आयुर्वेदाचार्य की बताई इन जड़ी-बूटियों से जड़ से खत्म होगी किडनी स्टोन की समस्या, जानिए किस तरह करें इस्तेमाल

किडनी स्टोन से निजात पाने के लिए आप आयुर्वेदिक दवा का इस्तेमाल कर सकते हैं। आयुर्वेदिक दवाइयों से किडनी स्टोन जड़ से खत्म हो जाता है।

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraPublished at: Nov 30, 2020
आयुर्वेदाचार्य की बताई इन जड़ी-बूटियों से जड़ से खत्म होगी किडनी स्टोन की समस्या, जानिए किस तरह करें इस्तेमाल

बदलते खानपान के कारण आज के समय में अधिकतर लोग पथरी की समस्या से ग्रसित हो रहे हैं। पथरी को निकालने के लिए ज्यादातर डॉक्टर्स ऑपरेशन की सलाह देते हैं। लेकिन आपको बता दें कि कुछ घरेलू उपायों से भी हम पथरी की समस्याओं से निजात पा सकते हैं। आयुर्वेदिक दवाओं से मूत्रमार्ग के जरिए पथरी को निकालने की कोशिश की जाती है। इस बारे में गाजियाबाद स्वर्ण जयंती के आयुर्वेदिक एक्सपर्ट राहुल चुर्तेवेदी का कहना है कि पथरी की समस्याओं को आयुर्वेदिक दवाओं से जड़ से खत्म किया जा सकता है। खासतौर पर किडनी में होने वाली पथरी को हम दवाओं के सहारे बाहर निकालने की कोशिश करते हैं। उन्होंने कहा कि दुनियाभर में करीब 12 फीसदी लोग किडनी स्टोन की समस्या से जूझ रहे हैं। किडनी स्टोन होने पर डरने की जरूरत नहीं है, बल्कि इसका समय पर इलाज बहुत ही जरूरी है। अगर आप ऑपरेशन नहीं चाहते हैं, तो आयुर्वेदिक दवाओं से किडनी की समस्याओं से जड़ से निजात पा सकते हैं। चलिए डॉक्टर राहुल चतुर्वेदी से जानते हैं किडनी स्टोन कैसे होता है, क्या है इसके लक्षण और आयुर्वद की किन दवाओं से किडनी स्टोन से निजात पा सकते हैं?

क्या है किडनी स्टोन या गुर्दे की पथरी (What is Kidney Stone)

आयुर्वेदाचार्य डॉक्टर राहुल बताते हैं कि आयुर्वेद में किडनी स्टोन को अश्मरी के नाम से जाना जाता है। इस समस्या में वात दोष मूत्राशय में आये हुए शुक्र के साथ यूरिन या पित्त के साथ कफ को सूखा देता है, इस परिस्थिति में यह पथरी का स्वरूप धारण कर लेती है। इस वजह से यूरिन निकालने में भी काफी परेशानी होती है। कभी-कभी मूत्र मार्ग में रुकावट एवं असहनीय दर्द की स्थिति पैदा होती है। किडनी स्टोन चार तरह के होते हैं।  

कैल्शियम स्टोन - शरीर में जब कैल्शियम की मात्रा काफी ज्यादा हो जाती है, तब यह किडनी कैल्शियम को सही रूप से छान नहीं पाता है। यह कैल्शियम धीरे-धीरे किडनी में एकत्रित होने लगता है और बाद में स्टोन का रूप धारण कर लेता है।

यूरिक एसिड स्टोन - शरीर में जब यूरिक एसिड की मात्रा अधिक हो जाती है, तब यूरिक एसिड किडनी के माध्यम से अच्छी तरह फिल्टर नहीं हो पाता है। ऐसी परिस्थिति में किडनी में यूरिक एसिड जमा होने लगता है, जिससे किडनी स्टोन बनने लगते हैं। इस वजह से शरीर में कभी भी यूरिक एसिड की मात्रा को बढ़ने ना दें।

कैल्शियम और यूरिक एसिड की वजह से ही सबसे ज्यादा किडनी स्टोन होता है। इसके अलावा कुछ मामलों में स्ट्रूविटा स्टोन और सिस्टिन स्टोन के कारण भी किडनी स्टोन होता है। 

इनमें से कैल्शियम स्टोन और यूरिक एसिड स्टोन आम तौर पर सबसे ज्यादा पाये जाते हैं।

इसे भी पढ़ें - घुटनों और जोड़ो के दर्द से राहत पाने के लिए घर में तैयार करें ये खास लेप, मिलेगी राहत

किन कारणों से होता है किडनी स्टोन (Causes of Kidney Stone)

राहुल चतुर्वेदी जी बताते हैं कि सामान्य जीवनशैली में बदलाव के कारण आजकल लोगों में किडनी स्टोन की समस्याएं बढ़ रही हैं। किडनी स्टोन का लक्षण दिखने पर तुरंत डॉक्टर की सलाह लें। वरना इससे होने वाली परेशानियां काफी ज्यादा बढ़ सकती हैं।

  • कम पानी पीना किडनी स्टोन का मुख्य लक्षण है।
  • शरीर में विटामिंस और मिनरल्स की कमी
  • विटामिन डी की अधिकता
  • जंक फूड्स का अधिक सेवन करना

