प्रेग्नेंसी के बाद बढ़ता वजन घटाने के लिए इस महिला ने अपनाए खास तरीके, 3 महीने में घटाया 11 किलो वजन

बच्चा होने के बाद नीलम का वजन बढ़ गया था। जानें नीलम ने कैसे 3 महीने में 11 किलो वजन कम किया। उनकी कहानी से आप भी प्रेरणा ले सकते हैं। 

Meena Prajapati
Written by: Meena PrajapatiPublished at: Jun 14, 2021Updated at: Jun 14, 2021
प्रेग्नेंसी के बाद बढ़ता वजन घटाने के लिए इस महिला ने अपनाए खास तरीके, 3 महीने में घटाया 11 किलो वजन

‘’मैं हमेशा से फिटनेस को ध्यान में रखने वाली महिला रही थी, लेकिन प्रेग्नेंसी के बाद मेरा वजन तेजी से बढ़ा। बच्चे की देखभाल करने में खुद की देखभाल करने का समय ही नहीं मिला। लेकिन जब लोग मेरे बढ़े हुए वजन को लेकर मुझे कमेंट करने लगे और किसी का मुझ पर ध्यान ही नहीं जाता था, तब खुद को अकेला पाती थी। कभी-कभी खुद पर इतना गुस्सा आता था कि घर से बाहर निकलने में भी झिझकती थी।’’ यह कहना है नीलम सहरावत का। ओन्ली माई हेल्थ को नीलम ने बताई अपनी कहानी कि उन्होंने कैसे प्रेग्नेंसी के बाद 3 महीने में 11 किलो वजन किया।

पुरुषों के मुकाबले महिलाओं में वजन बढ़ने की समस्या ज्यादा है। तो वहीं, अगर किसी पुरुष का वजन बढ़ता है तो वह उसके लिए शारीरिक परेशानी होती है, लेकिन महिला का वजन बढ़ना शारीरीक और मानसिक दोनों पीड़ाएं होती हैं। बढ़े हुए वजन से परेशान नीलम का कहना है कि एक औरत के लिए फिटनेस बहुत मायने रखती है, लेकिन जब प्रेग्नेंसी के बाद वजन बढ़ गया, तब फिटनेस की सारी ख्वाहिशें धरी की धरी रह गईँ। 

वजन बढ़ने से क्या परेशानियां हुईं? 

नीलम ने बताया कि जब उनका वजन बढ़ गया था तब वे घर के काम भी ठीक से नहीं कर पाती थीं। जब सीढ़ियां चढ़ती थीं, तो सांस फूल जाती थी। थोड़ा चलने फिरने से भी सांस फूल जाती थी। उन्होंने बताया कि जब लोगों का अटेंशन मिलना बंद होता है तब काम करने की इच्छा भी मरने लगती ही। आत्मविश्वास डुबता सा नजर आता है। वजन ज्यादा होने के कारण नीलम की काम करने की इच्छा नहीं होती थी, वे ज्यादा आलस महसूस करती थीं। 

कब बढ़ना शुरु हुआ था वजन?

43 साल की नीलम बताती हैं कि  2004 में उनको बेटा हुआ तब उनका वजन 72 किलो हो गया था। इस बढ़े हुए वजन के साथ रहना उन्हें पीड़ा दे रहा था। वे कहती हैं कि बेटा होने के बाद उनकी कई ड्रेसिज वार्डरोब में सिमट कर रह गईं। वे जिस साड़ी को पहले बड़े चाव से पहनती थीं, अब वो किसी कोने में दब गई थी। अपनी पसंद की ड्रेसिज नहीं पहन पाती थीं। 

Inside5_weightlossstory

वजन घटाने की प्रेरणा कहां से मिली?

इस सवाल के जवाब में नीलम कहती हैं कि 2004 में बच्चा होने के बाद 2019 में उन्होंने वजन कम करने के बारे में सोचा। वजन कम करने की प्रेरणा कौन बना, इस सवाल के जवाब में नीलम कहती हैं कि वे दिल्ली के महिपालपुर में रहती हैं, वहीं एक वेलनेस कोच विकास बामेल रहते हैं। वे लोगों को फोन पर वजन कम करने को लेकर और न्यूट्रीशन के बारे में जानकारी देते थे, उनसे ही मदद लेकर उन्होंने अपना वजन कम किया। विकास का कहना है कि उनका उद्देश्य है कि लोग अपनी सेहत का ख्याल रखें। खुद को फिट रखें। बीमारियों के संपर्क में कम आएं। लोगों को न्यूट्रीशन के बारे में जागरुक करना उनका पैशन है।

इसे भी पढ़ें : घर पर एक्सरसाइज और हेल्दी डाइट से 3 महीने में कम किया 17 किलो वजन, जानें इस लड़के की वेट लॉस स्टोरी

क्या थी नीलम की डाइट?

