Long COVID in Kids: 0-14 साल के बच्चों में दो महीने तक रह सकते हैं कोविड के ये लक्षण, स्टडी में खुलासा

कोरोना महामारी से ठीक हुए बच्चों पर हालही में एक स्टडी की गई है, जिसमें कई चौकाने वाले खुलासे हुए हैं।

Ashu Kumar Das
Written by: Ashu Kumar DasPublished at: Jun 25, 2022Updated at: Jun 25, 2022
Long COVID in Kids: 0-14 साल के बच्चों में दो महीने तक रह सकते हैं कोविड के ये लक्षण, स्टडी में खुलासा

Covid-19 Symptoms in Kids: भारत समेत पूरी दुनिया में कोरोना से जंग अब भी जारी है। दुनियाभर में लाखों लोग कोरोना महामारी से ठीक होने के बाद लॉन्ग कोविड के लक्षणों का सामना कर रहे हैं। कोरोना से रिकवरी होने के बाद भी कई दिनों तक थकान, कमजोरी, भूख न लगना जैसे लक्षणों को लॉन्ग कोविड इंफेक्शन (Long Covid Infection) माना गया है। लॉन्ग कोविड के लक्षण अब तक सिर्फ व्यस्कों में देखे गए थे, लेकिन अब बच्चों में भी लॉन्ग कोविड-19 के मामले देखने को मिल रहे हैं। हालही में हुई एक स्टडी में इस बात का खुलासा हुआ है। 'द लैंसेट चाइल्ड एंड एडोलसेंट हेल्थ जर्नल' में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, SARS-CoV-2 वायरस (कोविड-19 वायरस) से संक्रमित बच्चे कम से कम दो महीने तक लॉन्ग कोविड के लक्षणों  (Long Covid Infection in Kids) का सामना कर सकते हैं।

डेनमार्क में हुई इस स्टडी में कोरोना से रिकवर होने वाले 0 से 14 वर्ष के बच्चों को शामिल किया गया था। स्टडी के दौरान शोधकर्ताओं ने पाया कि कोविड से ठीक होने के बाद लगभग 46 प्रतिशत बच्चों में 2 महीने तक कोरोना के लक्षण देखे गए। इस दौरान शोधकर्ताओं ने बच्चों के कोविड लक्षणों, खान पान और भी कई तरह की एक्टिविटी पर ध्यान दिया।

शोध में पाया गया कि बच्चे संक्रमण से ठीक होने के बाद भी लॉन्ग कोविड की समस्याओं से 2 महीने तक पीड़ित रह सकते हैं। स्टडी के दौरान 0-3 वर्ष के आयु वर्ग में 40 फीसदी बच्चों में कोविड-19 (1,194 बच्चों में से 478) का निदान किया गया, उन्होंने दो महीने से अधिक समय तक कोरोना के लक्षणों का अनुभव किया था, जबकि 4-11 आयु वर्ग में, यह अनुपात 38 फीसदी था। बात अगर 2-14 आयु वर्ग के बच्चों का करें तो उनमें यह अनुपात 46% फीसदी रहा।

इसे भी पढ़ेंः 2 साल में 4 करोड़ भारतीय हुए 'लॉन्ग कोविड' के शिकार, इस वैरिएंट से Long Covid का ज्यादा खतरा

लॉन्ग कोविड में बच्चों में दिखाई दिए ये लक्षण

रिसर्च के दौरान शोधकर्ताओं ने पाया कि 0-3 वर्ष के बच्चों में पेट दर्द, मूड स्विंग्स, शरीर पर लाल चकत्ते और रैशेज जैसे लक्षण देखे गए। 4 से 11 वर्ष के बच्चों में लॉन्ग कोविड के लक्षणों में ध्यान की कमी, थकान, मूड स्विंग्स शामिल थें। वहीं, 12 से 14 साल के बच्चों में मूड स्विंग्स, याददाश्त कम होना, थकान, कमजोरी जैसे लक्षण पाए गए।

क्या था इस स्टडी का मकसद

'द लैंसेट चाइल्ड एंड एडोलसेंट हेल्थ जर्नल' में प्रकाशित इस स्टडी का मुख्य उद्देश्य कोरोने से ठीक होने के बाद बच्चों के जीवन की गुणवत्ता, स्कूल, डे केयर और दिनभर में हो रही एक्टिविटी की आकलन करना था। इस स्टडी के बारे में बात करते हुए डेनमार्क के कोपेनहेगन यूनिवर्सिटी अस्पताल (Copenhagen University Hospital) के प्रोफेसर सेलिना किकेनबोर्ग ने कहा कि सभी बच्चों पर कोरोना महामारी किस तरह से प्रभाव डाल रही है इस पर अध्ययन करना बहुत जरूरी है।

इसे भी पढ़ें:  Monkeypox: तेजी से फैल रहा मंकीपॉक्स वायरस, कैसे पहचानें मंकीपॉक्स से संक्रमित हैं या नहीं?

 

Disclaimer