क्यों जरूरी है सनस्क्रीन लगाना? जानें कैसे चुनें अपने स्किन टाइप से अनुसार सही सनस्क्रीन क्रीम

त्वचा को सुरक्षित रखने के लिए सनस्क्रीन लगाना बहुत जरूरी होता है। यह हमारी त्वचा को सनबर्न और टैनिंग से बचाता है। चुनें अपने लिए सही सनस्क्रीन

Anju Rawat
Written by: Anju RawatPublished at: Apr 09, 2021Updated at: Mar 22, 2022
क्यों जरूरी है सनस्क्रीन लगाना? जानें कैसे चुनें अपने स्किन टाइप से अनुसार सही सनस्क्रीन क्रीम

Sunscreen Benefits for Skin: आप अपनी त्वचा को सुरक्षित और स्वस्थ रखने के लिए कई उपाय अपनाती हैं। रोजाना घर से बाहर निकलते हुए त्वचा को मॉयश्चराइज करती हैं। क्या सिर्फ त्वचा को मॉयश्चराइज करने से ही आपकी त्वचा सुरक्षित हो जाती है? बिल्कुल नहीं। मॉयश्चराइजर स्किन में नमी बनाए रखता है, लेकिन यह धूप से त्वचा का बचाव नहीं कर पाता है। ऐसे में धूप और सूरज की किरणों से त्वचा को सुरक्षित रखने के लिए सनस्क्रीन लगाना जरूरी होता है। आपको अपनी स्किन टाइप के अनुसार ही सनस्क्रीन का चुनाव करना चाहिए। पचौली वैलनेस क्लीनिक की कॉस्मेटोलॉजिस्ट प्रीति सेठ से जानें स्किन टाइप के अनुसार सही सनस्क्रीन कैसे चुनें (How to Choose Sunscreen According to Skin Type)? 

sunscreen

सनस्क्रीन क्या काम करती है? (Sunscreen for Face Importance)

त्वचा को कई तरह की परेशानियों से बचाने के लिए सनस्क्रीन का इस्तेमाल करना जरूरी होता है। इसका इस्तेमाल गर्मी के साथ ही हर मौसम में किया जाए तो त्वचा हमेशा सुरक्षित रहती है। सनस्क्रीन (Sunscreen Benefits for Skin) त्वचा को सनबर्न, टैनिंग से बचाता है। 

सनबर्न से बचाए सनस्क्रीन (Sunscreen for Sunburn)

गर्मियों में धूप और गर्मी से त्वचा के खराब होने की संभावना ज्यादा होती है। सूरज की किरणों से स्किन को नुकसान पहुंचता है और त्वचा बेजान दिखने लगती है। इसलिए सनस्क्रीन लगाया जाता है। सनस्क्रीन त्वचा को सनबर्न से बचाता है। सनबर्न से हमारी त्वचा कमजोर पड़ने लगती हैं और बेजान दिखती है। सनबर्न ब्लेमिशेज यानी झाइयों (Blemishes) का भी कारण बनता है। इसलिए हमेशा घर से बाहर निकलते हुए सनस्क्रीन लगाएं। खासकर आंखों के नीचे और ओपन एरिया पर सनस्क्रीन जरूर लगाना चाहिए।  

इसे भी पढ़ें - सेंसिटिव है त्वचा तो स्किन केयर प्रोडक्ट खरीदते समय जांच लें ये 4 इंग्रीडिएंट्स, ताकि न हो रैशेज और दाने

टैनिंग से बचाए सनस्क्रीन (Sunscreen for Tanning)

