शरीर को इन 8 कामों के लिए हमेशा होती है सोडियम की जरूरत, जानें सोडियम के फायदे

नमक में मिलने वाला सोडियम शरीर के कई अंगों के लिए फायदेमंद है। इसकी कमी से आपको कई गंभीर बीमारियां भी हो सकती हैं। 

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariUpdated at: Aug 23, 2021 18:30 IST
शरीर को इन 8 कामों के लिए हमेशा होती है सोडियम की जरूरत, जानें सोडियम के फायदे

सोडियम (Sodium), जिसे हम आमतौर पर नमक समझते हैं , ये शरीर के लिए हमेशा नुकसानदेह नहीं होता। दरअसल, दुनियाभर में ज्यादातर लोग सोडियम का नाम लेते ही सोचते हैं कि इससे शरीर को नुकसान (sodium side effects) ही होता है। लोगों का मानना है कि सोडियम के बढ़ जाने से शरीर में सूजन आ जाती है, ब्लड प्रेशर हाई रहता है और दिल से जुड़ी बीमारियां होती हैं। पर तब क्या अगर शरीर में सोडियम की कमी हो जाए (low level of sodium)? जी हां, सोडियम की कमी से आपके दिल और दिमाग, दोनों के कामकाज प्रभावित हो सकते हैं। इसके अलावा सोडियम शरीर के कई दूसरे अंगों को स्वस्थ रखने के लिए भी जरूरी है।  साथ ही जिन लोगों में सोडियम की कमी होती है उन्हें हाइपोनेट्रेमिया (Hyponatremia) नाम की बीमारी हो सकती है। तो, आइए जानते हैं शरीर को किन कामों के लिए सोडियम की जरूरत है और इसके फायदे। इसी बारे में हमने उद्यान हेल्थ केयर, लखनऊ के डॉ. प्रदीप श्रीवास्तव से भी बात की जो कि एक जनरल फिजिशियन हैं। 

inside2salt

सोडियम के फायदे-Sodium health benefits in hindi 

सोडियम, जो नमक से आता है वो शरीर के कई कामों को करने में मदद कर सकता है। सोडियम की खास बात ये है कि सोडियम के इस्तेमाल से शरीर में द्रव (Fluid) की मात्रा सही रखती है। इसे आसान भाषा में ऐसे समझिए कि अगर आपके शरीर में  द्रव (Fluid)की मात्रा कम हो जाएगी, तो शरीर का हर अंग अपना पानी खो देगा। इतना ही नहीं खून में भी तरह पदार्थ कि जो मात्रा होती है वो सोडियम के लेवल से जुड़ा हुआ होता है। 

ये द्रव हृदय, लिवर और किडनी के स्वास्थ्य के लिए भी बेहद जरूरी है और इसके लिए शरीर में सोडियम का संतुलन होना जरूरी है। इसके अलावा भी शरीर को सोडियम की बहुत जरूर है। जैसे कि

1. लो ब्लड प्रेशर से बचाता है

आपने सुना होगा कि लो ब्लड प्रेशर होने पर सबसे पहले व्यक्ति को नमक पानी दिया जाता है या फिर कोई इलेक्ट्रोलाइट ड्रिंक (Electrolyte drink)। ताकि सबसे पहले शरीर में नमक का बैलेंस सही हो। पर आपने कभी सोचा है कि नमक का बैलेंस होना ब्लड प्रेशर के लिए क्यों जरूरी है?  दरअसल, नमक जिसमें कि सोडियम होता है वो हमारे द्रव के स्तर को संतुलित करने में मदद करता है, हमारी नसों को फैलने में मदद करता है और एक तरह से खून की आवाजाही को स्मूद रखता है।  साथ ही ये हमारी मांसपेशियोको सिकुड़ने और आराम करने में सक्षम बनाता है। जिससे ब्लड प्रेशर सही रहता है और संतुलित रहता है। पर अगर हम अधिक मात्रा में सोडियम लेंगे तो, इससे हमारा ब्लड प्रेशर भी तेजी से बढ़ सकता है।

2. सेल्स को हेल्दी रखता है

आपने कभी सोचा है कि आपके शरीर के सेल्स और टिशूज हेल्दी कैसे रहते हैं। दरअसल, सोडियम आपके के सेल्स और टिशूज के लिए सबसे जरूर इलेक्ट्रोलाइट है। सोडियम एक आवश्यक पोषक तत्व है जो सामान्य सेलुलर होमियोस्टेसिस के रखरखाव, द्रव और इलेक्ट्रोलाइट संतुलन के नियमन में मदद करता है। 

