Doctor Verified

क्या आप भी तो तनाव, चिंता और डिप्रेशन को एक ही समझते हैं? चलिए डॉक्टर से जानते हैं इन तीनों में अंतर

Stress Depression Anxiety in Hindi:  अक्सर हम सभी तनाव, अवसाद और चिंता को एक ही समझ बैठते हैं। लेकिन इन तीनों के लक्षणों में कुछ भिन्नता होती हैं।

Anju Rawat
Written by: Anju RawatPublished at: Mar 30, 2022Updated at: Apr 06, 2022
क्या आप भी तो तनाव, चिंता और डिप्रेशन को एक ही समझते हैं? चलिए डॉक्टर से जानते हैं इन तीनों में अंतर

Stress Depression Anxiety in Hindi: आजकल हर व्यक्ति अपने ऑफिस, घर या फिर पर्सनल लाइफ की वजह से परेशान रहता है। वह खुद को अकेला, उदास, निराश और कमजोर महसूस करता है। कुछ लोग इस स्थिति को चिंता, कुछ तनाव तो कुछ अवसाद समझते हैं। लेकिन तनाव, चिंता और अवसाद (Depression Anxiety Stress difference) ये तीनों टर्म एक-दूसरे से काफी अलग होते हैं। इन तीनों के कारण और लक्षण भी अलग-अलग हो सकते हैं। चलिए आज के इस लेख में तनाव, चिंता और अवसाद के अंतर (What is The Difference Between Stress Anxiety and Depression) को विस्तार से समझते हैं। 

कामिनेनी अस्पताल, हैदराबाद के वरिष्ठ न्यूरोसाइकियाट्रिस्ट डॉक्टर गौतमी नागभिरव (Dr. Gautami Nagabhirava, Senior Neuropsychiatrist, Kamineni Hospitals, Hyderabad) बताती हैं कि चिंता, अवसाद और तनाव एक-दूसरे की जगह पर अक्सर उपयोग किए जाते हैं। डॉक्टर गौतमी बताती हैं कि कुछ लोग तनाव (Stress in Hindi) में होते हैं, लेकिन वे इसे अवसाद या डिप्रेशन समझ बैठते हैं। इसके विपरीत कुछ चिंता (Anxiety in Hindi) में होते हैं, लेकिन इसे तनाव समझते हैं। इन तीनों के लक्षण अलग-अलग हो सकते हैं। जानें तनाव, चिंता और अवसाद में अंतर (Stress Anxiety Depression Difference in Hindi)-

stress

(image source: Feverfi.com)

1. तनाव (Stress in Hindi)

स्ट्रेस को हिंदी में तनाव (Stress Meaning in Hindi) कहा जाता है। तनाव एक ऐसी स्थिति की प्रतिक्रिया है, जिसे एक व्यक्ति अत्यधिक मानता है। लंबे समय तक दबाव में रहने के कारण किसी भी व्यक्ति को तनाव महसूस हो सकता है। तनाव में रहने से सिरदर्द, उच्च रक्तचाप, हृदय रोग, मधुमेह और मोटापा जैसी शारीरिक समस्याएं (Diseases Due to Stress) हो सकती हैं। हल्का तनाव हमारी दिनचर्या को अधिक प्रभावित नहीं करता है। लेकिन बहुत अधिक तनाव हमें परेशान और थका हुआ महसूस करवा सकता है। तनाव बहुत से लोगों को प्रभावित करता है और आपके स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है। सिरदर्द, सीने में दर्द, घबराहट, त्वचा पर चक्ते और नींद की कमी तनाव के लक्षण (Stress Symptoms in Hindi) होते हैं।

इसे भी पढ़ें - पुरुषों के लिए अंजीर के लाभ:फर्टिलिटी बढ़ाने,स्ट्रेस दूर करने समेत अंजीर खाने से पुरुषों को मिलते हैं ये 5 लाभ

2. चिंता (Anxiety in Hindi)

एंग्जाइटी को हिंदी में (Anxiety Meaning in Hindi) चिंता कहा जाता है। आजकल अधिकतर लोग चिंता में रहते हैं, चिंता किसी भी वजह से हो सकती है। अत्यधिक चिंता या भय में रहना तनाव से भी अधिक खतरनाक हो सकता है। बेचैनी, मांसपेशियों में तनाव, चिड़चिड़ापन, नींद में खलल, थकान और ध्यान लगाने में परेशानी होना एंग्जाइटी के लक्षण (Anxiety Symptoms in Hindi) होते हैं। चिंता भय की भावना है कि कुछ भयानक होने वाला है। चिंता किसी स्थान, सामाजिक स्थिति या चीज के लिए विशिष्ट हो सकती है। चिंता या एंग्जाइटी होने पर आपको डर, अचानक घबराहट महसूस हो सकता है। 

stress

(image source: pronghornpsych.com)

3. अवसाद (Depression in Hindi)

डिप्रेशन को हिंदी में (Depression Meaning in Hindi) अवसाद कहा जाता है। अवसाद एक ऐसी बीमारी है, जिसमें उदासी, निराशा और लाचारी की भावना महसूस होती है। अवसाद की स्थिति में व्यक्ति अधिकतर समय उदासी महसूस करता है, वह उन चीजों में भी रुचि खो देता है जिनका आमतौर पर वह आनंद लेता है।

इसके साथ ही नींद न आना, भूख न लगना, चिड़चिड़ापन, कम ऊर्जा, ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई और आत्महत्या का विचार आना अवसाद के लक्षण (Depression Symptoms in Hindi) माने जाते हैं। इसके अलावा निराशा, क्रोध, जीवन में रुचि खो देना भी अवसाद के लक्षण होते हैं। 

इसे भी पढ़ें - ज्यादा चिंता करने (स्ट्रेस) के कारण भी घटने लगता है वजन, जानें इस तरह के वेट लॉस को कैसे रोकें

तनाव और चिंता समान लग सकते हैं, लेकिन ये दोनों एक समान नहीं हैं। तनाव दैनिक दबाव या खतरनाक स्थिति की प्रतिक्रिया है, जबकि चिंता तनाव की प्रतिक्रिया है। चिंता, जिसका कोई स्पष्ट कारण नहीं है, लंबे समय तक बनी रहती है। तनाव, चिंता और डिप्रेशन एक-दूसरे से अलग होते हैं। तनाव, चिंता या अवसाद महसूस होने पर आपको डॉक्टर से कंसल्ट जरूर करें।

(main image source: rendia.com/)

Disclaimer