पेशाब की थैली में पथरी के कारण, लक्षण और बचाव के तरीके

पेशाब की थैली में पथरी की समस्या होने पर आपको पेशाब निकालने में परेशानी हो सकती है। चलिए विस्तार से जानते हैं इस बारे में-

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraPublished at: Sep 06, 2021Updated at: Sep 06, 2021
पेशाब की थैली में पथरी के कारण, लक्षण और बचाव के तरीके

आधुनिक समय में लोग कई तरह के गंभीर समस्याओं के शिकार हो रहे हैं। बदलते खानपान और लाइफस्टाइल की वजह से लोग कम उम्र में ही हार्ट अटैक, ब्लड प्रेशर, डायबिटीज, थायरॉइड जैसी अनेक बीमारियों से लोग ग्रसित हो रहे हैं। इन्हीं बीमारियों में से एक है स्टोन की समस्या। इन दिनों कई लोगों को स्टोन की समस्याएं हो रही हैं। हमारे शरीर में स्टोन कई जगहों पर हो सकता है, जैसे- किडनी, गॉलब्लैडर और ब्लैडर इत्यादि। मूत्राशय की थैली में होने वाले स्टोन की समस्या को ब्लैडर स्टोन कहते हैं। इसकी वजह से मूत्राशय की दीवार में परेशानी उत्पन्न होने लगती है, जो यूरिन के प्रवाह में बाधा पैदा कर सकता है। चलिए विस्तार से जानते हैं मूत्राशय की थैली में स्टोन के कारण, लक्षण और बचाव के क्या तरीकें हैं?

क्या कहते हैं एक्सपर्ट? 

पटपड़गंज स्थित मैेक्स हॉस्पिटल और किडनी केयर क्लिनिक के यूरोलॉजिस्ट डॉक्टर मयंक गुप्ता बताते हैं कि कई बार विभिन्न वजहों से पेशाब में खनिज और लवणों की अधिकता हो जाती है। जिसके परिणामस्वरूप मूत्र मार्ग में पथरी बन जाती है। यूरिनरी ट्रैक्स में पथरी किसी को कभी भी और कहीं भी हो सकती है। डॉक्टर का कहना है कि कुछ मामलों में मूत्र मार्ग में पथरी स्थिर रहती है। वहीं, कुछ मामलों में पथरी मूत्र मार्ग के इधर-उधर घूमती है, जिसके कारण शरीर में इसके अलग-अलग लक्षण दिखते हैं। पेशाब की थैली में पथरी को ब्लैडर कैलकुली के नाम से भी जाना जाता है। यह समस्या महिलाओं की तुलना में पुरुषों को अधिक होती है। शरीर में पोषण की कमी और डिहाइड्रेशन की वजह से यह समस्या ज्यादा हो सकती है। 

इसे भी पढ़ें - पेशाब के साथ पस आने के क्या हो सकते हैं कारण? यूरोलॉजिस्ट से जानें इसके लक्षण, खतरे और इलाज

 

पेशाब की थैली में पथरी के कारण (Bladder Stones causes)

डॉक्टर बताते हैं कि कुछ शारीरिक बीमारी, संक्रमण और शरीर में पोषण की कमी के कारण पेशाब की थैली में पथरी की समस्या हो सकती है। चलिए जानते हैं पेशाब की थैली में पथरी के कारण क्या हैं?

प्रोस्टेट का बढ़ना

प्रोस्टेट ग्रंथि बढ़ने की वजह से मूत्राशय के आउटलेट में रुकावट उत्पन्न हो सकती है। युवा पुरुषों में यह सबसे सामान्य और आम कारणों में से एक है। प्रोस्टेट बढ़ने के कारण पेशाब की नली में रुकावट उत्पन्न होती है। जिसकी वजह से उस स्थान पर खनिज, लवण तथा अन्य दूषित कण जमा होने लगते हैं। ऐसी स्थिति में पथरी बनना स्वभाविक हो जाता है।

संक्रमण

मूत्र मार्ग में संक्रमण फैलने के कारण पेशाब की थैली में पथरी हो सकती है। दरअसल, संक्रमण के कारण मूत्र मार्ग में सूजन होने लगती है। जिसके कारण पथरी होने की संभावना बढ़ जाती है। 

डिहाइड्रेशन

शरीर में पोषण की कमी और डिहाइड्रेशन के कारण भी पेशाब की थैली में पथरी हो सकती है। 

न्यूरोजेनिक ब्लैडर

तंत्रिका तंत्र, मस्तिष्क या फिर रीढ़ की हड्डी में किसी तरह की समस्या या चोट लगने की वजह से कई बार व्यक्ति मूत्राशय पर अपना नियंत्रण खो देता है। ऐसी स्थिति में यूरीन में ठहराव हो सकती है। जिसके कारण व्यक्ति के पेशाब की थैली में पथरी की समस्या हो सकती है। 

किडनी स्टोन

कुछ मामलों में अगर किसी व्यक्ति की किडनी में पथरी हो जाए, तो पेशाब की थैली में पथरी होने की संभावना हो जाती है। लेकिन इसका यह मतलब बिल्कुल नहीं है कि यह सभी मामलों में लागू हो।

