लो-ब्लड प्रेशर का आयुर्वेदिक उपचार जानें आयुर्वेदाचार्य से

अगर आप भी लो-ब्लड प्रेशर का आयुर्वेदिक उपचार तलाश रहे हैं तो यहां आयुर्वेदाचार्य से जानें लो-ब्लड प्रेशर का उपचार। 

 
Kunal Mishra
Written by: Kunal MishraPublished at: Jun 11, 2021
लो-ब्लड प्रेशर का आयुर्वेदिक उपचार जानें आयुर्वेदाचार्य से

आयुर्वेद में कई समस्याओं का इलाज है। आयुर्वेदिक उपचार को प्राचीन काल से ही काफी कारगर और उपयोगी माना जाता रहा है और हो भी क्यों न लाखों लोग आयुर्वेद से ठीक होते आ रहे हैं। लो ब्लड प्रेशर आज के समय में अधिकांश लोगों की समस्या बन गया है। लंबे समय से दवाओं का सेवन कर रहे लोगों के मन में कई बार यह प्रशन उठता है कि क्या आयुर्वेद म़ें भी लो ब्लड प्रेशर का इलाज है? जी हां, आयुर्वेद द्वारा भी लो ब्लड प्रेशर की समस्या को नियंत्रित किया जा सकता है। आयुर्वेद के अनुसार जड़ी बूटियों का सेवन करने और नियमित व्यायाम या प्राणायाम करने की सलाह दी जाती है। इसी विषय पर विस्तार से जानने के लिए हमने हरियाणा के सिरसा जिले के आयुर्वेदाचार्य डॉक्टर श्रेय शर्मा (Dr. Shrey Sharma, Ayurvedacharya, Haryana) से बातचीत की। चलिए जानते हैं आयुर्वेद में लो ब्लड प्रेशर का उपचार किस तरह किया जाता है। 

blood pressure

लो ब्लड प्रेशर किसे होता है (Who has low blood pressure)

आयुर्वेदाचार्य डॉक्टर श्रेय शर्मा के मुताबिक ब्लड प्रेशर की समस्या आमतौर पर उन लोगों को होती है, जो शारीरिक गतिविधियों जैसे प्राणायाम और व्यायाम से कोसों दूर रहते हैं। जिनकी बॉडी में ब्लड सर्कुलेशन का स्तर खराब होता है, उन लोगों में यह समस्या ज्यादा देखने को मिलती है। आयुर्वेद के अनुसार व्यान वायु की अल्पता होना यानि नर्वस सिस्टम कमजोर होने से भी ऐसा होता है। इस स्तिथि में आयुर्वेद आपको नर्वाइन स्ट्रेंथ की दवाएं लेने की सलाह देता है। ऐसे में मरीज को नाड़ी बल्ले औषधी यानि की ताकत की औषधी दी जाती है। आयुर्वेद का पालन कर आप अपना ब्लड प्रेशर नियंत्रित रख सकते हैं।  

लो-ब्लड प्रेशर का आयर्वेदिक उपचार (Ayurvedic Treatment of Low Blood Pressure) 

ashwagandha

1. अश्वगंधा (Ashwagandha)

डॉ. श्रेय शर्मा ने बताया कि अश्वगंधा लो ब्लड प्रेशर में अहम भूमिका निभाता है। आयुर्वेद में अश्वगंधा को विषेश दर्जा दिया गया है। अश्वगंधा लेने से आप अपने ब्लड प्रेशर को आसानी से नियंत्रित कर सकते हैं। अश्वगंधा का इस्तेमाल लो ब्लड प्रेशर के साथ ही हाई ब्लड प्रेशर वाले व्यक्ति भी कर सकते हैं। इसे आप चूर्ण के तौर पर खा सकते हैं। ध्यान रहे कि अश्वगंधा का सेवन आपको लिमिटेड करना है। आप इसे दिन में एक से दो बार ले सकते हैं। इसकी मात्रा 2 ग्राम से 4 ग्राम तक ही रहनी चाहिए। इसे नवायाजल यानि हल्के गर्म पानी के साथ लेना फायदेमंद होता है। 

इसे भी पढ़ें - बिनौले के तेल (कॉटनसीड ऑयल) के 10 फायदे, प्रयोग का तरीका और 4 नुकसान

2. नमक की मात्रा बढ़ाएं (Increase Salt)

डॉ. श्रेय ने बताया कि व्यक्ति में नमक की मात्रा सामान्य रहनी चाहिए। आयुर्वेद के हिसाब से आप लो ब्लड प्रेशर में नमक का इस्तेमाल कर सकते हैं। आप चाहें तो सेंधा नमक का भी उपयोग कर सकते हैं। हालांकि इस समस्या में आपको पंचलवण का इस्तेमाल करने की भी सलाह दी जाती है। वहीं विश्व स्वास्थ्य संगठन की मानें तो भी व्यक्ति को अपने नियमित भोजन में नमक की थोड़ी मात्रा जरूर शामिल करनी चाहिए। इसलिए ब्लड प्रेशर होने पर तो नमक का सेवन करना बिलकुल न भूलें। 

gingerpowder

3. सोंठ (Dry Ginger Powder)

