हमेशा जल्दी में रहना भी है एक तरह का विकार, जानें इसके 5 संकेत और बचाव के तरीके

व्यक्ति को कुछ संकेत मिलते हैं जो यह दर्शाते हैं कि वे अपना जल्दबाजी में कर रहा है। जानते हैं उन संकेतों के बारे में और इस परिस्थिति से कैसे निपटें...

Garima Garg
Written by: Garima GargPublished at: Jul 06, 2021Updated at: Jul 06, 2021
हमेशा जल्दी में रहना भी है एक तरह का विकार, जानें इसके 5 संकेत और बचाव के तरीके

अपने काम को समय पर करना एक अच्छी बात है लेकिन अगर हम सोचे कि समय से पहले अपना काम हम ही पूरा कर ले तो ये सोच लोगों को जल्दबाजी करने पर मजबूर कर सकती है। जल्दबाजी में अगर आप काम खत्म किया जाए तो कुछ ना कुछ गलती हो ही जाती है। लेकिन लोगों को इस बात का खुद पता नहीं चलता कि वे जल्दबाजी में अपने सारे काम खत्म कर रहे हैं। अब चाहे काम पर्सनल और प्रोफेशनल जल्दबाजी के कारण कुछ ना कुछ गड़बड़ तो हो ही जाती है। लेकिन जल्दबाजी में रहने के दौरान कुछ संकेत नजर आते हैं जिन्हें समझना जरूरी है। आज का हमारा लेख इसी विषय पर है। आज हम आपको अपनी इस लेख के माध्यम से बताएंगे कि ऐसे कौन से संकेत हैं जो यह बताते हैं कि आप अपना काम जल्दबाजी में कर रहे हैं और इससे निपटने के क्या-क्या तरीके हैं। इसके लिए हमने गेटवे ऑफ हीलिंग साइकोथेरेपिस्ट डॉ. चांदनी (Dr. Chandni Tugnait, M.D (A.M.) Psychotherapist, Lifestyle Coach & Healer) से भी इनपुट्स मांगे हैं। जानते हैं आगे...

1 - तनाव महसूस करना

जो लोग जल्दबाजी में काम करते हैं वे इस बात में अंतर रखना भूल जाते हैं कि किस काम को जल्दी करना है और कौन सा काम आप आराम से कर सकते हैं। अगर उन्हें कोई काम दिया गया है और उसके लिए तय समय सीमा तैयार की गई है तो वह उस तय समय सीमा से पहले अपना काम खत्म कर लेते हैं। लेकिन उसके बाद वह तनाव महसूस करते हैं और इस व्यक्ति को स्वास्थ्य संबंधित समस्या भी हो सकती है। ऐसे में अगर किसी काम के लिए आपको तय समय सीमा दी गई है तो कोशिश करें कि इसी टाइम पर अपना काम पूरा करें। 

इसे भी पढ़ें- जल्दबाजी में निर्णय लेने से बेहतर है पुनर्विचार, जानें मन में कैसे पैदा होती है दुविधा

2 - चिड़चिड़ाहट महसूस करना

जिस व्यक्ति को अपना काम जल्दबाजी में करने की आदत हो जाती है और अगर एक दिन उसके काम में देरी हो जाए तो व्यक्ति चिड़चिड़ाहट महसूस करता है। वह इस बात को नहीं स्वीकार कर पाता कि उसका काम देरी से कैसे हो सकता है। और फिर इस तनाव के कारण वे अपना काम भी पूरा नहीं कर पाता। ऐसे में इस भावना को दूर करने के लिए आप धैर्य के साथ उस काम को करने की कोशिश करें। साथ ही अगर काम समय पर नहीं हो रहा है तो तनाव महसूस ना करें। आप प्लानिंग के साथ उस काम को पूरा करने की कोशिश करें।

इसे भी पढ़ें- पॉजिटिव सेल्फ टॉक से बढ़ाएं अपना कॉन्फिडेंस और जोश, एक्सपर्ट से जानें 5 आसान तरीके

