डायमंड गैप फिंगर टेस्ट से करें लंग कैंसर की पहचान, जानें तरीका

Diamond Gap Finger Test: उंगलियों की सहायता से डायमंड गैप फिंगर टेस्ट कर आप लंग कैंसर की पहचान कर सकते हैं, जानें इसके बारे में।

 
Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: Sep 15, 2022Updated at: Sep 15, 2022
डायमंड गैप फिंगर टेस्ट से करें लंग कैंसर की पहचान, जानें तरीका

Diamond Gap Finger Test for Lung Cancer: बढ़ते प्रदूषण और खराब जीवनशैली के कारण फेफड़ों के कैंसर की समस्या तेजी से बढ़ रही है। हर साल लाखों की संख्या में लोग लंग कैंसर (Lung Cancer in Hindi) का शिकार हो रहे हैं। दुनिया में सबसे तेजी से फैल रहे तीन तरह के कैंसर में एक फेफड़ों का कैंसर या लंग कैंसर भी है। लंग कैंसर की शुरुआत में पहचान होने से मरीज की समस्याएं कम हो सकती हैं। शुरूआती स्टेज में पहचान होने से सही समय पर इलाज मिलता है और इससे मरीज जल्दी ठीक हो जाता है। सही समय पर इसकी पहचान न हो पाने की स्थिति में मरीज की जान भी जा सकती है। लंग कैंसर की जांच के लिए कई तरह के टेस्ट किये जाते हैं। लेकिन अब आप इस समस्या को आसानी से पहचान सकते हैं। कैंसर रिसर्च यूके नामक संस्था के मुताबिक अब फिंगर टेस्ट के माध्यम से भी आप इस समस्या की जांच कर सकते हैं, आइए जानते हैं इसके बारे में।

लंग कैंसर की जांच के लिए डायमंड गैप फिंगर टेस्ट- Diamond Gap Finger Test for Lung Cancer

Diamond Gap Finger Test

कैंसर रिसर्च यूके नामक संस्था ने यह दावा किया है कि अब आप लंग कैंसर की जांच आसान फिंगर टेस्ट से कर सकते हैं। इस टेस्ट से आप यह पता कर सकते हैं कि आपको लंग कैंसर की समस्या है या नहीं। लंग कैंसर की पहचान के लिए किये जाने वाले इस टेस्ट को डायमंड गैप फिंगर टेस्ट (Diamond Gap Finger Test) कहते हैं। डायमंड फिंगर गैप टेस्ट को फिंगर क्लाबिंग टेस्ट भी कहा जाता है। इस टेस्ट में आपकी उंगलियों और नाखून में बहुत ज्यादा मुलायमपन आना गंभीर माना जाता है। कैंसर रिसर्च यूके ने कहा है कि लंग कैंसर के अलावा थायराइड और अल्सरेटिव कोलाइटिस की समस्या का भी पता लगाया जा सकता है। 

कैसे करते हैं ये टेस्ट?- How To Do Diamond Gap Finger Test?

डायमंड फिंगर गैप टेस्ट करने के लिए आप अपने हाथ के अंगूठे को दूसरे हाथ की इंडेक्स फिंगर या तर्जनी उंगली को आपस में जोड़ें। ऐसा करने पर इसके बीच आपको डायमंड जैसी आकृति नजर आती है। ऐसा करने पर अगर आपको डायमंड जैसी आकृति नजर नहीं आती है तो समझिए आपको डॉक्टर की सलाह की जरूरत है। इस टेस्ट के बारे में शोध करने वाली संस्था कैंसर रिसर्च यूके ने कहा है कि 35 प्रतिशत से ज्यादा मरीजों में यह टेस्ट सफल पाया गया है।  

इसे भी पढ़ें: एंडोब्रोंकाइल अल्ट्रासाउंड जांच से पता चलेगा कैंसर का स्टेज, जानें इसके बारे में

लंग कैंसर की पहचान करने के लिए यह जांच बहुत प्रभावी बताई जा रही है। चूंकि लंग कैंसर एक गंभीर बीमारी है, इसलिए इसके लक्षण दिखने पर आपको तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। फेफड़ों में कैंसर होने पर शुरूआती चरण में इलाज लेना जरूरी है।

(Image COurtesy: Freepik.com)

Disclaimer