अमेरिका की यूनिवर्सिटी को मिली बड़ी सफलता, सिर्फ 30 सेकंड में कोरोना को खत्म करने का दावा

कोरोनावायरस का प्रकोप दिन-ब-दिन बढ़ता जा रहा है। इसी बीच वैज्ञानिकों के हाथ में एक बड़ी सफलता लगी है। 

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraPublished at: Nov 17, 2020Updated at: Nov 17, 2020
अमेरिका की यूनिवर्सिटी को मिली बड़ी सफलता, सिर्फ 30 सेकंड में कोरोना को खत्म करने का दावा

कोरोनावायरस का प्रकोप थपने का नाम नहीं ले रहा है। शुरुआत में लोगों ने इसके फैलने के डर से घर से बाहर निकलना बंद कर दिया था, लेकिन आर्थिक मदबूरियों और कई समस्याओं के कारण लोग अपने घर से बाहर निकलने लगे हैं। लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि कोरोना का खतरा कम हो चुका है। अभी भी कोरोनवायर तेजी से लोगों को अपनी चपेट में ले रहा है। वहीं, इसे लेकर कई नए-नए खुलासे भी हो रहे हैं। कोरोना से बचाव के लिए दुनियाभर के वैज्ञानिक कोरोना की वैक्सीन पर रिसर्च कर रहे हैं, लेकिन अभी तक किसी भी वैक्सीन को लेकर पूर्णत: सफलता हासिल नहीं होती है। हालांकि, इसे लेकर आय दिन नए नए रिसर्च सामने आ रहे हैं। हाल ही में अमेरिका का एक रिसर्च सामने आया है। इस रिसर्च के मुताबिक, वैज्ञानिकों द्वारा तैयार थ्री डी प्रिंटर द्वारा एक प्रेशर प्लाज्मा जेट तैयार किया गया है, जिससे सिर्फ 30 सेकंड में कोरोना का खात्मा किया  जा सकता है।

अमेरिकी यूनिवर्सिटी में हुआ है शोध

बता दें कि यह रिसर्च अमेरिका के लॉस एंजेलिस स्थित यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया में हुआ है। यूनिवर्सिटी का दावा है कि उनका यह रिसर्च पूर्णत: सफल रहा है। बताया जा रहा है कि इस जेट की मदद से चमड़े, प्लास्टिक और धातुओं पर मौजूद कोरोना वायरस को सिर्फ 30 सेकंड के अंदर खत्म किया जा सकता है। कोरोना के खिलाफ वैज्ञानिकों के इस जंग में इसे बहुत बड़ी सफलता मानी जा रही है।

इसे भी पढ़ें - मिर्च खाने से कम हो सकता है समय से पहले मौत का खतरा? जानें क्या कहते हैं वैज्ञानिक

क्या शरीर के वायरस को खत्म कर सकती है ये जेट?

लोगों के मन में यह सवाल होगा कि यह किसी वस्तु या फिर बाहारी चीजों पर मौजूद वायरस को खत्म कर सकती है। अगर कोविड-19 इंसानों के बाहरी सतह पर मौजूद है, तो उसे जेट की मदद से खत्म किया जा सकता है, लेकिन अगर वायरस शरीर के अंदर है, तो उसे कैसे खत्म किया जा सकता है। क्या यह रिसर्च ऐसे मरीजों के काम आ सकती है?

इस बारे में कैलिफॉर्निया यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों का कहना है कि यह शरीर में मौजूद संक्रमण को खत्म करने में सार्थक साबित नहीं हो सकती है। इस जेट के प्रयोग से किसी सतह, धातु, प्लास्टिक पर मौजूद वायरस को 3 मिनट से भी कम समय में खत्म किया जा सकता है, जिसमें ज्यादातर वायरस 30 सेकंड के अंदर ही नष्ट हो जाते हैं।

इसे भी पढ़ें - कोरोना की पहली वैक्सीन संक्रमण से लड़ने में 90 फीसदी तक कर सकेगी बचाव, कंपनी का दावा 

क्या कहते हैं वैज्ञानिक

इस रिसर्च के लेखक रिचर्ड ई. विर्ज का कहना है कि कोरोनावायरस की रोकथाम के लिए यह प्लाज्मा पर हुआ यह रिसर्च कारगर साबित हो सकता है। विर्ज ने कहा कि यह सिर्फ एक शुरुआत है। हमें पूरी आशा है कि फ्यूचर में होने वाले रिसर्च में प्लाज्मा बहुत ही कारगर साबित हो सकता है।

Read More Articles on Other Diseases in Hindi 

Disclaimer