3. नर्व्स के काम काज में मदद करता है

सोडियम शरीर के चारों ओर तंत्रिका तंत्र के ट्रांसमिशन को सक्षम बनाता है और इस संचार प्रणाली को बेहतर बनाने में मदद करता है। सोडियम एक इलेक्ट्रोलाइट है, जैसे पोटेशियम, कैल्शियम और मैग्नीशियम। यह शरीर में कोशिकाओं के अंदर और बाहर जाने वाले विद्युत आवेशों को नियंत्रित करते हैं और बिना सोडियम के ये अंसतुलित हो सकता है। 

inside1diziness

4. मसल्स के फंक्शन को बेहतर बनाता है

सोडियम  मसल्स के फंक्शन को बेहतर बनान में मदद करता है। ये मांसपेशियों के अंदर कैल्शियम आयनों को ट्रिगर करने के लिए संदेश भेजता है और मसल्स के काम काज में मदद करता है। ये कैल्शियम आयन मांसपेशी फाइबर में फैल जाते हैं। मांसपेशियों की कोशिकाओं के भीतर प्रोटीन की बनावट के बीच संबंध बदल जाता है, जिससे संकुचन होता है। दरअसल,  नसें मांसपेशियों की कोशिकाओं को सिकुड़ने के लिए कहती हैं। आराम की स्थिति में, सोडियम अंदर की तुलना में मांसपेशियों की कोशिकाओं के बाहर ज्यादा होता है और पोटेशियम बाहर की तुलना में अंदर अधिक होता है। तो, दोनों मिल कर मसल्स कांट्रेक्शन में मदद करते हैं। 

इसे भी पढ़ें : किसी व्यक्ति में आलस जैसे दिखने वाले ये 5 लक्षण हो सकते हैं डिप्रेशन का संकेत, जानें इनके बारे में

5. एडिमा से बचाता है

जब कोशिकाओं के बाहर तरल पदार्थ में सोडियम की मात्रा सामान्य से कम हो जाती है, तो स्तर को संतुलित करने के लिए पानी कोशिकाओं में चला जाता है। इससे कोशिकाएं बहुत अधिक पानी से फूल जाती हैं। मस्तिष्क की कोशिकाएं विशेष रूप से सूजन के प्रति संवेदनशील होती हैं, लो सोडियम के कई लक्षणों का कारण बनती हैं 

6. शरीर में पॉजिटिव इलेक्ट्रॉन्स के लिए जरूरी  

खून में सोडियम का स्तर बहुत कम होने से बॉडी में पॉजिटिव इलेक्ट्रॉन्स की भी कमी आ जाती है। इससे आपका दिमाग सही तरीके से कनेक्ट नहीं कर पाता है जिससे  शरीर के बाकी काम काज पर भी असर होता है। दरअसल, मसल्स और सेल्स इलेक्ट्रिकल कंरेंट पास करते हैं जिसके लिए शरीर में फ्लूड की मात्रा और पॉजिटिव इलेक्ट्रॉन्स सही होनी चाहिए था। ये ब्लड में इलेक्ट्रिकल चार्ज को कंट्रोल करने में मदद करता है। साथ ही ये मसल्स में इलेक्ट्रिकल कंट्रक्शन को स्टीमूलेट करने में भी मददगार है।

7. हाइपोनेट्रेमिया  (Hyponatremia) की बीमारी

जब आपके शरीर में सोडियम की मात्रा कम होती है, तो आपको  हाइपोनेट्रेमिया  (Hyponatremia) की बीमारी हो सकती है। हाइपोनेट्रेमिया तब होता है जब आपके खून में सोडियम की मात्रा असामान्य रूप से कम हो जाती है। सोडियम एक इलेक्ट्रोलाइट है और यह आपकी कोशिकाओं में और उसके आसपास पानी की मात्रा को नियंत्रित करने में मदद करता है।   हाइपोनेट्रेमिया होने पर लक्षणों में कुछ खास लक्षण नजर आते हैं जैसे कि 

  • -मतली और उल्टी
  • -सिरदर्द
  • -बेहोशी
  • -ऊर्जा की कमी
  • - उनींदापन और थकान
  • -बेचैनी और चिड़चिड़ापन
  • -मांसपेशियों में कमजोरी
  • - शरीर में अचानक से ऐंठन 

इसे भी पढ़ें : पाइल्स (बवासीर) का ऑपरेशन कराने से पहले इन 4 बातों का जरूर रखें ध्यान, नहीं तो हो सकता है नुकसान

8. शरीर में तरह पदार्थ का बढ़ जाना

सोडियम की कमी भी शरीर में तरल पदार्थों को बढ़ा सकती है। ये शरीर में तरह पदार्थ ज्यादा जमा (fluid retention) होने से होता है। शरीर में बहुत अधिक तरल पदार्थ है, तो शरीर में सूजन की समस्या तेजी से बढ़ने लगती है। इस मामले में द्रव प्रतिधारण को कम करने के लिए मूत्रवर्धक दिया जाता है।

इसके अलावा शरीर में सोडियम की कमी से एडिसन रोग, छोटी आंत में ब्लॉकेज, दस्त और उल्टी, अनएक्टिवेटेड थायराइड, दिल की धड़कनों से जुड़ी बीमारी और कई अन्य समस्याएं हो सकती हैं। इसलिए इन सबसे बचने के लिए रोजाना एक सही मात्रा में नमक का सेवन जरूर करें। 

Main Image credit:Neurology Consultants of Arizona

Read more articles on Miscellaneous in hindi

Disclaimer