किडनी स्टोन के प्रमुख लक्षण  (Symptoms of Kidney Stone)

डॉक्टर राहुल चतुर्वेदी बताते हैं कि पेट में मरोड़ जैसा दर्द होना किडनी स्टोन का सबसे सामान्य लक्षण है। इसके अलावा कई अन्य लक्षण भी हैं-

  • पेट में ऐंठन
  • मूत्र त्यागने में परेशानी (रुक-रुक कर यूरिन आना, बार-बार मूत्र , पेशाब करने में दर्द और जलन होना इत्यादि)
  • पीठ के निचले हिस्से में दर्द
  • किडनी के दोनों साइड दर्द
  • यूरिन में ब्लड आना
  • यूरिन में दुर्गंध आना
  • उल्टी आना
  • बुखार आना
  • पसीना आना

किडनी स्टोन का निदान (Kidney Stone Diagnosis)

राहुल चर्तुवेदी बताते हैं कि अगर आपको किडनी स्टोन के लक्षण दिखते हैं, तो तुरंत डॉक्टर के पास जाएं। डॉक्टर अल्ट्रासाउंड के जरिए किडनी स्टोन की जांच करते हैं। 

इसे भी पढ़ें- यूरिक एसिड बढ़ने से घुटनों और जोड़ों में दर्द की समस्या से हैं परेशान? आयुर्वेदाचार्य से जानें आसान उपचार 

इन आयुर्वेदिक दवाइयों से जड़ से निकल सकती है किडनी का स्टोन (Ayurvedic Medicine for Kidney Stone )

    • फेडिस्को गोली दिन में 3 बार 3-3 गोली सोडा वॉटर के साथ लें। यह दवाई आप किसी भी आयुर्वेदिक ब्रांंड का ले सकते हैं।
  • पासण भेद जड़ी का की 3-4 पत्तियां दिन में दिन बार सादे पानी के साथ लें। इससे किडनी की समस्या से काफी निजात मिलेगा।
  • अम्लीय झार खाने के एक घंटा बाद या 1 घंटा पहले 3-3 ग्राम सादे पानी के साथ लें। यह आपकी पथरी को जड़ से खत्म करेगा। 
  • कलमी सोरा यह नमक की तरह दिखता है। इसका सेवन 3-3 ग्राम करके दिन में 3 बार करें। नियमित रूप से इसका सेवन करने से किडनी की पथरी खत्म हो सकती है। 
  • लोटा सज्जी की पत्तियों को सूखा लें। इसे करीब 3-3 ग्राम दिन में 3 बार सादे पानी के साथ लें। 2-3 महीने तक इसका सेवन करने से किडनी की पथरी निकल सकती है।
  • कुलथी के दाल का सेवन करने से भी किडनी की पथरी से निजात पाया जा सकता है। इसके लिए आप रात में 2 चम्मच कुलथी के दाल को पानी में भिगोकर छोड़ दें। अब सुबह खाली पेट कुलथी के पानी को पी जाएं। साथ ही दाल को भी आप चबा-चबाकर खाएं।
  • बेलपत्र की मदद से भी आप किडनी स्टोन की समस्या से निजात पा सकते हैं। इसके लिए 2-3 बेलपत्र लें। इन पत्तियों को अच्छी तरह पीस लें और इस पेस्ट में 1 चुटकी काली मिर्च मिलाकर खा जाएं। लगातार 3 से 4 सप्ताह तक इसका सेवन करने से गुर्दे की पथरी बाहर निकल आएगी। 
  • 1 कप पानी में 7-8 हरी इलायची 7-8 डालें। अब इसमें 1 चम्मच खरबूजे का बीज, 2 चम्मच मिश्री मिलाकर अच्छी तरह उबालें। अब इस पानी को ठंडा करके पी जाएं। सुबह-शाब इस पानी का सेवन करने से किडनी की पथरी से निजात मिलेगा।

किडनी स्टोन से बचाव (Prevention of Kidney Stone)

  • जीवनशैली में कुछ बदलाव करके किडनी स्टोन से छुटकारा पाया जा सकता है। जो व्यक्ति किडनी स्टोन से पीड़ित हैं, उन्हें कैल्शियम ऑक्जालेट से भरपूर आहार का सेवन नहीं करना चाहिए। टमाटर, बैंगन, मूंगफली, चुकंदर, शीशम के बीज और पालक जैसी चीजों का सेवन ना करें।
  • प्रोटीनयुक्त आहार का सेवन कम करें। 
  • सोडियमयुक्त आहार जैसे-जंक फूड्स, डिब्बा बंद खाना और नमक का सेवन कम करें।
  • साबुत अनाज में ऑक्सलेट बहुत ही अधिक होता है। ऐसे में इन चीजों के सेवन से बचें। 
  • कच्चा चावल, चने के दाल, उड़द दाल इत्यादि का सेवन करने से स्टोन की समस्या बढ़ सकती है।
  • कोल्ड्रिंक्स जैसे पेय पदार्थों का सेवन ना करें।
  • मांसहारी चीजों को खाने से बचें। 
 
Read More Articles on Ayurveda in Hindi
 

 

Disclaimer