प्रेगनेंसी में मेडिटेशन से क्या फायदे मिलते हैं?

प्रेगनेंसी के दौरान मेडिटेशन करने से आपको कई तरह की मानसिक समस्याओं से छुटकारा मिल सकता है। आप इन तरीकों से मेडिटेशन कर सकते हैं। 

Dipti Kumari
Written by: Dipti KumariPublished at: Jul 04, 2022Updated at: Jul 04, 2022
प्रेगनेंसी में मेडिटेशन से क्या फायदे मिलते हैं?

प्रेगनेंसी में आपको अपनी सेहत का बहुत ध्यान रखना पड़ता है। अपने खाने-पीने से लेकर अपनी मानसिक शांति को लेकर भी काफी सजग रहना पड़ता है। प्रेगनेंसी के दौरान मेडिटेशन करना पूरी तरह से सुरक्षित होता है। प्रेगनेंसी के दौरान योग और मेडिटेशन करने से  एंग्जायटी, डिप्रेशन और अधिक सोचने की समस्या का समाधान हो सकता है। मेडिटेशन से आप प्रेगनेंसी में होने वाली शारीरिक परेशानियां को भी कम कर सकते हैं। यह बच्चे की सेहत को भी लाभ पहुंचाता है। माइंडफुलनेस मेडिटेशन करने से मानसिक स्वास्थ्य बेहतर हो सकता है। आइए प्रेगनेंसी के दौरान होने वाले फायदे और तकनीक के बारे में विस्तार से बताते हैं। 

प्रेगनेंसी के दौरान मेडिटेशन के फायदे (Meditation Benefits in Pregnancy)

1. चिंता और अवसाद में कमी 

प्रेगनेंसी में कई महिलाओं को तनाव और अवसाद की समस्या होने लगती है। इससे छुटकारा पाने के लिए आप मेडिटेशन कर सकते हैं। मेडिटेशन ओवरथिकिंग के साथ-साथ बेचैनी से भी राहत पहुंचा  सकता है। मेडिटेशन की मदद से आपको शांति और खुशी का अनुभव होता है। 

2. बेहतर नींद के लिए 

मेडिटेशन की मदद से गर्भावस्था के समय नींद अच्छी आती है। योग करने व ध्यान लगाने से गर्भावस्था की दूसरी तिमाही में नींद न आने की समस्या कम हो सकती है। साथ ही इससे नींद की गुणवत्ता भी बेहतर होती है। आप सुबह या शाम, किसी भी समय मेडिटेशन कर सकते हैं।

pregnancy-meditation

3. प्रेगनेंसी में दर्द की समस्या

ध्यान लगाने से प्रेगनेंसी के दौरान दर्द में भी कमी आ सकती है। नियमित रूप से मेडिटेशन करने से पेल्विक गिर्डल पेन, कमर दर्द और पेट के निचले हिस्से के दर्द को भी कम कर सकते हैं। नियमित रूप से मेडिटेशन करने से आपको प्रसव पीड़ा के दौरान भी दर्द से राहत मिल सकती है। दरअसल इससे आपको दर्द के दौरान मन को शांत रखने में मदद मिलती है। 

4. थकान कम करें 

गर्भावस्था के दौरान कई महिलाओं को थकान और कमजोरी का अनुभव होता है। ध्यान लगाने से आपकी शरीर की मांसपेशियों को आराम मिलता है और अंदर से आपकी क्षमता भी  बढ़ती है, ताकि आपकी इम्यूनिटी मजबूत बनी रहे। 

5. अवसाद से छुटकारा 

गर्भावस्था के समय कई महिलाएं अवसाद से प्रभावित होती हैं। इससे बचने के लिए आप रोजाना थोड़े समय के लिए मेडिटेशन जरूर करें। नियमित रूप से ध्यान लगाने से मन शांत रहता है और अवसाद से भी बच सकते हैं।

इसे भी पढे़ं- प्रेगनेंसी में खाली पेट क्या खाना चाहिए और क्या नहीं? डायटीशियन से जानें सुबह के पहले आहार की पूरी जानकारी

प्रेगनेंसी में मेडिटेशन करने की तकनीक

1. माइंडफुलनेस मेडिटेशन

माइंडफुलनेस  मेडिटेशन ध्यान का ही एक रूप है, जिसकी मदद से आप अपने मन में आ रहे गलत विचारों को काबू कर सकते हैं। इससे आपको आंतरिक शांति मिलती है और गलत विचारों से छुटकारा मिलता है। इस दौरान आप पैरों को मोड़कर आंखें बंद करके सांस लें और छोड़ें। 

pregnancy-meditation

2. मंत्र मेडिटेशन 

इस मेडिटेशन के अभ्यास के लिए आपको निरंतर एक मंत्र का उच्चारण करना होता है। यह मंत्र ओम या फिर कोई और शब्द भी हो सकता है, जिसे आप मंत्र मेडिटेशन के दौरान दोहरा सकते हैं।  इसे आप आंख बंद करके भी कर सकते हैं और आंख खोलकर भी।

3. वॉकिंग मेडिटेशन 

यह भी ध्यान लगाने की एक तकनीक है, जिसमें एक निर्धारित समय तक मन लगाकर एक दूरी तक चलते रहना होता है। इस समय व्यक्ति को अपनी सांसों या कदमों पर ध्यान केंद्रित करता है। खुद को सभी तरह के विचारों से मुक्त रखना होता है।

(All Image Credit- Freepik.com)

Disclaimer