पीर‍ियड्स के दौरान हो रही है हैवी ब्लीडिंग? इसे रोकने के लिए अपनाएं ये 5 उपाय

पीर‍ियड्स के दौरान हैवी ब्‍लीड‍िंग होने पर आप कुछ आसान उपाय अपना सकते हैं, जानते हैं व‍िस्‍तार से 

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Jan 18, 2022Updated at: Jan 18, 2022
पीर‍ियड्स के दौरान हो रही है हैवी ब्लीडिंग? इसे रोकने के लिए अपनाएं ये 5 उपाय

पीर‍ियड्स के दौरान कई बार हैवी ब्‍लीड‍िंग होती है, आम तौर पर ये परेशानी हार्मोनल इंबैलेंस के कारण होती है। अगर आपको जल्‍दी-जल्‍दी पैड बदलना पड़ रहा है ता इसका मतलब है ब्‍लीड‍िंग सामान्‍य नहीं है, कई मह‍िलाओं को हैवी ब्‍लीड‍िंग के साथ पेट में तेज दर्द होने की श‍िकायत भी होती है। ये समस्‍या अगर एक बार हो तो इतनी गंभीर बात नहीं है पर अगर हर बार ही फ्लो ज्‍यादा हो रहा है और पीरियड्स के बीच भी ब्‍लीड‍िंग हो रही है इसका कारण फाइब्राइड, ट्यूमर या अन्‍य कोई समस्‍या हो सकती है ऐसे में आपको डॉक्‍टर से संपर्क करना चाह‍िए वहीं सामान्‍य तौर पर होने वाली हैवी ब्‍लीड‍िंग को रोकने के ल‍िए आप कुछ आसान उपायों की मदद ले सकते हैं ज‍िसे हम आगे व‍िस्‍तार से जानेंगे।

periods heavy flow

image source:google

1. हैवी पीर‍ियड्स होने पर बॉडी को हाइड्रेट रखें (Hydration)

आपको हैवी पीर‍ियड्स की समस्‍या होने पर बॉडी को हाइड्रेट रखना है। रोजाना 4 से 6 ग‍िलास पानी का सेवन करें, इससे आपके शरीर में ब्‍लड की कमी नहीं होगी। आपको अपनी डाइट में नमक की कमी भी नहीं होने देनी है, थोड़ी-थोड़ी देर में आप फल और ताजी सब्‍ज‍ियों के रस का सेवन करते रहें। इससे पोषक तत्‍व भी शरीर में जाएंगे और ड‍िहाइड्रेशन की समस्‍या भी नहीं होगी।

2. अदरक और गाजर का सेवन करें (Ginger and carrot)

आपको पीर‍ियड्स के दौरान हैवी फ्लो की समस्‍या को दूर करने के ल‍िए अदरक का सेवन करना चाह‍िए। अदरक को आप पानी में उबाल लें, इसे कूटकर आप इसमें शहद म‍िलाएं और इस म‍िश्रण को द‍िन में दो से तीन खा सकते हैं। गाजर में कैरोटीन पाया जाता है, इससे शरीर में एस्‍ट्रोजन का लेवल मेनटेन रहता है। पीर‍ियड्स के दौरान हैवी ब्‍लीड‍िंग की समस्‍या होने पर आप इस म‍िश्रण का सेवन करें। आप अदरक और गाजर का म‍िश्रण खाएंगे तो आपको दर्द कम होगा।

इसे भी पढ़ें- पेट के बल न सोएं महिलाएं, लंबे समय में हो सकती हैं ये 5 समस्याएं

3. हल्दी वाला दूध (Haldi milk)

हल्‍दी एक दर्दन‍िवारक हर्ब है। हैवी पीर‍ियड्स के दौरान होने वाले दर्द को कम करने के ल‍िए आप हल्‍दी के दूध का सेवन करें। रोजाना एक हफ्ते तक हल्‍दी वाला दूध प‍िएं। हल्‍दी वाले द‍ूध का सेवन आपको रात में करना चाहिए। वहीं खाने में भी आप हल्‍दी डालकर खाएं पर हल्‍दी और दूध के म‍िश्रण का सेवन करने से हैवी प‍ीर‍ियड्स की समस्‍या भी दूर होती है और दर्द से भी न‍िजात म‍िलता है। दूध में आप हल्‍दी के अलावा दालचीनी भी म‍िला सकते हैं। दालचीनी से भी पीर‍ियड्स के दौरान होने वाली क्रैम्‍पस की समस्‍या से निजात म‍िलता है।

4. हैवी पीर‍ियड्स होने पर व‍िटाम‍िन सी र‍िच फूड्स खाएं (Vitamin C rich foods)

vitamin c rich foods

image source:google

हैवी पीर‍ियड्स की समस्‍या होने पर आपको व‍िटाम‍िन सी र‍िच फूड्स का सेवन करना चाह‍िए। व‍िटाम‍िन सी का सेवन करने से आपके शरीर को आयरन म‍िलेगा और एनीम‍िया की समस्‍या नहीं होगी। आपको संतरे का सेवन करना चाह‍िए। व‍िटाम‍िन सी र‍िच फूड्स में आप स्‍ट्रॉबेरी, कीवी, ब्रोकली, टमाटर जूस आद‍ि का सेवन करें। हैवी ब्‍लीड‍िंग होने पर आपके शरीर में खून की कमी न हो जाए इसके ल‍िए आपको आयरन र‍िच डाइट का सेवन करना चाह‍िए। आयरन से शरीर में हीमोग्‍लोबि‍न बनेगा और आपके शरीर में एनीम‍िया की समस्‍या नहीं होगी। अगर थकान, कमजोरी जैसे लक्षण नजर आएं तो डॉक्‍टर को द‍िखाएं ये एनीम‍िया के लक्षण हो सकते हैं।

इसे भी पढ़ें- प्रेग्नेंसी में Low BP की समस्या को कैसे दूर करें? डॉक्टर से जानें आसान उपाय

5. त‍िल, गुड़ और सौंफ खाएं (Eat sesame seeds, jaggery and saunf)

पीरियड्स में हैवी ब्‍लीड‍िंग होने पर आप गुड़, त‍िल और सौंफ का सेवन करें। गुड़ और त‍िल की तासीर गरम होती है, आप दोनों का म‍िश्रण खाएंगे तो पीर‍ियड्स के दौरान खून के थक्‍के जमने की समस्‍या नहीं होगी। इससे शरीर से गंदा खून न‍िकल जाएगा और दर्द से भी राहत म‍िलेगी। हैवी ब्‍लीड‍िंग की समस्‍या को दूर करने के ल‍िए आप सौंफ के पाउडर का सेवन कर सकते हैं। सौंफ के पाउडर को एक कप पानी में उबालकर फ‍िर उस पानी को छानकर उसका सेवन करें। इससे पीर‍ियड्स और हैवी फ्लो के दौरान होने वाले दर्द से राहत म‍िलेगी।

पीर‍ियड्स के दौरान होने वाले हैवी फ्लो की समस्‍या हार्मोनल इंबैलेंस के कारण हो सकती है पर पीर‍ियड्स के बीच में ब्‍लीड‍िंग या हर बार हैवी फ्लो होने की समस्‍या को नजरअंदाज न करें, ये ट्यूमर के लक्षण भी हो सकते हैं, इसका जल्‍द से जल्‍द इलाज जरूरी है। 

main image source: theconversation.com

Disclaimer