Doctor Verified

हार्ट ब्लॉकेज का पता लगाने के लिए कौन से टेस्ट होते हैं? जानें कैसे करें बचाव

Heart Blockage ke Liye Test: अगर आपको सीने में दर्द रहता है, तो आप हार्ट ब्लॉकेज का टेस्ट करवा सकते हैं। हार्ट ब्लॉकेज के लिए टेस्ट-

Anju Rawat
Written by: Anju RawatUpdated at: Oct 03, 2022 10:32 IST
हार्ट ब्लॉकेज का पता लगाने के लिए कौन से टेस्ट होते हैं? जानें कैसे करें बचाव

Test for Heart Blockage in Hindi: दुनियाभर में हृदय से जुड़ी समस्याओं के मामलों में लगातार वृद्धि हो रही हैं। कोई हाई ब्लड प्रेशर से परेशान हैं, तो किसी का कोलेस्ट्रॉल लेवल हाई रहता है। इसके अलावा कई लोगों में हार्ट अटैक के लक्षण भी देखने को मिलते हैं। जैसे-जैसे लाइफस्टाइल और खानपान की आदतें खराब होती जा रही है, लोगों को हृदय रोगों का सामना अधिक करना पड़ रहा है। अगर हृदय रोगों का पता समय से चल जाता है, तो इसका इलाज संभव हो सकता है। अन्यथा स्थिति गंभीर रूप से सकती है। इसलिए अगर आपको भी हृदय रोग से जुड़ा कोई लक्षण महसूस होता है, खासकर हार्ट ब्लॉकेज (Heart Bloackge) का तो इसे बिल्कुल भी नजरअंदाज न करें। दरअसल, हार्ट ब्लॉकेज की समस्या बढ़ती जा रही है। इसलिए आज के इस लेख में हम आपको हार्ट ब्लॉकेज कैसे पता करें (How to Check Heart Blockage)?, इसके बारे में बताने जा रहे हैं।   

आपको बता दें कि हार्ट ब्लॉकेज आपके हृदय के इलेक्ट्रिकल सिस्टम की एक समस्या है, जो दिल की धड़कन बनाती है और हृदय गति और लय को नियंत्रित करती है। इस स्थिति को एट्रियोवेंट्रिकुलर (एवी) ब्लॉक या कंडक्शन डिसऑर्डर भी कहा जाता है। जब हार्ट ब्लॉकेज होता है, तो इसका पता कुछ लक्षणों और टेस्ट (Test for Heart Blockage in Hindi) के माध्यम से लगाया जा सकता है। तो चलिए, मसीना अस्पताल, मुंबई के इंटरवेंशनल कार्डियोलॉजिस्ट डॉक्टर रुचि शाह से जानते हैं हार्ट ब्लॉकेज का लक्षण क्या है? हार्ट ब्लॉकेज का पता लगाने के लिए कौन से टेस्ट होते हैं (Heart Blockage ke Liye Test)? या फिर हार्ट ब्लॉकेज के लिए टेस्ट कैसे करें

हार्ट ब्लॉकेज के लक्षण- Heart Blockage Symptoms in Hindi

हृदय रोग कई तरह के होते हैं। इसमें हार्ट ब्लॉकेज भी शामिल हैं। अगर हार्ट ब्लॉकेज होती है, तो इसका पता आप कुछ लक्षणों के माध्यम से पहचान सकते हैं। हार्ट ब्लॉकेज के लक्षण इस प्रकार हैं-

  • थकान लगना
  • छाती में दर्द होना
  • जबड़े में दर्द
  • सीने के दाईं और बाईं तरफ दर्द होना
  • पेट के ऊपरी हिस्से में दर्द
  • दाएं और बांए कंधे में दर्द
  • दाएं और बाएं हाथ में होना
  • पीठ में दर्द होना
  • चलने पर दर्द बढ़ना
  • सीढ़ियां चढ़ने पर सांस फूलना
  • पसीना निकलना
  • सीने में धक-धक होना

ये सभी हार्ट ब्लॉकेज के लक्षण हो सकते हैं। लेकिन सिर्फ लक्षणों से ही हार्ट ब्लॉकेज का पता नहीं लगाया जा सकता है। अगर आपको इनमें से कोई लक्षण महसूस होता है, तो इस स्थिति में आप हार्ट ब्लॉकेज का पता लगाने के लिए कुछ टेस्ट करवा सकते हैं। 

इसे भी पढ़ें- सीने में दर्द होने पर जरूर करवाएं हार्ट से जुड़े ये 5 टेस्ट, पता चलेगी सही वजह

heart blockage

हार्ट ब्लॉकेज का पता लगाने के लिए कौन से टेस्ट होते हैं?- What Test Shows Blockages to the Heart in Hindi

