निप्पल में घाव होने के पीछे हो सकते हैं ये कारण, जानें बचाव के उपाय

निप्पल में घाव होने के कारण आपको ब्रेस्टफीडिंग में भी परेशानी हो सकती है। इसे आप इन तरीकों से ठीक कर सकते हैं। 

Dipti Kumari
Written by: Dipti KumariPublished at: Jul 11, 2022Updated at: Jul 11, 2022
निप्पल में घाव होने के पीछे हो सकते हैं ये कारण, जानें बचाव के उपाय

ब्रेस्टफीडिंग को बच्चे के लिए सबसे बेहतरीन माना जाता है क्योंकि ब्रेस्टफीडिंग की मदद से बच्चे को सभी जरूरी पोषक तत्व मिल जाते हैं। हालांकि ब्रेस्टफीडिंग या कई अन्य कारणों से निप्पल में दर्द या घाव होने की दिक्कत हो सकती है। जिसकी वजह से कई बार निप्पल से खून आने की दिक्कत हो सकती है। इसके अलावा दूध पिलाने वाली मांओं के लिए ये समस्या और अधिक समस्यापूर्ण हो सकती है। 

क्या ब्रेस्टफीडिंग के दौरान निप्पल में दर्द या घाव होना सामान्य है? 

ब्रेस्टफीडिंग कराने वाली माँओं में जो समस्या सबसे ज्यादा देखी जाती है, वह होती है निप्पल में दर्द या घाव की दिक्कत। जब बच्चा दूध पीना शुरू करता है, तो शुरुआती कुछ सेकेंड में थोड़ी तकलीफ होना या दर्द होना सामान्य है। लेकिन, अगर दूध पिलाते समय पूरे समय दर्द होता रहे, तो बेहतर है कि आप इसके बारे में अपने डॉक्टर से जरूर संपर्क करें। यह दर्द और सेंसिटिविटी निप्पल के दर्द से जुड़ी हुई हो सकती है और इसमें देर होने पर ब्लीडिंग या निप्पल में घाव बनने की परेशानी भी हो सकती है। हालांकि अन्य कारणों से भी महिलाओं के ब्रेस्ट में घाव जैसी परेशानी हो सकती है। डिलीवरी के शुरुआती दिनों में भी कई महिलाओं में ये परेशानी हो सकती है। कई बार निप्पल में चोट या खरोंच लगने से भी घाव बनने की दिक्कत हो सकती है। 

nipple-wound-causes

निप्पल में घाव या दर्द होने के कारण

निप्पल में दर्द, कोमलता और तकलीफ के कई कारण हो सकते हैं। 

1. गलत तरीके से लैचिंग

माँ के लिए इस बात का ध्यान रखना बहुत जरूरी है, कि लैचिंग की तकनीक और पोजीशन सही हो। जैसे-जैसे बच्चे बड़े होते जाते हैं, दूध पीने के लिए अलग-अलग पोजीशन अपनाते रहते हैं। इससे लैचिंग पोजीशन गलत होने पर आपके ब्रेस्ट में तकलीफ हो सकती है और साथ ही घाव बनने की समस्या देखने को मिल सकती है।

2. निप्पल के आसपास इरिटेशन या जलन 

कभी-कभी माँ को उनके निप्पल के आसपास इरिटेशन महसूस होती है। इसके अलावा अगर आपके बच्चे के दांत निकल आएं, तो आपको निप्पल में चोट लग सकती है। कई बार बच्चे दूध पीने के दौरान निप्पल में चोट पहुंचा सकते हैं। साथ ही लार और एंजाइम के अधिक मात्रा में बनने से निप्पल में इरिटेशन सकती है। 

इसे भी पढ़ें- शिशु को बीमारियों से बचाता है मां का दूध, एक्सपर्ट से जानें ब्रेस्टफीडिंग का सही तरीका

3. निप्पल में ब्लॉकेज होना 

दूध की गांठ और स्तन की सूजन जैसी स्थितियों में भी निप्पल में दर्द या घाव हो सकता है। यह स्थिति आमतौर पर एक या दोनों निप्पल में देखी जाती है। निप्पल में ब्लॉकेज के कारण भी आपको घाव या दर्द की दिक्कत हो सकती है। 

nipple-wound-treatment

4. हॉर्मोनल बदलाव होने के कारण 

आपको पीरियड के पहले या ओवुलेशन के दौरान निप्पल में दर्द हो सकता है। गर्भावस्था के दौरान भी कई बार आपको निप्पल में दर्द और जलन हो सकती है। कई बार चोट लगने के कारण इसमें घाव होने का डर रहता है। 

5. छाले या घाव होना 

कई बार अचानक क्रैक निप्पल या दोनों तरफ दर्द महसूस होने पर भी छाले या घाव होने का डर रहता है। ऐसा यीस्ट इंफेक्शन के कारण हो सकता है। 

निप्पल के घाव को ठीक करने के उपाय 

1. बच्चे को दूध पिलाने के बाद अपने निप्पल को धो कर अच्छे से सुखा लें ताकि किसी प्रकार के इंफेक्शन का डर न रहे। 

2. गर्म पानी की सिंकाई करने से भी निप्पल के दर्द को ठीक करने में मदद मिलती है। इससे घाव में जमा पस बाहर निकल सकता है।  

3. अगर एक ब्रेस्ट में घाव हुआ है, तो आपको दूसरे ब्रेस्ट से बच्चे को दूध पिलाना चाहिए ताकि घाव जल्दी ठीक हो सके। 

4. ब्रेस्टफीडिंग के दौरान लैचिंग का सही तरीका और पोजीशन अपनाने की कोशिश करें ताकि समस्या से निजात पाई जा सकी।  

5. ब्रेस्ट को साफ करने के लिए आप एंटीबैक्टीरियल साबुन या क्रीम का इस्तेमाल कर सकते हैं।  

6. इसके अलावा गंभीर घाव या जलन होने पर आप तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

(All Image Credit- Freepik.com)

Disclaimer