सांस और फेफड़ों की समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए करें खंड प्राणायाम, जानें करने का सही तरीका

खंड प्राणायम सांस की समस्या को दूर करने और फेफड़ों को मजबूत करने के लिए बेहतरीन तकनीक है। इसे आप सुबह के समय करें, तो अधिक लाभ मिलेगा। 

Dipti Kumari
Written by: Dipti KumariPublished at: May 05, 2022Updated at: May 30, 2022
सांस और फेफड़ों की समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए करें खंड प्राणायाम, जानें करने का सही तरीका

खंड प्राणायाम आपके स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद और प्रभावशाली योग है। यह शरीर को मजबूत बनाने के साथ-साथ सिस्टम के फंक्शन को भी प्रभावित करता है। इससे सांस की तकलीफ दूर होती है और फेफड़े भी मजबूत होते हैं। खंड प्राणायाम आपकी बढ़ती उम्र के रफ्तार को रोकने में मददगार साबित हो सकता है। खंड प्राणायाम श्वसन संबंधी समस्याओं को दूर करने के साथ-साथ एथलीट और पर्वतारोहियों के लिए श्वसन क्षमता बढ़ाने में मददगार साबित हो सकता है। इससे वह बेहतर प्रदर्शन भी कर पाते हैं। दरअसल खंड प्राणायाम में पहले दो की गिनती तक एक गहरी सांस लें, फिर दो की गिनती तक पूरी तरह से सांस छोड़ें। यह एक सेट पूरा करता है। बिना ब्रेक लिए लगातार इसका अभ्यास करें।

खंड प्राणायाम के लाभ

1. खंड प्राणायाम की मदद से स्टेमिना बढ़ाने और एक्सट्रा फैट को बर्न करने में मदद मिलती है।

2. इसके अभ्यास से ऑक्सीजन लेने की फेफड़ों की क्षमता का विकास होता है और शक्ति भी बढ़ती है। 

3. अगर आपको सांस लेने में तकलीफ होती है तो यह प्राणायाम आपके लिए एक बेहतरीन थेरेपी के रूप में कार्य करता है।

4. इससे मन और मस्तिष्क में शांति का अनुभव होता है और काम में भी मन लगता है। 

5. खंड प्राणायाम करने से ब्लड सर्कुलेशन भी बढ़ सकता है और त्वचा समस्याओं में भी सुधार हो सकता है। 

6. इससे एकाग्रता और स्मृति शक्ति भी बढ़ सकती है। 

khand-pranayam

Image Credit- Freepik

खंड प्राणायाम करने का सही तरीका

1. सबसे पहले मैट पर दंडासन में बैठ जाएं।

2. इस दौरान अपनी पीठ को सीधा रखें और कुछ समय के लिए गहरी सांस लें। 

3. फिर अपनी ऊर्जाओं को संतुलित करें और अभ्यास के लिए अपने दिमाग को एकाग्र करें।

4. इसके बाद खंड प्राणायाम करने के लिए आप पूर्ण पद्मासन आदर्श मुद्रा में बैठ जाएं।  

5. अब अपनी पीठ को सीधा करें और अपनी आंखें बंद करें।

6. उसके बाद अपनी हथेलियों को अपने घुटनों पर रखें।

7. अपनी सांस को दो बराबर भागों में बांटते हुए गहरी सांस लें। इस दौरान ध्यान को एक जगह केंद्रित करें।

8. अपने फेफड़ों में सांस को रोके बिना दो बार सांस छोड़ें। इस लय को बनाए रखें। 

इस प्राणायाम का अभ्यास करते समय पूर्व दिशा की ओर मुख रखें। अभ्यास करने के लिए सबसे अच्छा समय सुबह का समय हो सकता है क्योंकि इस समय आप सभी तरह के तनाव से दूर रहते हैं। इसे आप शुरूआत में एक मिनट के तीन सेट के रूप में कर सकते हैं और बाद में इसे धीरे-धीरे बढ़ाएं। हालांकि अगर हो सके तो इसे ट्रेनर की मदद से ही करें। 

इसे भी पढे़ं- रोजाना योग करने से शरीर, मन और मस्तिष्क को मिलते हैं ये 6 फायदे

khand-pranayam

Image Credit- Freepik

सावधानियां

1. खंड प्राणायाम को हाई ब्लड प्रेशर होने पर न करें। इससे आपकी सेहत पर असर पड़ सकता है। 

2. पीठ में गंभीर दर्द और गर्दन में अकड़न होने पर भी इसका अभ्यास न करें। 

3. हृदय संबंधी समस्याएं होने पर भी खंड प्राणायाम न करें। 

4. पाचन संबंधी समस्याएं जैसे गैस, अपच और ऐंठन होने पर भी इसका अभ्यास न करें। 

5. अगर हाल ही में आपने किसी तरह की सर्जरी या ऑपरेशन कराया है, तो उस दौरान भी इसका अभ्यास न करें। 

Main Image Credit- Freepik

Disclaimer