Doctor Verified

बोन कैंसर के कितने स्टेज होते हैं? जानें कौन स्टेज है बेहद खतरनाक

Bone Cancer Stages in Hindi: बोन कैंसर की बीमारी के मुख्य रूप से 4 स्टेज होते हैं, डॉक्टर से जानें इनके बारे में।

 
Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: Sep 05, 2022Updated at: Sep 05, 2022
बोन कैंसर के कितने स्टेज होते हैं? जानें कौन स्टेज है बेहद खतरनाक

Bone Cancer Stages in Hindi: कैंसर की बीमारी के खतरनाक होने का प्रमुख कारण इसके प्रति जानकारी की कमी भी है। आम लोगों में कैंसर की बीमारी के बारे में सही जानकारी न होने के कारण यह स्थिति जानलेवा हो जाती है। कैंसर कई तरह का होता है और शरीर के अलग-अलग अंगों में हो सकता है। बोन कैंसर या हडियों का कैंसर भी एक खतरनाक बीमारी है। शरीर में कैंसर की कोशिकाएं जब हड्डियों में असामान्य रूप से बढ़ने लगती हैं, तो इस स्थिति को बोन कैंसर (Bone Cancer) कहा जाता है। शरीर में इस बीमारी की शुरुआत में सही जांच और इलाज मिलने से मरीज ठीक हो सकता है। बोन कैंसर की बीमारी के पहले चरण या स्टेज में दिखने वाले संकेतों को पहचानकर इलाज लेना बहुत जरूरी माना जाता है। आइए जानते हैं बोन कैंसर के कितने स्टेज होते हैं और शरीर में इस बीमारी की शुरुआत कैसे होती है।

बोन कैंसर के स्टेज- Stages Of Bone Cancer in Hindi

नेशनल कैंसर इंस्टिट्यूट के द्वारा मिली जानकारी के मुताबिक कैंसर की बीमारी और इसके स्टेज को समझने के लिए मेडिकल टर्म  TNM (टीएनएम) का सहारा लिया जाता है। टीएनएम के T का मतलब ट्यूमर या कैंसर सेल की साइज से है, वहीं एन के माध्यम से इन सेल्स को लिम्फ नोड्स की साइज को समझा जाता है। M से मेटास्टैटिक यानी कैंसर सेल्स के फैलने की पहचान की जाती है। इसके अलावा एक और टर्म G में ग्रेड को समझने की कोशिश की जाती है। एससीपीएम हॉस्पिटल के कैंसर विशेषज्ञ डॉ सुदीप के मुताबिक बोन कैंसर की बीमारी के मुख्य 4 स्टेज होते हैं। स्टेज 1 में कैंसर की कोशिकाएं शरीर में विकसित होना शुरू करती हैं और आखिरी स्टेज में यह कोशिकाएं पूरी तरह से शरीर के अंग को प्रभावित कर देती हैं। आइए विस्तार से जानते हैं बोन कैंसर के स्टेज के बारे में।

Bone Cancer Stages in Hindi

इसे भी पढ़ें: बोन कैंसर होने से पहले शरीर में दिखाई देते हैं ये 6 लक्षण, डॉक्टर से जानें इनके बारे में

स्टेज 1- इस स्टेज में कैंसर सेल्स प्रभावित अंग में विकसित होना शुरू करते हैं। बोन कैंसर के पहले स्टेज में ट्यूमर की साइज 8 सेंटीमीटर या इससे बड़ा और छोटा भी हो सकता है। इस स्टेज में कोशिकाएं जिस हिस्से में विकसित होती हैं, वहीं रहती हैं और किसी दूसरे हिस्से में फैलती नहीं हैं। इस स्टेज को लो ग्रेड स्टेज भी कहा जाता है।

स्टेज 2- बोन कैंसर के स्टेज 2 में कोशिकाएं या कैंसर सेल्स तेजी से बढ़ना शुरू होती हैं। पहले स्टेज के मुकाबले इस स्टेज में कोशिकाओं का विकास तेजी से होता है और ज्यादा हिस्से को प्रभावित करती हैं।

स्टेज 3- बोन कैंसर के तीसरे स्टेज में ट्यूमर या कैंसर सेल्स हड्डी के दो अलग-अलग हिस्सों में फैल जाता है। इस स्टेज को हाई ग्रेड स्टेज या हाई ग्रेड कैंसर माना जाता है। हालांकि स्टेज 3 तक कैंसर की कोशिकाएं लिम्फ नोड्स तक नहीं पहुंच पाती हैं।

स्टेज 4- बोन कैंसर के चौथे स्टेज में कैंसर सेल्स लिम्फ नोड्स, फेफड़े और शरीर के अलग-अलग अंगों को प्रभावित करते हैं। इस स्टेज में कोशिकाएं शरीर के किसी भी अंग में फैल सकती हैं। बोन कैंसर के स्टेज 4 को हाई ग्रेड और एडवांस कैंसर माना जाता है। इस स्टेज में शरीर की स्वस्थ कोशिकाएं भी बुरी तरह प्रभावित होने लगती हैं और मरीज की परेशानियां बढ़ जाती हैं।

इसे भी पढ़ें: हड्डियों के कैंसर का पता लगाने के लिए कौन से टेस्ट किए जाते हैं?

बोन कैंसर की शुरुआत होने पर शरीर में कई लक्षण दिखाई देते हैं, इन लक्षणों को सही समय पर पहचानकर डॉक्टर से इलाज लेने से आपकी परेशानियां कम हो जाती हैं। सही समय पर बोन कैंसर का पता न चलने या इलाज न मिलने की वजह से मरीज की स्थिति बेहद गंभीर हो जाती है और इसके कारण मरीज की जान भी जा सकती है।

(Image Courtesy: Freepik.com)

 
Disclaimer