महिलाओं में इन 6 कारणों से हो सकता है हार्मोनल असंतुलन

Hormonal Imbalance Causes in Females in Hindi: महिलाओं को हार्मोनल असंतुलन होने पर थकान, कमजोरी, अनियमित पीरियड्स जैसे लक्षण महसूस हो सकते हैं।

Anju Rawat
Written by: Anju RawatUpdated at: Nov 09, 2022 15:49 IST
महिलाओं में इन 6 कारणों से हो सकता है हार्मोनल असंतुलन

Hormonal Imbalance Causes in Females in Hindi: हार्मोन्स का हमारे शरीर में अहम रोल होता है। स्वस्थ रहने के लिए शरीर में हार्मोन्स का संतुलन में रहना बहुत जरूरी होता है। जब किसी भी व्यक्ति में हार्मोन्स असंतुलित होते हैं, तो कई तरह की समस्याएं पैदा होने लगती हैं। पुरुषों और महिलाओं दोनों में हार्मोन्स असंतुलित हो सकते हैं। लेकिन इन दोनों में हार्मोन्स असंतुलित होने के लक्षण और कारण अलग-अलग हो सकते हैं। अगर किसी महिला में हार्मोन असंतुलित होते हैं, तो उसे थकान, वजन बढ़ना, पीसीओडी, सूजन, पसीना जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। अब आप सोच रहे होंगे कि आखिर किसी महिला के शरीर में हार्मोन असंतुलित क्यों हो जाते हैं? या फिर महिलाओं में हार्मोनल असंतुलन के कारण क्या हैं? (Hormonal Imbalance Causes in Females in Hindi)

महिलाओं में हार्मोनल असंतुलन के कारण- Hormonal Imbalance Causes in Females in Hindi

महिलाओं को अपने जीवन के अलग-अलग पड़ाव पर हार्मोन असंतुलन का सामना करना पड़ता है। महिलाओं को मासिक धर्म, यौवन, गर्भावस्था और मेनोपॉज के दिनों में हार्मोन असंतुलन हो सकता है। लेकिन इन दिनों में हार्मोन्स का असंतुलित होना सामान्य होता है। लेकिन आजकल कई महिलाओं को सामान्य दिनों में भी हार्मोन असंतुलन के लक्षणों से जूझना पड़ता है। महिलाओं में हार्मोन असंतुलन के कारण इस प्रकार हैं- 

1. अनहेल्दी डाइट

खान-पान का हमारे हार्मोन्स पर सीधा असर पड़ता है। आजकल की अनहेल्दी डाइट की वजह से अधिकतर महिलाओं को हार्मोन असंतुलन का सामना करना पड़ रहा है। अगर आपके हार्मोन्स भी डिसबैलेंस हैं, तो आपको हेल्दी डाइट टिप्स ही फॉलो करने चाहिए।

इसे भी पढ़ें- महिलाओं और पुरुषों में हार्मोन असंतुलित के होते हैं अलग लक्षण, जानें इनके कारण भी

hormonal imbalance

2. तनाव में रहना

अगर आप अकसर ही तनाव में रहते हैं, तो आपको हार्मोन असंतुलन का सामना करना पड़ सकता है। तनाव महिलाओं में होने वाले हार्मोन असंतुलन का एक मुख्य कारण हो सकता है। इसलिए अगर आप तनाव में रहते हैं और हार्मोन असंतुलन के लक्षणों का भी अनुभव हो रहा है, तो स्ट्रेस फ्री रहने की पूरी कोशिश करें। 

3. गर्भ निरोधक दवाइयां

गर्भ निरोधक दवाइयां भी महिलाओं में हार्मोन असंतुलन का कारण बन सकती हैं। अगर आपको गर्भ निरोधक दवाइयां लेने के बाद हार्मोन असंतुलन के लक्षण महसूस हो, तो इसके बारे में डॉक्टर को जरूर बताएं। अपने हार्मोन्स को संतुलन में रखने के लिए आपको अधिक मात्रा में गर्भ निरोधक दवाइयां लेने से भी बचना चाहिए।  

4. थायराइड

थायराइड महिलाओं में होने वाले हार्मोनल असंतुलन का एक मुख्य कारण हो सकता है। हापोथायरायडिज्म और हाइपरथायरायडिज्म दोनों ही स्थितियां हार्मोन असंतुलन का कारण बन सकती हैं। इसलिए अगर आपको थायराइड है, तो अपने हार्मोन्स को संतुलन में रखने की पूरी कोशिश करें। अन्यथा आपकी दिक्कतें बढ़ सकती हैं। 

5. आयोडीन की कमी

महिलाओं में आयोडीन की कमी होना भी हार्मोनल असंतुलन का कारण हो सकता है। जब किसी महिलाओं के शरीर में आयोडीन की कमी होती है, तो उसे हार्मोनल डिसबैलेंस के लक्षणों का अनुभव करना पड़ सकता है। इसलिए अपनी डाइट में पर्याप्त आयोडीन को शामिल करें। 

इसे भी पढ़ें- हार्मोन्स असंतुलन बन सकता है महिलाओं में कई परेशानियों का कारण, जानें किस तरह बैलेंस रखें अपना हार्मोन?

6. इनएक्टिव लाइफस्टाइल

आजकल अधिकतर महिलाएं दोहरी जिंदगी जी रही हैं। ऐसे में वे फिजिकली एक्टिव नहीं रह पाती हैं। जब कोई महिला इनएक्टिव लाइफस्टाइल के साथ जीती है, तो उसे हार्मोनल असंतुलन का सामना करना पड़ सकता है। इसलिए अपने हार्मोन्स को संतुलन में रखने के लिए आपको अपनी जीवनशैली में एक्सरसाइज, योग आदि को जरूर शामिल करना चाहिए। 

Hormonal Imbalance Causes in Females in Hindi: अनहेल्दी डाइट, तनाव, गर्भ निरोधक दवाइयां, थायराइड, आयोडीन की कमी और इनएक्टिव लाइफस्टाइल जैसे कारणों की वजह से महिलाओं में हार्मोनल असंतुलन हो सकता है। अगर आपको भी हार्मोनल असंतुलन के लक्षणों का अनुभव हो, तो इन्हें बिल्कुल भी नजरअंदाज न करें। 

Disclaimer