Doctor Verified

नाक से खून आने का कारण हाइपरटेंशन तो नहीं, जानें बीपी बढ़ने और नोज ब्‍लीड का संबंध

नाक से खून आने का कारण हाइपरटेंशन की समस्‍या हो सकती है, जानते हैं इनके बीच का संबंध 

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: May 24, 2022Updated at: May 24, 2022
नाक से खून आने का कारण हाइपरटेंशन तो नहीं, जानें बीपी बढ़ने और नोज ब्‍लीड का संबंध

समय के साथ हाई बीपी के मरीज बढ़ते जा रहे हैं। हेल्‍दी रहने के ल‍िए आपका बीपी को कंट्रोल करना जरूरी है। हाई बीपी के कारण धमन‍ियों में ब्‍लड का दबाव बढ़ने लगता है, दबाव बढ़ने के कारण धमन‍ियों में ब्‍लड फ्लो को मेनटेन करने के ल‍िए द‍िल को ज्‍यादा काम करने की जरूरत पड़ती है। कुछ लोग बीपी की दवाई का सेवन करके बीपी के लक्षणों से बच जाते हैं तो कुछ को लक्षणों को कंट्रोल करने के अन्‍य तरीके अपनाने पड़ते हैं ज‍िनके बारे में हम आगे भी बात करेंगे और जानेंगे क‍ि आख‍िर बीपी बढ़ने और नाक से खून आने के बीच क्‍या संबंध है। इस लेख को OMH की खास सीरीज फोकस ऑफ द मंथ के अंतर्गत ल‍िखा गया है ज‍िसका उद्देश्‍य है क‍िसी खास स्‍वास्‍थ्‍य मुद्दे पर पाठकों को जानकार बनाना और इस महीने हम हाइपरटेंशन से जुड़ी जानकारी पर गौर करेंगे। तो चल‍िए जानते हैं हाइपरटेंशन और नोज ब्‍लीड के बीच का संबंध। इस व‍िषय पर बेहतर जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के केयर इंस्‍टिट्यूट ऑफ लाइफ साइंसेज की एमडी फ‍िजिश‍ियन डॉ सीमा यादव से बात की।

nose bleed            

बीपी बढ़ने के कारण नाक से आ सकता है खून 

ब्‍लड प्रेशर बढ़ने के कारण ब्‍लड वैसल्‍स को डैमेज पहुंच सकता है और ब्‍लड वैसल्‍स डैमेज होने के कारण हाइपरटेंशन की समस्‍या हो सकती है। ज‍िन लोगों को हाई बीपी की समस्‍या होती है उनमें नाक से खून आने के लक्षण नजर आने की आशंका ज्‍यादा होती है। स्‍ट्रेस या गुस्‍सा आने के कारण भी बीपी बढ़ जाता है। अगर आपको बहुत स्‍ट्रेस हो रहा है तो ये बीपी के लक्षण हो सकते हैं। कई लोगों को बीपी बढ़ने पर सांस लेने में तकलीफ होती है, शारीर‍िक कमजोरी या अन‍िद्रा भी हाई बीपी के लक्षण हो सकते हैं। स‍िर के पीछे गर्दन में लगातार दर्द बने रहना भी हाई बीपी के लक्षण हो सकते हैं। बीपी बढ़ने से नाक से खून आने के अलावा अन्‍य कई गंभीर बीमार‍ियां हो सकती हैं जैसे थ्रॉम्‍बोस‍िस, गुर्दा रोग, स्‍ट्रोक, डायबि‍टीज, कोरोनरी आर्टरी रोग, द‍िल की बीमार‍ी आदि‍। 

इसे भी पढ़ें- क्या है सेकेंडरी हाइपरटेंशन, एक्सपर्ट से जानें इसके कारण, लक्षण और उपचार      

अचानक से बढ़े बीपी को कंट्रोल कैसे करें? (How to control BP immediately)

बीपी कंट्रोल करने के ल‍िए आप इन आसान ट‍िप्‍स को फॉलो करें-

  • बीपी कंट्रोल करने के ल‍िए आप सबसे पहले छांव में रहें, आपको बीपी कंट्रोल करने के ल‍िए धूप में न जाएं।
  • बीपी को कंट्रोल करने के ल‍िए आप गहरी सांस लें, बीपी बढ़ रहा है तो आपको तुरंत लेट जाना है और लंबी सांस लेते रहें।
  • बीपी कंट्रोल करने के ल‍िए आप पानी पीएं, आपको तुरंत दो से तीन ग‍िलास पानी का सेवन करना है। 

इसे भी पढ़ें- जांच में हाई ब्लड प्रेशर का पता चलने पर तुरंत अपनाएं ये 5 उपाय, नहीं बढ़ेगी बीपी से होने वाली समस्याएं   

नाक से खून आने की स्‍थ‍िति‍ में क्‍या करें? (Nose bleeding treatment)   

  • नाक से खून बहने की स्‍थ‍ित‍ि में आपको नाक के छेदों को साफ रूमाल की मदद से ब्‍लॉक कर दें, इससे खून आना बंद हो जाएगा और बैठकर आप पानी पीएं।
  • खून आने की स्थ‍ित‍ि में आगे की ओर झुकें, मुंह से सांस लेते हुए सीधे खड़े हो जाएं ताक‍ि नाक की नसों पर खून का दबाव कम हो और ब्‍लीड‍िंग को बढ़ने से रोका जा सके।   
  • अगर नाक से खून बहने की समस्‍या 10 से 15 म‍िनट में बंद न हो तो आपको डॉक्‍टर की मदद लेनी चाह‍िए। डॉक्‍टर आपको डीकंजसटेंट स्‍प्रे देकर नोज ब्‍लीड‍िंग बंद कर सकते हैं।
  • नोज ब्‍लीड‍िंग होने पर आपको 10 से 15 म‍िनट के ल‍िए दबाव बनाकर रखना है इससे नोज ब्‍लीड‍िंग बंद हो जाएगी।
  • नाक से खून आने की स्‍थ‍ित‍ि में आपको कम से कम 24 घंटे तक भारी सामान उठाने से बचना है और ज्‍यादा काम करना भी अवॉइड करना है। 
  • आपको नाक से खून बहने की स्‍थ‍ित‍ि में स‍िर को नीचे झुकाने से बचना है। 
  • आपको बर्फ से सि‍काई करते हुए नाक के ब्र‍िज पर आईस पैक लगाना है, इसके साथ ही आपको स‍िर को पीछे की ओर झुकाने से भी बचना है।

इन ट‍िप्‍स को फॉलो करके नाक से खून आने की समस्‍या से बच सकते हैं।

Disclaimer