मैंस्ट्रूल कप या पैड? मानसून में पीरियड्स के दौरान किसका इस्तेमाल करना है ज्यादा सही

पीरियड्स में पैड, मैंस्ट्रूल कप का इस्तेमाल किया जाता है। क्या आप जानती हैं मानसून में मासिक धर्म के समय इनमें से किसका इस्तेमाल करना अधिक फायदेमंद है

Anju Rawat
Written by: Anju RawatUpdated at: Aug 11, 2021 12:52 IST
मैंस्ट्रूल कप या पैड? मानसून में पीरियड्स के दौरान किसका इस्तेमाल करना है ज्यादा सही

आप पीरियड्स के दौरान क्या इस्तेमाल करती हैं?  सभी लड़कियां, महिलाएं मासिक धर्म या पीरियड्स के समय पर पैड का प्रयाेग करती हैं, यह एक सबसे सामान्य उत्पाद है। दरअसल, पैड आसानी से उपलब्ध हाे जाता है, इसलिए महिलाएं इसका इस्तेमाल करना सही समझती हैं। लेकिन कुछ महिलाएं मैंस्ट्रूल कप का भी यूज करती है। मैंस्ट्रूल कप का पीरियड्स के दौरान यूज करना काफी सही माना जाता है। अगर आप एक बार इसका यूज करना सीख जाती हैं, ताे जीवन आसान हाे जाता है। मानसून के मौसम में मैंस्ट्रूल कप का उपयाेग करना से आप कई तरह से संक्रमणाें से अपना बचाव कर सकती हैं। स्त्री राेग विशेषज्ञ शिल्पा घाेष से जानें इसके बारे में-

अगर आप हमेशा पैड का इस्तेमाल करती हैं, ताे मानसून में मैंस्ट्रूल कप का यूज करें। इससे आप याेनि संक्रमण से बच सकती हैं। मानसून में मासिक धर्म के दौरान मैंस्ट्रूल कप का यूज करना सुरक्षित रहता है। 

(Image Source : Arpbr.com)

मानसून में हाेने वाली सामान्य अंतरंग समस्याएं

दरअसल, मानसून में वायरस, बैक्टीरिया और कवक बहुत ज्यादा पनपते हैं। ऐसे में याेनि संक्रमण या वेजाइनल इंफेक्शन सहित कई संक्रमण पैदा हाे सकते हैं। मानसून में महिलाओं काे कई तरह की अंतरंग स्वच्छता से जुड़ी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। इस मौसम में नमी के कारण फंगल इंफेक्शन, चकत्ते, याेनि संक्रमण और यूटीआई की समस्या हाे सकती है। ऐसे में याेनि का पीएच बैलेंस बिगड़ जाता है, जिससे पैड के उपयाेग से खुजली का जाेखिम बढ़ सकता है। यह बाहर की तरफ से इस्तेमाल हाेता है, इसलिए अगर इसे समय-समय पर न बदला जाए, ताे इसे वेजाइनल हेल्थ काे नुकसान पहुंच सकता है। 

इसे भी पढ़ें - पीरियड्स के दौरान किसका इस्‍तेमाल है ज्‍यादा सुरक्षित, पैड या टैम्पोन? जानिए

मैंस्ट्रूल कप मानसून में कैसे है मददगार? 

मानसून के मौसम में नमी का स्तर अधिक हाेता है, इसलिए वेजाइनल एरिया काे ड्राय रखना बहुत जरूरी हाेता है। नमी कम हाेने से बैक्टीरिया के प्रजनन में भी कमी आएगी। इसलिए पीरियड्स के दौरान पैड के बजाय मैंस्ट्रूल कप का इस्तेमाल करना चाहिए। मैंस्ट्रूल कप याेनि के द्रव का अवशाेषित नहीं करता है और वेजाइनल एरिया काे ड्राय रखता है। यह नमी काे नहीं बढ़ाता है, इससे अंतरंग क्षेत्र संक्रमण से बचा रहता है और सुरक्षित रहता है। मैंस्ट्रूल कप से काफी फायदे मिलते हैं।

(Image Source : Cupaflo.com)

कैसे करें मैंस्ट्रूल कप का उपयाेग 

  • मासिक धर्म के दौरान मैंस्ट्रूल कप का उपयाेग करना बहुत सही रहता है। इसे आसानी से इस्तेमाल किया जा सकता है। यह रबर या सिलिकॉन के बने छाेटे-छाेटे कप हाेते हैं।
  • मैंस्ट्रूल कप काे लगाने से पहले हाथाें काे अच्छी तरह से धाे लें या साफ कर लें। 
  • मैंस्ट्रूल कप के रिम पर पानी लगाएं, इसे एक हाथ से पकड़कर रिम ऊपर की तरफ रखें। अब कप काे याेनि में डालें और ऊपर की तरफ धकेलें।
  • कप याेनि में जाने के बाद छाेड़े दें। यह एक एयरटाइट सील या सक्शन बनाने के लिए अपने आप खुल जाएगा, जो रिसाव को रोकेगा। 
  • मानसून में संक्रमण से बचने के लिए आपकाे हर उपयाेग इसे हमेशा साफ धाेना चाहिए। 

मानसून में मैंस्ट्रूल कप यूज करते हुए सावधानियां 

  • मैंस्ट्रूल कप काे डालने के लिए हमेशा अपने हाथाें काे अच्छी तरह से साफ करें। यह तब तक ही सुरक्षित होते हैं, जब तक आप उन्हें साफ हाथों से डालें।
  • मैंस्ट्रूल कप काे सावधानी से हटाएं और उन्हें ठीक से साफ करें।
  • मैंस्ट्रूल कप मानसून के दौरान हाेने वाले अंतरंग स्वच्छता समस्याओं से आपकाे बचाव करता है। 

आपकाे भी मानसून के मौसम में पीरियड्स के दौरान पैड के बजाय मैंस्ट्रूल कप का ही इस्तेमाल करना चाहिए। यह आपकाे अंतरंग संक्रमण से बचाव करता है। 

(Main Image Source : Teakkadai.in, Maharashtratimes )

Read More Articles on Womens Health in Hindi 
Disclaimer