'मैदा लकड़ी' के इस्तेमाल से पाएं सूजन, दर्द, चोट जैसी इन 5 समस्याओं में तुरंत आराम, जानें प्रयोग का तरीका

मैदा लकड़ी आयुर्वेद में गुणकारी मानी जाती है, इससे अर्थराइट‍िस का दर्द, चोट, दर्द आद‍ि में आराम म‍िलता है 

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Jul 27, 2021Updated at: Jul 27, 2021
'मैदा लकड़ी' के इस्तेमाल से पाएं सूजन, दर्द, चोट जैसी इन 5 समस्याओं में तुरंत आराम, जानें प्रयोग का तरीका

मैदा लकड़ी का साइंट‍िफ‍िक नाम ल‍िटसी ग्‍लूट‍िनोसा (litsea glutinosa) है। मैदा लकड़ी एक पौधे का नाम है ज‍िसकी छाल बहुत फायदेमंद होती है। मैदा लकड़ी की छाल से कई रोगों का इलाज क‍िया जाता है। चोट या जख्‍म को ठीक करने के ल‍िए आप मैदा लकड़ी की छाल का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। ज‍िन लोगों को जोड़ों में दर्द हो वो भी मैदा लकड़ी का इस्‍तेमाल कर सकते हैं, इसके इस्‍तेमाल से जोड़ों का दर्द दूर होता है। मैदा लकड़ी के इस्‍तेमाल से मोच, हड्डी टूटने पर होने वाला दर्द, कमर दर्द, सायट‍िका, सूजन आद‍ि समस्‍याओं में आराम म‍िलता है। इस लेख में हम मैदा लकड़ी के फायदे और उसे इस्‍तेमाल करने के तरीकों पर चर्चा करेंगे। इस व‍िषय पर ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के व‍िकास नगर में स्‍थित प्रांजल आयुर्वेद‍िक क्‍लीन‍िक के डॉ मनीष स‍िंह से बात की। 

maida lakdi uses

1. चोट लगने पर इस्‍तेमाल करें मैदा लकड़ी (Use maida lakdi on wounds)

अगर आपको चोट लग गई है और दवा मौजूद नहीं है तो आप मैदा लकड़ी का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। मैदा लकड़ी के इस्‍तेमाल से जख्‍म भर जाता है। आप ताजे जख्‍म पर मैदा लकड़ी की छाल को घ‍िसकर लगा लें, इससे जख्‍म जल्‍दी भर जाएगा। मैदा लकड़ी में एंटी-फंगल गुण होते हैं। मैदा लकड़ी का इस्‍तेमाल उन चोटों के ल‍िए फायदेमंद है ज‍िनमें कटा या त्‍वचा छ‍िल गई हो। अगर चोट गहरी है तो आप डॉक्‍टर की मदद लें। 

इसे भी पढ़ें- चिलबिल की छाल और पत्ते के फायदे: जोड़ों में दर्द और डायबिटीज जैसी 5 समस्याओं में करें चिलबिल का प्रयोग

2. अर्थराइट‍िस के दर्द में इस्‍तेमाल करें मैदा लकड़ी (Benefits of maida lakdi in arthritis)

maida lakdi benefits

आपके घुटनों या जोड़ों में अर्थराइट‍िस के कारण अक्‍सर दर्द रहता है तो मैदा लकड़ी का इस्‍तेमाल करके देखें। गठ‍िया रोग में मैदा लकड़ी का इस्‍तेमाल फायदेमंद माना जाता है। इससे दर्द ठीक हो जाता है। आपको मैदा लकड़ी की छाल का पाउडर घुटनों पर लगाना है, इस पाउडर में आप नीलगि‍र‍ी का तेल डाल सकते हैं। आप मैदा लकड़ी की छाल का तेल भी इस्‍तेमाल कर सकते हैं। 

3. डायर‍िया होने पर करें मैदा लकड़ी के पाउडर का सेवन (Benefits of maida lakdi to treat diarrhea)

डायर‍िया ज‍िसे हम दस्‍त कहते हैं ये एक तरह का माइक्रोब‍ियल संक्रमण माना जाता है ज‍िसके कारण पेट में सूजन आ जाती है और खाना पचने की प्रक्र‍िया ठीक तरह से काम नहीं करती। मैदा लकड़ी के इस्‍तेमाल से डायर‍िया, पेट दर्द, उल्‍टी आद‍ि समस्‍याओं में आराम म‍िलता है। आप मैदा लकड़ी के पाउडर को गरम पानी के साथ लें तो डायर‍िया की समस्‍या दूर हो जाएगी।

4. शरीर में सूजन को दूर करे मैदा लकड़ी (Maida lakdi can cure swelling)

maida lakdi powder

सूजन कम करने के ल‍िए आप मैदा लकड़ी का पाउडर और हल्‍दी को म‍िलाएं और चूरण बना लें और इसे दूध के साथ लें तो सूजन की समस्‍या से न‍िजात म‍िलेगा। चोट पर ये एंटी-सेप्‍ट‍िक का काम करता है, इसे लगाने से इंफेक्‍शन नहीं होता। अगर ब्‍लीड‍िंग हो रही है तो वो भी बंद हो जाएगी। कई तरह की बीमार‍ियां जैसे डायर‍िया, बर्न, पेट दर्द, डैंड्रफ आदि के ल‍िए बनने वाली दवाओं में मैदा लकड़ी का इस्‍तेमाल क‍िया जाता है। 

इसे भी पढ़ें- कई बीमारियों को दूर करता है अमलतास, जानें इसके आयुर्वेदिक फायदे

5. सायटिका और कमर के दर्द को ठीक करती है मैदा लकड़ी (Benefits of maida lakdi to cure sciatica and back pain)

मैदा लकड़ी की छाल के पाउडर का लेप बनाकर आप दर्द वाले ह‍िस्‍से में लगा सकते हैं। रीढ़ की हड्डी व कमर की नसों से जुड़ी हुई समस्या सायट‍िका (sciatica) और कमर के दर्द में इसका इस्‍तेमाल क‍िया जाता है। हड्डी टूटने के दर्द या मोच आने पर भी आप दर्द को कम करने के ल‍िए मैदा लकड़ी का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। मैदा लकड़ी की छाल से न‍िकलने वाले तेल को भी इस्‍तेमाल करने से दर्द और ज्‍वॉइंट्स में होने वाले पेन से आराम म‍िलता है। 

अगर आपको क‍िसी तरह की एलर्जी या गंभीर बीमारी है तो मैदा लकड़ी का इस्‍तेमाल करने से पहले डॉक्‍टर से सलाह जरूर लें। 

Read more on Ayurveda in Hindi 

Disclaimer