डायबिटीज के मरीज एनीमिया होने पर क्या खाएं, क्या नहीं? जानें डाइट एक्सपर्ट से

डायबिटीज के मरीजो में कई बार मेटफोर्मिन जैसे दवाइयों को लेने से खून बनने में काफी परेशानी होती है। इसी तरह डायबिटीज में एनीमिया के कई कारण और भी हैं। 

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: Jun 07, 2021
डायबिटीज के मरीज एनीमिया होने पर क्या खाएं, क्या नहीं? जानें डाइट एक्सपर्ट से

डायबिटीज के मरीजों में कुछ दवाइयों और स्वास्थ्य से जुड़ी स्वास्थितियों के कारण एनीमिया (diabetes and anemia) होने का खतरा ज्यादा रहता है। हालांकि, ये घबराने वाली बात नहीं होती, पर लंबे समय तक शरीर में खून की कमी रहना, आपके शरीर को कमजोर करती है और बीमारियों से ठीक होने की रिकवरी रेट को कम करती है। ऐसे में बहुत से डायबिटीज के मरीज इस बात से ज्यादा परेशान रहते हैं कि वो खून की कमी को दूर करने के लिए किन चीजों को खाएं और किन चीजों से परहेज करें। दरअसल, डायबिटीज के मरीज शरीर में खून बढ़ाने के लिए बिना सोचे समझे कुछ भी नहीं खा सकते। इससे उनका ग्लूकोज लेवल बढ़ने और डायिटीज के असंतुलित होने का का खतरा होता है। तो, प्रश्न ये है कि डायबिटीज के मरीज एनीमिया होने पर क्या खाएं, क्या नहीं? पर आइए सबसे डॉ छवि. अग्रवाल (Dr. Chhavi Agrawal), एसोसिएट कंसल्टेंट,  डायबिटीज और एंडोक्रिनोलॉजी फोर्टिस एस्कॉर्ट्स, हार्ट इंस्टीट्यूट, ओखला रोड से जानते हैं डायबिटीज में एनीमिया क्यों होता है। 

Inside1daibetespatient

डायबिटीज में एनीमिया क्यों होता -Causes of anaemia in diabetes

डॉ छवि. अग्रवाल (Dr. Chhavi Agrawal) कहती हैं कि डायबिटीज में एनीमिया कई अलग-अलग कारणों से होता है। पर अगर आपको डायबिटीज है, तो आपको एनीमिया के लिए नियमित रूप चेक करवाते रहना चाहिए । ऐसा इसलिए कि एनीमिया को जल्दी पहचान लेने से आप इसके कारण होने वाली समस्याओं का बेहतर तरीके से प्रबंधन कर सकते हैं। डायबिटीज में एनीमिया कई कारणों से हो सकता है

1. डायबिटीज में हीमोग्लोबिन की कमी

डायबिटीज में हीमोग्लोबिन (diabetes affect hemoglobin) की कमी अक्सर इस वजह से होती है कि शरीर पर्याप्त रूप से रेड ब्लड सेल्स नहीं बना पाता है। इससे आपको डायबिटीज से जुड़ी कुछ जटिलताएं होने की ज्यादा संभावना हो सकती है, जैसे आंख और तंत्रिका क्षति। यह गुर्दे, हृदय और आर्टरी की बीमारी को खराब कर सकता है, जो कि डायबिटीज के मरीजों में ज्यादा हो सकता है। 

2. किडनी की बीमारी

डायबिटीज से अक्सर किडनी खराब हो जाती है और किडनी के खराब होने से एनीमिया हो सकता है। दरअसल, स्वस्थ किडनी को पता होता है कि आपके शरीर को कब नए ब्लड सेल्स की जरूरत है। ये एरिथ्रोपोइटिन (ईपीओ) नामक एक हार्मोन छोड़ते हैं, जो आपके बोन मेरो को और ब्लड सेल्स बनाने का संकेत देता है। पर खराब किडनी ये नहीं कर पाते, जिसके चलते एनीमिया होने लगता है। 

3. ब्लड सेल्स में सूजन 

डायबिटीज के मरीजों में ब्लड सेल्स में सूजन होने की संभावना ज्यादा होती है। इसके चलते बोन मेरा ज्यादा ब्लड सेल्स बना नहीं पाता और शरीर में खून की कमी हो जाती है। तो, ऐसे में जरूरी है कि आप ब्लड सेल्स में सूजन को रोकें। 

इसे भी पढ़ें : टाइप-2 डायबिटीज आपकी नींद को कैसे प्रभावित करती है? जानें अच्छी नींद के लिए कुछ टिप्स

4. असंतुलित डायबिटीज

डायबिटीज के मरीज में ब्लड शुगर अलग लगातार ज्यादा रहता है, तब भी व्यक्ति में एनीमिया होने का खतरा ज्यादा होता है। ऐसा इसलिए क्योंकि इससे पाचनतंत्र और बाकी शरीर के कामकाज में गड़बड़ी आ जाती है।  

5. दवाइयों के कारण 

विटामिन बी 12 की कमी के कारण मेटफोर्मिन मेगालोब्लास्टिक एनीमिया (Metformin can cause megaloblastic anemia) का कारण बन सकता है।  इसलिए, अगर डायबिटीज में आप मेटफोर्मिन  ले रहे हैं, तो डॉक्टर से जरूर बात करें। 

डायबिटीज के मरीज एनीमिया में क्या खाएं-Diet tips for anemic diabetic patient

  • -आयरन-फोर्टिफाइड ब्रेड और अनाज लें।
  • -बीन्स और दाल खाएं।
  • -हरी पत्तेदार सब्जियां, खासकर पालक खाएं
  • -सूखे मेवे, जैसे कि किशमिश और खुबानी खाएं
  • -टोफू
  • -रेड मीट
  • -मछली

आपका शरीर आयरन को बेहतर तरीके से अवशोषित करे इसलिए आपको विटामिन सी युक्त भोजन जैसे फल और सब्जियां खाएं। 

Inside2khubanianddryfruits

इसे भी पढ़ें : डायबिटीज के मरीजों में दिख रहे हैं कोरोना के ये 3 नए लक्षण

डायबिटीज के मरीज एनीमिया में क्या ना लें -Foods to avoid

  • -चाय और कॉफी
  • -दूध और कुछ डेयरी उत्पाद
  • -ऐसे खाद्य पदार्थ जिनमें टैनिन होते हैं, जैसे अंगूर, मक्का और शर्बत।
  • -ग्लूटेन से भरपूर खाद्य पदार्थ, जैसे पास्ता और गेहूं, जौ, राई या ओट्स से बने उत्पाद।

तो, एनीमिया में हाई ब्लड प्रेशर और शुगर का खास ख्याल रखें।  साथ ही किडनी के स्वास्थ्य पर भी नजर बनाए रखें।  साथ ही समय-समय पर अपनी दवाइयों को लेकर डॉक्टर से बात करें। साथ ही एक हेल्दी डाइट और एक्टिव लाइफस्टाइल फॉलो करें। 

Read more articles on Diabetes in Hindi 

Disclaimer