सैनेटरी पैड से सस्ता और बेहतर है मेन्स्ट्रूअल कप, जानें कैसे करें प्रयोग और इसके फायदे

लांसेट पब्लिक हेल्थ में प्रकाशित अध्ययन के मुताबिक एक नए अध्ययन में खुलासा हुआ है कि सस्ते और दोबारा प्रयोग में आने वाले मेन्स्ट्रूअल कप (Menstrual Cup) टैंपोन और डिस्पोजेबल पैड्स की तुलना में सुरक्षित हैं । 

Jitendra Gupta
Written by: Jitendra GuptaPublished at: Jul 20, 2019
सैनेटरी पैड से सस्ता और बेहतर है मेन्स्ट्रूअल कप, जानें कैसे करें प्रयोग और इसके फायदे

एक नए अध्ययन में खुलासा हुआ है कि सस्ते और दोबारा प्रयोग में आने वाले मेन्स्ट्रूअल कप (Menstrual Cup) टैंपोन और डिस्पोजेबल पैड्स की तुलना में सुरक्षित हैं । लांसेट पब्लिक हेल्थ में प्रकाशित अध्ययन के मुताबिक, करीब 70 प्रतिशत महिलाएं, जिन्होंने मासिक धर्म के दौरान कप का प्रयोग किया उनका कहना था कि वे उसका उपयोग करना जारी रखेंगी।

हालांकि इस बात पर भी विचार किया जाना जरूरी है कि सैनिटरी सुरक्षा अभी भी कई जगहों पर अनुपलब्ध है और कई महिलाओं की पहुंच से बाहर है। इसी कारण से मासिक रक्तस्राव कई लड़कियों और महिलाओं को स्कूल या उनके कामकाज से बाहर रखता है। इतना ही नहीं इसके कारण उन्हें मूत्र पथ के संक्रमण का खतरा भी बढ़ जाता है। इसलिए  मेन्स्ट्रूअल कप, पैड और टैम्पोन के मुकाबले सुरक्षित, सस्ता और लंबे समय तक चलने वाला विकल्प है, जो लाखों महिलाओं की जान बचाने में मदद कर सकता है।

अगर आपने भी मेन्स्ट्रूअल कप के बारे में नहीं पढ़ा तो हम आपको इससे जुड़ी ऐसी 10 बातें बताने जा रहे हैं, जो आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकती है।

  • मेडिकल ग्रेड सिलिकन, रबड़ या लैटेक्स से बना कप रक्त को सोखने के बजाए जमा करता है।
  • इसे वजाइना में लगाया जाता है और प्रत्येक चार से 12 घंटे में खाली किया जाता है।
  • कप को सैनिटरी पैड और टैम्पोन के मुकाबले रक्त जमा करने के लिए बेहतर और प्रभावी पाया गया है।

इसे भी पढ़ेंः मासिक धर्म के दर्द को दूर करने समेत इन 7 चीजों में फायदेमंद है नाक और कान छिदवाना, जानें इसके फायदे

  • पैड और टैम्पोन  जैसे मासिक धर्म के उत्पाद बहुत अधिक कचरा उत्पन्न करते हैं। दूसरी ओर कप को बदलने की आवश्यकता 3 साल तक नहीं पड़ती। इस समय अवधि के भीतर, उचित सफाई और सही से प्रयोग के साथ इसका कई बार प्रयोग किया जा सकता है।
  • मेन्स्ट्रूअल कप केवल एक साइज में नहीं आता। यह महिलाओं के साइज पर निर्भर करता है और इसे वे महिलाएं भी प्रयोग कर सकती हैं, जो मां बन चुकी हैं। आमतौर पर इसके दो साइज उपलब्ध हैं एक 30 साल से कम उम्र की महिलाओं और गर्भवती न हुई महिलाओं के लिए और दूसरा 30 साल से ज्यादा उम्र की महिलाओं के लिए।
  • मेन्स्ट्रूअल कप के प्रयोग के लिए अभ्यास की जरूरत होती है। इस कप के साथ दिशा-निर्देश दिए जाते हैं और इसको लगाते वक्त सहज रहना बहुत ज्यादा जरूरी है।
  • इसको हर बार प्रयोग करने से पहले अच्छे तरीके से साफ करना बेहद जरूरी है। अगर इसे अच्छी तरह से साफ न किया जाए तो यह बैक्टीरिया पैदा कर सकता है, जो संक्रमण का कारण बन सकता है। प्रयोग के बाद इसे धोना और स्टरलाइज करना न भूलें। इसपर खुशबू वाले साबुन का प्रयोग करने से बचें।

इसे भी पढ़ेंः मानसून में गर्भवती महिलाओं को डाइट से जुड़ी इन बातों का रखना चाहिए ध्यान, तभी शिशु होगा स्वस्थ

  • कोई भी महिला इसे बिना लीकेज के 12 घंटे तक प्रयोग कर सकती है।
  • वे महिलाएं जो इन कप का प्रयोग शुरू कर रही है उन्हें यह देखने में अच्छा नहीं लगेगा क्योंकि इस पर खून होता है। आप बस इसे बहते पानी से साफ करें और प्रयोग करें।
  • मेन्स्ट्रूअल कप आसानी से मासिक धर्म प्रवाह (30 मिलीलीटर) का एक हिस्सा जमा कर सकता है। महिला का औसतन प्रवाह प्रति चक्र 30-40 मिलीलीटर होता है।

Read More Articles On Women Health In Hindi

Disclaimer