सूरज की पराबैंगनी किरणों (Ultraviolet Rays of the Sun) से हमारी त्वचा को काफी नुकसान होता है। दूसरी समस्याओं के साथ ही टैनिंग एक बहुत बड़ी दिक्कत है। टैनिंग यानि हमारे शरीर का वो खुला हिस्सा जो सूर्य के सीधे संपर्क में ज्यादा देर रहने की वजह से काला पड़ जाता है, उसे टैनिंग कहते हैं। तो टैनिंग से बचाव करने के लिए घर से बाहर निकलते समय सनस्क्रीन जरूर लगाना चाहिए। 30 या उससे ज्यादा के उम्र वालों को एसपीएफ वाला सनस्क्रीन इस्तेमाल करना चाहिए। सनस्क्रीन टैनिंग से बचाव करता है और त्वचा को सुरक्षित रखता है।

tanning

त्वचा को रखता है हेल्दी सनस्क्रीन (Sunscreen for Good Skin)

धूप में निकलने से पहले सनस्क्रीन लगाने पर त्वचा सुरक्षित रहती है। इसे कोई नुकसान नहीं होता है। इसमें त्वचा के लिए जरूरी प्रोटीन जैसे कोलेजिन, कैरोटीन और इलास्टिन होता है, जो त्वचा को मुलायम और हेल्दी (Sunscreen for Better Skin) रखने में मदद करते हैं। ये सभी तत्व त्वचा को सूरज की हानिकारक किरणों से बचाते हैं। त्वचा की सुरक्षा के लिए सनस्क्रीन लगाना जरूरी होता है।

स्किन कैंसर से बचाए सनस्क्रीन (Sunscreen Prevent Skin Cancer)

सनस्क्रीन स्किन को कैंसर से भी बचाने में भी मदद करता है। खासकर मेलानोमा कैंसर (Melanoma Cancer in Hindi), यह त्वचा का सबसे खराब माना जाने वाला कैंसर होता है, जो महिलाओं के लिए बेहद खतरनाक होता है। इसलिए स्किन कैंसर जैसी गंभीर बीमारी से बचने के लिए सनस्क्रीन का इस्तेमाल जरूर करना चाहिए। 

अपनी स्किन टाइप के अकॉर्डिंग खरीदें सनस्क्रीन (How to Choose Sunscreen According to Skin Type)

सनस्क्रीन लगाना बहुत जरूरी होता है। लेकिन सनस्क्रीन हमेशा अपने त्वचा के अनुरूप ही लगाना चाहिए। बाजार में ऑयली स्किन, ड्राय स्किन और सेंसिटिव स्किन वालों के लिए अलग-अलग सनस्क्रीन मौजूद हैं। ऐसे में जरूरी है कि त्वचा को ध्यान में रखकर ही सनस्क्रीन खरीदें। ऐसा न करने पर आपकी त्वचा को नुकसान पहुंत सकता है। सही सनस्क्रीन लगाने पर त्वचा सूरज की किरणों से बचती है और उसे कोई नुकसान नहीं होता है।

इसे भी पढ़ें - गर्मी में अपनी स्किन टाइप के अनुसार लगाएं फेस पैक, कॉस्मेटोलॉजिस्ट से जानें कैसे बनाएं अपने लिए फेस पैक

ऑयली स्किन के लिए सनस्क्रीन (Sunscreen for Oily Skin)

ऐसी स्किन जो बहुत ज्यादा ऑयली या ऐक्ने प्रोन (Oily and Acne Prone) है उसके लिए मिनरल सनस्क्रीन (Mineral Sunscreen) काफी अच्छा होता है। इसमें जिंक ऑक्साइड और टाइटेनियम डाइऑक्साइड (Zinc Oxide and Titanium Dioxide) होता है, जो सूरज की हानिकारक किरणों (Harmful Rays of Sun) से त्वचा को बचाता है। इसकी सबसे बड़ी खासियत है कि यह ऑयली या बहुत ज्यादा क्रीमी नहीं होता है। ऑयली स्किन वाले जब सनस्क्रीन लें, तो देखें कि उसमें ग्रीन टी एक्ट्रैक्ट (Green Tea Extract), बाओब ऑयल (Baobab Oil), एल-कार्निटिन (L-Carnitine) और निकोटिनैमाइड (Nicotinamide) हो। ये इंग्रीडिएंट्स (Ingredients) स्किन को प्रोटेक्ट और ब्राइट बनाती हैं। इसके साथ ही ये त्वचा को एक्ने से भी बचाती हैं।  

