आपका पाचन दुरुस्त कर देंगे किचन में मौजूद ये 5 हर्ब्स, दूर रहेंगे पेट के रोग

आंतों को स्वस्थ रखने के लिए आपको अपने खानपान का विशेष ध्यान रखना चाहिए। आप कुछ नेचुरल तरीकों से अपने गट हेल्थ को स्वस्थ बना सकते हैं।

Priya Mishra
Written by: Priya MishraUpdated at: Oct 21, 2022 12:20 IST
आपका पाचन दुरुस्त कर देंगे किचन में मौजूद ये 5 हर्ब्स, दूर रहेंगे पेट के रोग

आजकल बड़ी संख्या में लोग पाचन संबंधी समस्याओं से पीड़ित हैं। गलत खानपान, अनियमित जीवनशैली और तनाव का असर हमारे पाचन तंत्र पर भी पड़ता है। सुबह का ब्रेकफास्ट स्किप करना, खाली पेट चाय-कॉफी पीना, ज्यादा तला-भुना खाना या बहुत अधिक तनाव लेने के कारण आंतें कमजोर होने लगती हैं। सेहतमंद रहने के लिए पाचन तंत्र को स्वस्थ रखना बहुत जरूरी है। आंत कमजोर होने के कारण खाना पचाने में परेशानी से लेकर मल त्यागने की समस्या हो सकती है। आंतों को स्वस्थ रखने के लिए आपको अपने खानपान का विशेष ध्यान रखना चाहिए। न्यूट्रिशनिस्ट लवनीत बत्रा बताती हैं कि, अगर आप पाचन तंत्र स्वस्थ नहीं है तो आपका शरीर पोषक तत्वों का अवशोषण नहीं कर पाएगा। ऐसे में आप कुछ नेचुरल तरीकों से अपने गट हेल्थ को स्वस्थ बना सकते हैं। आज हम आपको रसोई में मौजूद कुछ ऐसी जड़ी-बूटियों के बारे में बताएंगे, जो गट हेल्थ को बनाए रखने के लिए फायदेमंद हैं (Best Herbs To Boost Gut Health In Hindi) -

अदरक - Ginger

अदरक का सेवन पाचन तंत्र  बहुत लाभकारी होता है। अदरक का सेवन करने से इम्युनिटी मजबूत होती है और सर्दी-खांसी में भी राहत मिलती है। अदरक में मौजूद जिंजरोल और शोगोल नामक तत्व पाचन को दुरुस्त करने में मदद करते हैं। अदरक का सेवन करने से पेट में गैस, मतली, ऐंठन, सूजन और अपच से राहत मिलती है। 

त्रिफला - Triphala

पाचन तंत्र को स्वस्थ रखने के लिए त्रिफला काफी लाभकारी है। त्रिफला, तीन पौधों का मिश्रण है, जिसमें आंवला, बिभीतकी और हरीतकी शामिल हैं। त्रिफला का सेवन करने से आंतें स्वस्थ रहती हैं। बिभीतकी एक नेचुरल लैक्सेटिव का काम करता है, जिससे मल त्यागने में आसानी होती है। वहीं, हरीतकी भी आंतों को स्वस्थ रखने में सहायक है। आंवला पेट के एसिड स्तर को संतुलित करने में मदद करता है। पेट में गैस, अपच, एसिडिटी जैसी समस्याओं में त्रिफला का सेवन  काफी फायदेमंद होता है।  

इसे भी पढ़ें: पेट फूलने की समस्या से राहत के लिए पिएं जीरा, इलायची और धनिया की चाय

मुलेठी - Licorice Root

मुलेठी एक गुणकारी जड़ी-बूटी है, जो पाचन तंत्र को दुरुस्त रखने में मदद करती है। मुलेठी का इस्तेमाल गले के साथ-साथ पाचन के लिए भी काफी फायदेमंद होती है। दरअसल, मुलेठी में ग्लाइसीर्रिजिन नामक तत्व होता है, जो सूजन को कम करने में मदद करता है। मुलेठी का सेवन करने से पेट का पीएच स्तर संतुलित करने में मदद मिलती है। 

Gut-Health-Herbs

हल्दी - Turmeric 

आयुर्वेद में हल्दी को औषधीय गुणों का खजाना माना गया है। हल्दी का सेवन करने से स्वास्थ्य को कई तरीकों से लाभ पहुंचता है। इसमें एंटीबैक्टीरियल, एंटी इंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट्स गुण होते हैं, जो पाचन को स्वस्थ रखने में मदद करते है। हल्दी का सेवन करने से पेट में सूजन को कम करने में भी मदद मिलती है। अपने गट हेल्थ को बनाए रखने के लिए डाइट में हल्दी शामिल करें। 

इसे भी पढ़ें: कमजोर मेटाबॉलिज्म के कारण हमेशा रहते हैं थके? ये 5 फूड्स करेंगे मेटाबॉलिज्म बूस्ट

पुदीना - Mint

पुदीने का इस्तेमाल स्वास्थ्य से लेकर त्वचा और बालों के लिए काफी फायदेमंद होता है। पाचन के लिए पुदीना बहुत प्रभावी तरीके से काम करता है। इसमें मेन्थॉल नामक कंपाउंड मौजूद होता है, जो पाचन तंत्र की मांसपेशियों को रिलैक्स करने में मदद करता है। पुदीने का सेवन करने से पेट को ठंडक मिलती है और पेट में अपच-गैस, दर्द की समस्या में लाभ होता है।

अपने पाचन तंत्र को मजबूत बनाने के लिए आप इन हर्ब्स को अपनी डाइट में जरूर शामिल करें। इनमें मौजूद पोषक तत्वों से गट हेल्थ बनाए रखने में मदद मिलेगी और पेट से जुड़ी समस्याओं में लाभ होगा।

Disclaimer