सोंठ जिसे सूखी अदरक के नाम से भी जाना जाता है। सोंठ का इस्तेमाल करना भी लो ब्लड प्रेशर में एक बेहतर इलाज साबित होता है। ऐसे में सोंठ का पाउडर आपके लिए असरदार साबित होता है। सोंठ की तासीर गर्म होती है, इसलिए इसे 2 ग्राम से ज्यादा बिलकुल न लें। इसके लिए आप सोंठ के पाउडर को पानी में मिलाकर पी सकते हैं या इसे खाकर उपर से भी पानी पी सकते हैं। 

4. रात में लिक्विड लेने से बचें (Avoid Consuming Liquid in Night)

पानी की पर्याप्त मात्रा शरीर को स्वस्थ रखने में मदद करती है, इसमें कोई संदेह नहीं है। लेकिन ऐसे लोग, जिनका ब्लड प्रेशर अक्सर कम ही रहता है। उन्हें रात के समय तरल पदार्थों का सेवन करने से परहेज करना चाहिए। आप दिन में भरपूर लिक्विड जैसे नींबू पानी नमक पानी और ओआरएस के घोल आदि का सेवन करें, लेकिन रात में तरल पदार्थ लेने से आपकी समस्या थोड़ी बढ़ सकती है। 

blackpepper

5. काली मिर्च (Black Pepper)

काली मिर्च आपके कार्डियोवैस्कुलर हेल्थ को ठीक रखने में अहम भूमिका निभाती है। यह आपके लो ब्लड प्रेशर को ठीक करती है साथ ही हाई ब्लड प्रेशर वाले व्यक्तियों का भी बीपी नियंत्रित करने में मददगार करती है। आयुर्वेद की मानें तो अगर आप लो ब्लड प्रेशर के मरीज हैं तो आप हल्के गुनगुने पानी के साथ काली मिर्च पीसकर पी सकते हैं। इसकी तासीर गर्म होती है इसलिए इसे दिन में एक बार वह भी केवल 2 ग्राम ही लेना है। 

6. बला (Bala)

डॉ. श्रेय शर्मा के अनुसार बला एक आयुर्वेदिक पौधा है, जिसे उर्जा बढ़ाने के साथ-साथ नर्वस सिस्टम के लिए भी काफी कारगर माना जाता है। बला को सीडा कॉर्डिफोलिया के नाम से भी जाना जाता है। इसके लिए आप बला की जड़ से बने पाउडर का प्रयोग कर सकते हैं। इसे भी गुनगुने पानी के साथ मिलाकर 2 से 5 ग्राम लें। इससे ज्यादा मात्रा में सेवन करने से पहले एक बार अपने आयुर्वेदाचार्य से जरूर सलाह लें। 

7. तुलसी (Basil)

तुलसी को आयुर्वेद में सर्वोत्तम औषधी और पौधा माना जाता है। तुलसी आपकी शरीर के तमाम विकार दूर करने में मदद करती है। तुलसी में एंटी ऑक्सीडेंट्स की मात्रा पाई जाती है। यह आपकी लो ब्लड प्रेशर की समस्या को काफी कम करती है। इसे आंवले के साथ मिलाकर प्रयोग करना काफी फायदेमंद होता है। आंवले में विटामिन सी की प्रचुरता होती है। आंवला और तुलसी को एक साथ प्रयोग करें। इसके लिए आप तुलसी की पत्तियों को भी चबा सकते हैं। 

इसे भी पढ़ें - रात को सोने से पहले इलायची खाने के 7 फायदे, आयुर्वेदाचार्य से जानें

इन बातों का रखें ध्यान (Keep these Things in Mind)

  • डॉ. श्रेय शर्मा ने बताया कि लो ब्लड प्रेशर वाले मरीजों को तत्काल रूप से चाय बंद कर कॉफी का सेवन शुरू कर देना चाहिए। 
  • लो ब्लड प्रेशर की समस्या से बचने के लिए नियमित तौर पर व्यायाम करना जरूरी होता है। अगर आप व्यायाम नहीं कर पा रहे हैं तो आसान प्राणायाम करें। 
  • दिनचर्या में सुधार करें। ऐसे लोगों को समय पर सोना और जागना चाहिए। 

यह लेख आयुर्वेदाचार्य द्वारा प्रमाणित है। आप इस लेख में दिए गए उपचारों का सहारा ले सकते हैं। अगर  आपका ब्लड प्रेशर अधिक कम है तो इसे उपयोग करने से पहले चिकित्सक की सलाह जरूर लें। 

Read more Articles on Ayurveda in Hindi

Disclaimer