ड्राय स्किन के लिए सनस्क्रीन (Sunscreen for Dry Skin)

dry skin

ड्राय स्किन वालों को हमेशा मिनरल या केमिकल सनस्क्रीन (Mineral or Chemical Sunscreen) खरीदने चाहिए। मिनरल सनस्क्रीन लगाते ही त्वचा पर असर दिखाना शुरू कर हो जाता है। यह ड्राय स्किन वालों के लिए काफी अच्छा सनस्क्रीन होता है। केमिकल सनस्क्रीन भी ड्राय स्किन वाले लगा सकते हैं, लेकिन केमिकल सनस्क्रीन को बाहर जाने से करीब 20-30 मिनट पहले लगा लेना चाहिए। इससे यह त्वचा में अच्छे से ऑर्ब्जव हो जाता है। इसके अलावा ड्राय स्किन वालों के लिए मॉयश्चराइजिंग सनस्क्रीन (Moisturizing Sunscreen) भी अच्छा होता है। अकसर ड्राय स्किन पर रिंकल्स जल्दी जा जाते हैं, इसलिए ऐसा सनस्क्रीन चुनें जिसमें एंटीऑक्सीडेंट (Antioxidants), विटमिन सी और विटामिन ई (Vitamin C and Vitamin E) भी हों।

सेंसिटिव स्किन के लिए सनस्क्रीन (Sunscreen for Sensitive Skin)

सेंसिटिव स्किन वालों को किसी भी प्रोडक्ट का चुनाव करते या खरीदते समय ज्यादा अलर्ट होने की जरूरत होती हैं। क्योंकि सेंसिटिव स्किन पर सभी तरह के प्रोडक्ट का इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है। ऐसा करने पर उन्हें त्वचा से जुड़ी परेशानियां (Skin Problems) हो सकती हैं। सनस्क्रीन खरीदते हुए भी उन्हें अपनी स्किन टाइप का ध्यान रखना जरूरी होता है। सेंसेटिव स्किन वालों को मिनरल सनस्क्रीन खरीदना चाहिए, जिसमें जिंकऑक्साइड और टाइटेनियम डाइऑक्साइड (Zinc Oxide and Titanium Dioxide) हो। अगर आपकी सेंसिटिव स्किन है तो केमिकल बेस्ड सनस्क्रीन खरीदने से आपको बचना चाहिए। केमिकल आपकी त्वचा को नुकसान पहुंचा सकता है।   

कॉम्बिनेशन स्किन के लिए सनस्क्रीन (Sunscreen for Combination Skin)

अगर आपकी स्किन ड्राय और सेंसिटिव हैं, तो आप अपने लिए क्रीमी सनस्क्रीन (Creamy Sunscreen) चुन सकते हैं। वहीं ऑयली और सेंसिटिव स्किन (Oily and Sensitive Skin) वालों के लिए जेल बेस्ड सनस्क्रीन (Gel Based Sunscreen) खरीदना बेहतर होता है। इस स्किन टाइप वालों को कोशिश करनी चाहिए कि केमिकल बेस्ड सनस्क्रीन (Chemical Based Sunscreen) का इस्तेमाल न करें।

सभी मौसम में सनस्क्रीन लगाना बहुत जरूरी होता है। सनस्क्रीन धूप से त्वचा की रक्षा करता है। लेकिन आपको हमेशा अपनी स्किन टाइप के अकॉर्डिंग ही सनस्क्रीन का चुनाव करना चाहिए। अगर आप अपनी स्किन टाइप को नहीं पहचान पा रही हैं तो एक बार डर्मेटोलॉजिस्ट या कॉस्मेटोलॉजिस्ट से सलाह जरूर लें। कोई भी सनस्क्रीन लेने से बचें, वरना आपकी स्किन पर इसका साइड इफेक्ट भी दिख सकता है। हमेशा अपनी त्वचा को ध्यान में रखकर ही सनस्क्रीन खरीदें। 

Read More Articles on Skin Care in Hindi

Disclaimer