3 - बातों को बीच में काटने की आदत

जो लोग अधिक जल्दबाजी में रहते हैं वे केवल अपने काम में ही जल्दबाजी नहीं दिखाते बल्कि वे अपने व्यक्तिगत जीवन में भी इस चीज को अपनाना शुरू कर देते हैं। अगर उनके आसपास लोग बातें कर रहे हैं या वह किसी समूह में खड़े हैं तो वह दूसरों की बात सुनें बिना अपनी बातों को जल्दी से रखने की कोशिश करते हैं। ऐसे में वे दूसरी बात को काटना शुरू कर देते हैं। ये आदत गलत है। ऐसे में प्रैक्टिस करनी चाहिए कि आप सबसे पहले दूसरे की बात सुनें और अपनी बात पूरी खत्म कर लें। उसके बाद अपनी बात रखें।

4 - जल्दी से दूसरे काम से जुड़ना

कुछ लोग ऐसे होते हैं जो जल्दी-जल्दी अपना काम खत्म कर लेते हैं और उसके बाद वह संतुष्ट महसूस करते हैं लेकिन वे उस खुशी को ज्यादा देर तक रोक नहीं पाते और दूसरे काम में जुट जाते हैं। वे सोचते हैं कि दूसरे काम में जल्दी खत्म कर लेंगे, जिसके कारण वह खुद को इसी प्रकार काम में उलझाए रखते हैं और संतुष्ट रहना भूल जाते हैं। इसके कारण व्यक्ति को तनाव महसूस होता है। वह सोचता है कि काम जल्दी खत्म होने के बाद भी खुद को संतुष्ट नहीं महसूस कर रहा। बता दें कि काम खत्म करने के तुरंत बाद दूसरे काम में लगना गलत है। बीच में थोड़ा सा ब्रेक लेना जरूरी है। अगर आपने अपना काम समय रहते खत्म कर लिया है दूसरे काम को पकड़ने से पहले थोड़ा सा ब्रेक लें। और ब्रेक के दौरान वह काम करें, जिससे आपको खुशी मिलती है।

इसे भी पढ़ें- लोगों से दूरी बनाना, घुलने-मिलने में परेशानी और बातचीत में शर्माना हो सकते हैं इस डिसऑर्डर का संकेत

5 - हमेशा खुद को सबसे पीछे महसूस करना

जो लोग अपना काम करते हैं, जिनके दिमाग जल्दी रहती है उनके लिए दिन के घंटे पर्याप्त नहीं होते। वहीं अगर किसी और ने पहले काम खत्म कर लिया या किसी चीज में आगे निकल गया तो वे खुद को उससे पिछड़ा हुआ महसूस करते हैं। इस तरह की भावना उन्हें सुरक्षित महसूस करवाती है। इस भावना से बचने के लिए जरूरी है कि दूसरे के आगे निकलने पर खुद को असुरक्षित महसूस ना करना। आप उस व्यक्ति से प्रेरणा लें और यह देखें कि उसने किस तरीके से अपने काम को अंजाम दिया है।

जल्दबाजी में काम करने के नुकसान

1 - जो भी काम जल्दी-जल्दी में होता है, उसमें गलतियां निकलती ही हैं साथ ही काम की गुणवत्ता में कमी आती है।

2 - जल्दबाजी के कारण व्यक्ति का मन अस्थिर हो जाता है।

3 - जल्दबाजी के कारण व्यक्ति तनाव महसूस करता है।

4 - जल्दबाजी के कारण व्यक्ति सही निर्णय लेने में असमर्थ।

5 - जो व्यक्ति जल्दबाजी में रहता है वह अच्छा श्रोता नहीं बन पाता।

6 - जल्दबाजी में होने के कारण व्यक्ति के हाथों से सुनहरे अवसर निकल सकते हैं।

7 - जल्दबाजी के कारण व्यक्ति की सेहत पर भी प्रभाव पड़ता है।

नोट - ऊपर बताएं बिंदु से पता चलता है कि व्यक्ति जल्दबाजी में किए गए कार्यों के कारण शर्मिंदगी का सामना कर सकता है। साथ ही इससे उसकी सेहत पर बी गलत प्रभाव पड़ता है। ऐसे में जल्दबाजी के काम से बचें और खुद को खुश, मन स्थिर और संतुष्ट रखने के लिए ऊपर दिए टिप्स को अपनाएं। 

 ये लेख गेटवे ऑफ हीलिंग साइकोथेरेपिस्ट डॉ. चांदनी (Dr. Chandni Tugnait, M.D (A.M.) Psychotherapist, Lifestyle Coach & Healer) से बातचीत पर आधारित है।

इस लेख में इस्तेमाल की जानें वाली फोटोज़ Freepik से ली गई हैं।

Read More Articles on mind body in hindi

Disclaimer