इन कारणों के अलावा कई अन्य कारणों से भी पेशाब की थैली में पथरी हो सकती है। इसलिए अगर आपको किसी भी तरह का लक्षण महसूस हो, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। 

पेशाब की थैली में पथरी के लक्षण (Bladder Stones Symptoms)

कई मामलों में पेशाब की थैली में पथरी होने पर जल्द लक्षण सामने नहीं आते हैं। ऐसे में इस समस्या का निदान तब होता है, जब किसी अन्य समस्या के निदान के लिए किसी तरह की इमेजिंग स्टडी होती है। पेशाब की थैली में पथरी ज्यादातर रोगियों को अन्य समस्याओं के साथ ही उत्पन्न होता है। हालांकि, इसके कुछ लक्षण आपको दिख सकते हैं। जैसे-

  • मूत्राशय के ऊपर श्रोणि क्षेत्र में दर्द होना। 
  • अंडकोष में दर्द
  • पीठ या कूल्हे में दर्द 
  • दर्द के साथ बेचैनी होना। 
  • एक्सरसाइज करते समय दर्द होना। 
  • पेशाब करते समय दर्द होना।
  • बार-बार पेशाब आना।
  • पेशाब करते समय दर्द के साथ बेचैनी होना।
  • पेशाब करने की इच्छा होने के बावजूद पेशाब न आना।
  • पेशाब रूक-रूक कर आना।
  • पेशाब में झाग आना।
  • पेशाब से खून दिखाई देना। 

निम्न लक्षणों में से अगर एक भी लक्षण आपको दिखे, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। ताकि आपका सही समय पर इलाज किया जा सके। 

इसे भी पढ़ें - सिरदर्द, उल्टी जैसे सामान्य संकेतों से शुरू होता है ब्रेन टीबी, डॉक्टर से जानें इसके लक्षण, कारण और इलाज

कब करें डॉक्टर से संपर्क?

पेशाब की थैली में पथरी के लक्षण आपको दिखे, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। खासतौर पर अगर आपके पेशाब में खून आए, पेशाब असामान्य तरीके से हो या फिर लगातार पेट में दर्द महसूस हो, तो तुरंत डॉक्टर से सलाह लें। 

पेशाब की थैली में पथरी का कैसे करें निदान

पेशाब की थैली में पथरी होने के लक्षण दिखे, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। शुरुआत में डॉक्टर आपसे आपकी मेडिकल हिस्ट्री जानने की कोशिश करेंगें। इसके अलावा पेट के आसपास छूकर पथरी का पता लगाने की कोशिश कर सकते हैं। ऐसे में अगर डॉक्टर को ब्लैडर स्टोन होने का संदेह होता है, तो वह कुछ टेस्ट की सलाह दे सकते हैं। जैसे-

  • ब्लड टेस्ट
  • यूरिन टेस्ट
  • रेडियोलॉजिकल इमेजिंग टेस्ट
  • सिस्टोस्कोपी

पेशाब की थैली के पथरी का इलाज (Treatment of Bladder Stone)

पेशाब की थैली में पथरी बहुत अधिक पानी पीने से निकल सकता है। लेकिन कई मामलों में मूत्राशय को पूरी तरह खाली करने में समस्या उत्पन्न होती है। ऐसे में पथरी बाहर नहीं निकल पाता है। जिसके बाद डॉक्टर आपको निम्न तरीकों से इलाज करने की सलाह दे सकते हैं। 

सर्जरी 

मूत्राशय की पथरी अगर घरेलू तरीकों और दवाइयों से ठीक नहीं हो पाता है, तो डॉक्टर सर्जरी का सहारा ले सकते हैं। सर्जरी कई तरीकों की होती है। जैसे-

  • ट्रांसयुरथ्रल सिस्टोलिथोलैपैक्सी (Transurethral cystolitholapaxy)
  • ओपन सिस्टोस्टॉमी (Open cystostomy)

इन सर्जरी के माध्यम से पेशाब की थैली से पथरी निकाला जाता है, जिसके बाद डॉक्टर पथरी होने के कारणों का इलाज करते हैं। 

मूत्राशय की पथरी से कैसे करें बचाव (Prevention of Bladder Stone))

  • अधिक से अधिक पानी पिएं। (पूरे दिन में 8 से 10 गिलास)
  • संतुलित आहार का सेवन जरूर करें। 
  • डॉक्टर से नियमित रूप से चेकअप कराएं। 
  • किसी तरह की समस्या महसूस होने पर उसे नजरअंदाज न करें। 
  • नियमित रूप से एक्सरसाइज करें। 
  • ज्यादा मीठा खाने से बचें।
  • धूम्रपान और शराब का सेवन न करें। 

पेशाब की थैली में पथरी के लक्षण दिखे, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करेँ। शरीर में होने वाले किसी भी तरह के बदलाव को नजरअंदाज न करें। इससे आपकी समस्या बढ़ सकती है।  

Read More Articles on Other Disease in Hindi

Disclaimer