इस बीमारी का मुख्य लक्षण बुखार और नाक से खून आना है। WHO के अनुसार ईराक में अब तक इस बीमारी के 111 मामले सामने आ चुके हैं, जिनमें से 19 मरीजों की मौत हो चुकी है। टिक्स से इंसानों में फैलने वाली ये बीमारी बेहद संक्रामक और खतरनाक है। हालांकि इस बीमारी के मुख्य कारण का अभी तक पता नहीं लगाया जा सका है। 

नोज ब्लीड फीवर क्या है? (What is Nose Bleed Fever or Crimean Congo Hemorrhagic Fever)

नोज ब्लीड फीवर इस बीमारी का कॉमन नाम है। एपिडेमोलॉजिस्ट्स की भाषा में इसे क्रीमियन-कॉन्गो हेमरहेजिक फीवर (Crimean-Congo haemorrhagic fever) कहते हैं। ये बीमारी पहली बार 1944 में क्रीमिया में सामने आई थी। ये बीमारी काफी संक्रामक और खतरनाक पाई गई है। इसकी चपेट में आने वाले हर 5 में से 2 व्यक्ति की मौत होने के कारण इसने दुनियाभर के स्वास्थ्य संगठनों को डरा दिया है। इस बीमारी की रोकथाम के लिए अभी तक कोई वैक्सीन नहीं बनाई जा सकी है।

इसे भी पढ़ें- कोरोना और मंकीपॉक्स के बाद अब वेस्ट नाइल वायरस का कहर, केरल में हुई पहली मौत, जानें क्या है ये बीमारी

कैसे फैलता है नोज ब्लीड फीवर? (How Does Nose Bleed Fever Spread?)

नोज ब्लीड फीवर या क्रीमियन-कॉन्गो हेमरहेजिक फीवर जानवरों से इंसानों में फैलने वाली बीमारी है। पालतू जानवर जैसे- गाय, भैंस, भेड़, बकरी आदि इस बीमारी के संवाहक हो सकते हैं। इसके अलावा कुछ पक्षी भी ये बीमारी फैला सकते हैं। जानवरों को काटने वाले कीड़े से ये बीमारी जानवरों में फैल सकती है और फिर जानवरों से इंसानों और एक इंसान से दूसरे इंसान में। इसलिए इस बीमारी को काफी संक्रामक माना जाता है। लेकिन साफ-सफाई का ध्यान रखकर इस बीमारी से बचा जा सकता है।

Nose Bleed Fever

नोज ब्लीड फीवर के क्या लक्षण हैं? (Symptoms of Nose Bleed Fever or Crimean Congo Hemorrhagic Fever)

आमतौर पर टिक्स या संक्रमित जानवरों के संपर्क में आने के 5 से 6 दिन के अंदर इस बीमारी के लक्षण नजर आने लगते हैं। शुरुआती अवस्था में निम्न लक्षण महसूस हो सकते हैं-

  • तेज बुखार
  • मांसपेशियों में दर्द
  • गर्दन में दर्द और अकड़न
  • सिर दर्द
  • नाक से खून आना
  • पेट में दर्द और डायरिया (पेचिश)
  • उल्टी
  • पीठ दर्द
  • गले में खराश

CCHF बीमारी का मृत्युदर 30% के लगभग है, यानी इसके संपर्क में आने वाले लगभग 30 प्रतिशत लोगों की मौत हो जाती है। ज्यादातर मामलों में ये मौत संक्रमण के दूसरे सप्ताह में होती है। लेकिन अगर सही समय पर इलाज मिल जाए, तो लक्षण नजर आने के 9-10 दिनों के बाद मरीज रिकवर हो सकता है।

इसे भी पढ़ें- मंकीपॉक्स के चलते देश के इन राज्यों में अलर्ट, WHO ने बताए 6 गंभीर लक्षण, जानें जरूरी बातें

नोज ब्लड फीवर से बचाव के लिए क्या करें (Prevention of Nose Bleed Fever or Crimean Congo Hemorrhagic Fever)

  • टिक्स (काटने वाले कीड़ों) से सावधान रहें। खुली जगहों जैसे- पेड़ के नीचे या बगीचे में न सोएं।
  • अगर आपके आसपास टिक्स हैं, तो कपड़ों को हमेशा झाड़कर और अच्छे से चेक करके पहनें, ताकि कीड़ों के काटने से बचा जा सके।
  • पालतू जानवरों की साफ-सफाई समय-समय पर करते रहें, जिससे उनके शरीर में टिक्स चिपककर आप तक न पहुंच जाएं।
  • चूंकि ये बीमारी छींकने, खांसने और खून के संपर्क में आने से फैल सकती है, इसलिए संक्रमित व्यक्ति से दूर रहें और उसके द्वारा इस्तेमाल की गई चीजों को सावधानी से साफ करके ही इस्तेमाल करें।
इस आर्टिकल में उपलब्ध जानकारियों का स्रोत World Health Organization है।
 
Disclaimer