किसी भी बीमारी का पता लगाने के लिए उससे संबंधित मेडिकल टेस्ट करवाना जरूरी होता है। इसी तरह हार्ट ब्लॉकेज का पता लगाने के लिए भी कुछ टेस्ट करवाने की सलाह दी जाती है। टेस्ट के माध्यम से हार्ट की स्थिति और ब्लॉकेज के बारे में पता चल सकता है। हार्ट ब्लॉकेज के लक्षण महसूस होने पर डॉक्टर निम्न टेस्ट करवाने की सलाह दे सकते हैं।

ईसीजी

अगर हार्ट ब्लॉकेज के लक्षण महसूस होते हैं, तो सबसे पहले ईसीजी करवाने की सलाह दी जा सकती है। ईसीजी के माध्यम से हार्ट ब्लॉकेज के बारे में आसानी से पता लग सकता है। अगर ईसीजी में कुछ अलग नजर आता है, तो यह हार्ट ब्लॉकेज का संकेत हो सकता है। इसके अलावा अगर ईसीजी सामान्य आता है, लेकिन आपको सीने में लगातार दर्द हो रहा है तो दूसरे टेस्ट करवाए जा सकते हैं। 

2डी इकोकार्डियोग्राफी 

अगर ईसीजी नॉर्मल आता है, तो आप हार्ट ब्लॉकेज का पता लगाने के लिए 2डी इकोकार्डियोग्राफी करवा सकते हैं। इस टेस्ट में हार्ट के मसल्स का पंपिंग का पता लगता है। साथ ही हार्ट के वाल्व में लिकैज है या नहीं है, इसके बारे में भी पता चलता है। अगर 2डी इकोकार्डियोग्राफी टेस्ट में हार्ट में कोई भी गड़बड़ी दिखती है, तो यह हार्ट ब्लॉकेज हो सकता है। इसलिए अगर आपको सीने में दर्द, थकान या पीठ में दर्द होता है, तो इस टेस्ट को जरूर करवाएं।

इसे भी पढ़ें- हार्ट की सेहत में गड़बड़ होने पर दिखते हैं ये 11 लक्षण, बिल्कुल न करें नजरअंदाज

ट्रेडमिल स्ट्रेस टेस्ट

ट्रेडमिल स्ट्रेस टेस्ट की मदद से भी आप हार्ट ब्लॉकेज का पता लगा सकते हैं। ट्रेडमिल स्ट्रेस टेस्ट को एक्सरसाइज स्ट्रेस टेस्ट भी कहा जाता है। इस दौरान व्यक्ति को ट्रेडमिल पर दौड़ना होता है और अपने हार्ट रिदम, ब्लड प्रेशर और ब्रीदिंग को मॉनिटर करना होता है। अगर इनमें कोई गड़बड़ी आती है, तो हार्ट ब्लॉकेज हो सकता है। जब ट्रेडमिल स्ट्रेस टेस्ट में हार्ट रिदम या ब्रीदिंग में कोई दिक्कत आती है, तो स्ट्रेस इको डोबुटामाइन, कार्डिएक एमआरआई, सीटी कोरोनरी एंजियोग्राफी करवाया जा सकता है।

स्ट्रेस थैलियम टेस्ट

अगर यह जानना है कि हृदय के कौन-से हिस्से में रक्त सही से नहीं पहुंच रहा है या किस हिस्से में ब्लॉकेज की अधिक संभावना है, तो इसके लिए स्ट्रेस थैलियम टेस्ट किया जाता है। या फिर कार्डियक एमआरआई किया जाता है। 

हार्ट ब्लॉकेज से बचाव कैसे करें?- How to Prevent Heart Blockage in Hindi

  • नमक का कम मात्रा में सेवन करें।
  • ट्रांस फैट से पूरी तरह से परहेज करें।
  • अधिक मात्रा में शुगर न लें।
  • तनाव और चिंता से बचें।
  • धूम्रपान और एल्कोहल का सेवन न करें।

How to Know Heart Blockage in Hindi: हार्ट में ब्लॉकेज का पता लगाने के लिए इसके लक्षणों पर गौर करना जरूरी होता है। अगर हार्ट ब्लॉकेज के लक्षण नजर आते हैं, तो इस स्थिति में इसका निदान करने के लिए कुछ टेस्ट करवाने की सलाह दी जाती है। अगर टेस्ट में भी हार्ट ब्लॉकेज निकलता है, तो इसके बाद डॉक्टर इसका इलाज करने के लिए कुछ दवाइयां लिख सकते हैं। हार्ट ब्लॉकेज की स्थिति गंभीर हो सकती है। इसलिए अगर आपको इसके लक्षण महसूस होते हैं, तो बिल्कुल भी नजरअंदाज न करें और निदान के लिए जरूरी टेस्ट करवाएं।

Disclaimer