नीलम बताती हैं कि एक फिट बॉडी के लिए जरूरी है कि आप समय पर सोएं, समय पर उठें और समय पर खाएं। अपने डाइट प्लाने के बारे में नीलम ने निम्न बातें बताईं।

ब्रेकफास्ट

  • सोकर उठते ही दो गिलास गुनगुना पानी पीना
  • थोडी देर बाद ग्रीन टी पीना 
  • 40 मिटन का वर्कआउट करना
  • सुबह 9 बजे से पहले दूध में प्रोटीन डालकर पीना
  • सुबह 11 बजे सलाद लेना। जिसमें फल और सब्जियां होती थीं। वे फल और सब्जियां जो मौसम के अनुसार मिलती हैं। 

Inside8_weightlossstory

लंच में क्या होता था?

  • नीलम करीब 1 बजे लंच करती थीं।
  • लंच में दाल, सब्जी, दही खाती थीं।

स्नैक्स में क्या लेती थीं ?

नीलम बताती हैं कि करीब 4 बजे के आसपास अगर भूख लगती थी तो एक मुट्ठी भुने हुए चने,  ड्राई फ्रूट्स ले लेती थीं और साथ में ग्रीन टी। 

डिनर में क्या होता था?

नीलम सोने से दो घंटे पहले डिनर लेती थीं। दाल, सब्जी,  चपाती,  चावल लेती थी। वे एक बैलेंस डाइट को फॉलो करने लगी थीं। इससे पहले नीलम बैलेंस डाइट का ध्यान नहीं रखती थीं। 

रात को क्या नहीं खाया

नीलम ने बताया कि रात को वे ऐसा डिनर नहीं करती थीं जो पचने में मुश्किल होता था। जैसे छोले, चने, राजमा पनीर आदि। 

क्या था वर्कआउट प्लान?

नीमल बताती हैं कि वजन कम करने के लिए वर्कआउट बहुत जरूरी है। प्रेग्नेंसी से पहले वे वर्कआउट नहीं करती थीं, उन्हें लगता था कि घर के काम से ही वर्कआउट हो जाएगा। लेकिन ऐसा नहीं था। वर्कआउट की अहमियत उन्हें बच्चा होने के बाद समझ आई। वे बताती हैं कि उन्होंने मशीनों की मदद से कार्डियो वर्कआउट किया। हफ्ते में 5 या 6 दिन वर्कआउट किया। यह वर्कआउट वे 40 मिनट करती थीं। 

नीलम कहती हैं कि घर के कामों से फुरसत पाकर खुद के लिए समय निकाल पाना मुश्किल होता है, लेकिन मैंने भी ठान लिया था कि वजन कम करना है, इसलिए रोज वर्कआउट किया। वर्कआउट करने से उन्हें एनर्जी मिलती थी। 

इसे भी पढ़ें : Postpartum Depression: बच्चे को जन्म देने के बाद डिप्रेशन का शिकार हुई इस महिला की कहानी से समझें इस समस्या को

Inside2_weightlossstory

वजन कम होने के बाद क्या बदलाव महसूस किया?

नीलम की उम्र 43 साल है। वे कहती हैं कि इस उम्र तक लोगों को लगता है कि अब वजन कम करके क्या करना है। लेकिन मुझे मेरा बढ़ा हुआ वजन अकेला कर रहा था। इसलिए जब वजन कम करने की ठान ली तो उसे कम करके भी दिखाया। नीलम बताती हैं कि वजन कम करने के बाद अब वे घर के सारे काम  कर पाती हैं, जो वे पहले नहीं कर पाती थीं। अब शरीर में स्फूर्ति रहती है। अब वे अपनी पसंद की सारी ड्रेसेज पहन पाती हैं। नीलम कहती हैं कि अब खुद को आत्मविश्वास से लबरेज पाती हूं। 

परिवार के लिए बन गई हैं प्रेरणास्रोत

नीलम बताती हैं कि पहले वे डाइट का बिल्कुल ध्यान नहीं रखती थीं। खाने में कुछ बना लेती थीं। हरी सब्जियां कम खाती थीं, लेकिन जब से खुद का वजन कम करके फिटनेस के जो फायदे जाने हैं तब से वे परिवार की डाइट का और फिटनेस का भी ध्यान रखती हैं। वे कहती हैं कि अब वे अपने बच्चों को पोषणयुक्त खाना दे पाती हैं, जिससे उनकी सेहत ठीक है। अब नीलम का वजन 59 किलो है। 

मोटापा एक समस्या है। इसे बढ़ने न दें। नीलम की तरह आप भी वजन कम कर सकते हैं। बस अगर जरूरत है तो थोड़े से मोटिवेशन की। स्वस्थ रहें औऱ फिट रहें।

Read More Articles on Weight Management in Hindi

Disclaimer