बिस्तर के एक सिरे को ऊंचा रखने (तकिया लगाने) से सेहत को मिलते हैं ये 5 फायदे

सोने के गलत तरीके का असर आपकी संवेदनशील नसों पर भी होता है, जिसकी वजह से इनमें सूजन आ जाती है। इसलिए सूजन और दर्द से बचने के लिए तकिया लगा कर सोएं। 

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: Aug 25, 2021Updated at: Aug 25, 2021
बिस्तर के एक सिरे को ऊंचा रखने (तकिया लगाने) से सेहत को मिलते हैं ये 5 फायदे

सोने का सही तरीका हम में से ज्यादातर लोग नहीं जानते। कुछ लोग जहां काम करते करते ऐसे ही सो जाते हैं वहीं कुछ लोग पेट के बल तकिए के सहारे सोते हैं। पर क्या आपको पता है कि सोने का तरीका सही ना होने से ये आपके स्वास्थ्य को कितना प्रभावित कर सकता है। जी हां, अगर आप गलत तरीके से सोते हैं तो आपको गैस, बदहजमी और पेट से जुड़ी कई परेशानियां हो सकती हैं। ऐसे में आपको सोने के सही तरीके के बारे में जानना चाहिए। जैसे कि सोने का सबसे अच्छा तरीका है कि आपके बिस्तर का एक सिरा यानी सिर का सिरा ऊंचा हो और पैर उससे थोड़ा नीचे हो। इसके अलावा कुछ एक्सपर्ट्स का माना है कि सोते समय आपका सिर थोड़ा सा ऊपर, शरीर बिस्तर के सीध में और पैर सिर और शरीर से नीचे होना चाहिए। दरअसल, ये  तरीका आपके ब्लड सर्कुलेशन को सही करने से लेकर आपकी नींद से जुड़ी कई पेरशानियों को दूर कर सकता है। तो, आइए जानते हैं बिस्तर के एक सिरे को ऊंचा रखने (तकिया लगा कर सोने)  के फायदे।

inside1Benefitsofelevatedbed

Image credit: The Spruce

बिस्तर के एक सिरे को ऊंचा रखने के फायदे- Benefits of sleeping with elevated head 

1. स्लीप एपनिया से बचाव

अपने सिर को ऊंचा उठाकर सोने से स्लीप एपनिया से बचाव में मदद मिलती है। ये एक सामान्य स्लीप डिसऑर्डर है जो सांस लेने में कई रुकावटें पैदा करता है और आपकी नींद खराब करता है। दरअसल, स्लीप एपनिया में लोग जोर जोर से खर्राटे लेते हैं और इस दौरान जब हम बार-बार लंबी सांस ले रहे होते हैं तो,  मस्तिष्क शरीर को जागने के लिए संकेत देता है, जिससे हमारी नींद प्रभावित होती है। नींद में ये व्यवधान आपको भले ही छोटा लगता हो लेकिन आप इसे अगले दिन महसूस करेंगे। पूरी रात के आराम के बाद भी, आप थका हुआ और चिड़चिड़े महसूस कर सकते हैं। ऐसे में सिरहाने का ऊंचा करके सोना आपकी नींद को बेहतर बनाता है और सोने में मदद करता है।

2. शरीर दर्द नहीं होता

बिस्तर के एक सिरे को ऊंचा रखने और उस पर सोने से आपका बॉडी पॉश्चर सही रहता है जिससे आपको बॉडी पेन और पीठ दर्द की समस्या नहीं होती।  एक सपाट सतह पर लेटने से शरीर का दबाव कम नहीं हो सकता है और आपको दर्द से राहत भी नहीं मिल सकती। पर जब आप ऐसे बिस्तर पर सोते हैं तो आपकी कमर को आराम मिलता है और आप बेहतर महसूस करते हैं। इस तरह ऐसे बिस्तर में सोना आपको शरीर में सूजन और क्रोनिक पेन से बचा सकता है।

inside2bodypain

Image credit: getty images

इसे भी पढ़ें : रात में होता है पेट दर्द? जानिए इसके क्या कारण हो सकते हैं और दर्द दूर करने के 5 आसान उपाय

3. एसिडिटी की समस्या से बचाव

जब आप बिस्तर के एक सिरे को ऊंचा रख कर सोते हैं तो, आपको एसिडिटी की समस्या महसूस हो सकती है। दरअसल, जो लोग खाने के बाद सपाट बिस्तर पर सोते हैं उन्हें एसिड रिफलक्स (GERD) की समस्या हो सकती है। इस समस्या में आपका खाना सही से पच नहीं पाता और एसिड आपकी फूड पाइप में सोने के बाद ऊपर तक आ जाता है। ऐसे में ये सीने में जलन पैदा करता है जिससे बचने के लिए आप इस पॉजिशन में सो सकते हैं।

4. ब्लड सर्कुलेशन को बेहतर बनाता है

एक सही बॉडी पोजिशन में सोना ब्लड सर्कुलेशन को बेहतर बनाने में मदद करता है। दरअसल, सिर और पैर ऊंचे होने से आपका ब्लड सर्कुलेशन बेहतर रहता है। यह स्थिति आपके हृदय में अधिक ब्लड सर्कुलेशन को सक्षम बनाती है। हृदय अधिक जोर से पंप करता है ताकि रक्त हृदय से पैरों की तरह आगे के क्षेत्रों तक पहुंच सके। साथ ही इस जीरो ग्रेविटेशन की स्थिति में सोने से भी नसें अधिक प्रभावी ढंग से सिकुड़ती हैं। यह पूरे शरीर में समान रूप से रक्त प्रवाह में मदद करके वैरिकाज नसों वाले लोगों की भी मदद कर सकता है।

इसे भी पढ़ें : शरीर को इन 8 कामों के लिए हमेशा होती है सोडियम की जरूरत, जानें सोडियम के फायदे

5. ब्रेन को हेल्दी रखता है

सिर ऊंचा और बॉडी नीची करके सोने से दिमाग खुद को डिटॉक्स कर लेता है। यह प्रक्रिया तब बेहतर होती है जब शरीर को ऊपर उठाया जाता है। साथ ही ऐसे सोने से ग्लाइम्फेटिक सिस्टम बेहतर तरीके से काम करता है। ग्लाइम्फैटिक प्रणाली ब्रेन को डिटॉक्स करती है और इसके काम काज को बेहतर बनाती है। 

ऐसे सोने का एक फायदा ये भी है कि आप मल्टीपल स्केलेरोसिस, रीढ़ की हड्डी में चोट या सेरेब्रल पाल्सी सहित तंत्रिका तंत्र की समस्याओं से बच सकते हैं। साथ ही जीरो ग्रेविटेशन की स्थिति में सोने से नसों पर दबाव कम होता है और ये आपकी नसों को हेल्दी रखने में मदद करती है। 

Main image credit:GhostBed 

Read more articles on Miscellaneous in hindi

Disclaimer