हेयर ट्रांसप्लांट या पीआरपी? इनमें से क्या है गंजेपन को दूर करने के लिए बेहतर विकल्प?

अगर आप गंजेपन से परेशान हैं, तो हेयर ट्रांसप्लांट या पीआरपी ट्रीटमेंट ले सकते हैं। लेकिन इनमें से क्या ज्यादा बेहतर है जानें

Anju Rawat
Written by: Anju RawatPublished at: Apr 15, 2021Updated at: Apr 15, 2021
हेयर ट्रांसप्लांट या पीआरपी? इनमें से क्या है गंजेपन को दूर करने के लिए बेहतर विकल्प?

आजकल महिला हो या पुरूष ज्यादातर लोग अपने झड़ते बालों से परेशान (Troubled by Falling Hair) हैं? कई लोग तो गंजेपन (Baldness) की तरफ बढ़ते जा रहे हैं। इसलिए इसका इलाज समय पर करवाना बहुत जरूरी होता है। क्या आप भी अपने झड़ते बालों और गंजेपन से परेशान हैं? डॉक्टर इस समस्या से निजात दिलाने के लिए आपको हेयर ट्रांसप्लांट या पीआरपी ट्रीटमेंट (Hair Transplant and PRP Treatment) के लिए कह सकते हैं। वैसे तो इसका इलाज घरेलू उपायों और दवाइयों से भी किया जा सकता है, लेकिन इसमें बहुत समय लग जाता है। इसलिए आप चाहें तो इन ट्रीटमेंट्स की मदद से अपने बालों को फिर से पहले जैसा करवा सकते हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं इन दोनों में से कौन-सा विकल्प ज्यादा अच्छा है? 

prp

पीआरपी ट्रीटमेंट (PRP Treatment) 

पीआरपी ट्रीटमेंट (PRP Treatment) यानी प्लेटलेट्स रिच प्लाज्मा ट्रीटमेंट (Platelets Rich Plasma Treatment) । इसमें ट्रीटमेंट के लिए व्यक्ति का ही ब्लड (Blood) इस्तेमाल किया जाता है। इसमें इंजेक्शन (Injection) से उन एरिया को इंजेक्ट (Injected) किया जाता है, जहां ट्रीटमेंट (Treatment) लेना है। सुनने में आपको भले ही ये ट्रीटमेंट बेहद दर्दनाक और खतरनाक लग रही होगी, लेकिन असल में इसमें बिल्कुल भी दर्द नहीं होता है। क्योंकि इसे करने से पहले त्वचा को पूरी तरह से सुन्न (Numb) कर दिया जाता है। इसे पूरा करने के लिए कई सिटिंग्स लेनी होती हैं। इससे बालों की ग्रोथ (Hair Growth) बढ़ती हैं। साथ ही हेयर फॉलिकल (Hair Follicle) भी मजबूत होते हैं। इस ट्रीटमेंट का कोई भी साइड इफेक्ट नहीं होता है। यह ट्रीटमेंट 2 साल तक अपना असर दिखाती है। यह ट्रीटमेंट बालों को झड़ने से रोकता है और बालों को मजबूत भी बनाता है।

इसे भी पढ़ें - बाल बनाने हैं चमकदार, लंबे और घने तो इस्तेमाल करें ये 3 बेहतरीन होममेड मेहंदी हेयर पैक

पीआरपी ट्रीटमेंट प्रोसेस (PRP Treatment Process)

पीआरपी ट्रीटमेंट करने के लिए व्यक्ति के शरीर से खून निकाला जाता है। इसमें से प्लाज्मा (Plasma) को अलग किया जाता है। इसके बाद व्यक्ति को एनेस्थीसिया (Anaesthesia) दिया जाता है। फिर माइक्रो सूई इंजेक्शन से स्कैल्प में डाला जाता है। यह बालों के विकास के लिए एक काफी अच्छा ट्रीटमेंट है। इससे बालों और स्कैल्प को पोषण मिलता है। यह ट्रीटमेंट काफी सुरक्षित है, इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं है। 

hair

हेयर ट्रांसप्लांट (Hair Transplant)

हेयर ट्रांसप्लांट शब्द से आप भली-भांति परिचित होंगे। इसके बारे में आपने काफी कुछ सुना भी होगा। यह एक बेहद पॉपुलर है, इसे आजकल ज्यादातर लोग करवा रहे हैं। इसमें बालों को एक जगह से दूसरी जगह पर प्लांट किया जाता है। यानी जहां बाल घने होते हैं, वहां से निकालर गंजेपन की जगह पर इन बालों को प्लांट किया जाता है। इसमें कई हफ्ते लग सकते हैं।

हेयर ट्रांसप्लांट प्रोसेस (Hair Transplant Process) 

हेयर ट्रांसप्लांट करने में काफी समय लग जाता है। इसे कई सीटिंग्स में करना होता है। क्योंकि इसमें बालों को एक जगह से निकालकर दूसरी जगह पर लगाया जाता है। इसमें बालों को पूरा रूट से निकाला जाता है। इन बालों को वहां पर लगाया जाता है, जहां गंजापन होता है या जहा से बाल झड़ रहे हैं। इसको पूरे प्रोसेस के साथ किया जाता है। हेयर ट्रांसप्लांट करते हुए इस बात का भी ध्यान रखना होता है कि ये एकदम नैचुरल दिखे। 

इसे भी पढ़ें - बालों में तेल लगाते समय न करें ये 5 गलतियां, वरना खराब हो सकते हैं आपके बाल

क्या है बेहतर हेयर ट्रांसप्लांट या पीआरपी ट्रीटमेंट (Hair Transplant Or PRP Treatment)

पीआरपी ट्रीटमेंट करवाने से बालों की ग्रोथ बढ़ती हैं और बाल मजबूत बनते हैं। इसका कोई साइड इफेक्ट भी नहीं होता है। इसे करवाने में समय की भी बचत होती है। इसे कुछ ही घंटों में कंप्लीट कर दिया जाता है। जबकि हेयर ट्रांसप्लांट में कई सीटिंग्स लेनी पड़ती हैं, क्योंकि एक बार में बालों का झड़ना नहीं रुकता है।

अगर आपके बाल भी झड़ते हैं तो आप भी इन ट्रीटमेंट्स को ले सकते हैं। लेकिन एक बार ट्रीटमेंट लेने से पहले अपने डॉक्टर से जरूर मिल लें। डॉक्टर आपको बता सकते हैं कि हेयर ट्रांसप्लांट और पीआरपी ट्रीटमेंट में से आपके लिए कौन-सा बेहतर हो सकता है। वैसे तो ये दोनों ट्रीटमेंट ही सुरक्षित है, लेकिन एक बार डॉक्टर की सलाह लेना सही हो सकता है।

Read More Articles on Hair Care in Hindi

Disclaimer