गाय के गोबर-मूत्र, गर्म पानी से नहाने या शरीर पर शराब डालने से नहीं खत्म होगा कोरोना, जानें मिथ और इनकी हकीकत

Covid19: कोरोनावायरस को लेकर लोगों के बीच दुविधा का माहौल है ऐसे में इससे जुड़े मिथ पर से पर्दा उठाना बहुत ही जरूरी है। जानें मिथ और हकीकत।

Jitendra Gupta
Written by: Jitendra GuptaPublished at: Mar 09, 2020Updated at: Mar 09, 2020
गाय के गोबर-मूत्र, गर्म पानी से नहाने या शरीर पर शराब डालने से नहीं खत्म होगा कोरोना, जानें मिथ और इनकी हकीकत

चीन समेत दुनियाभर में दहशत फैला चुके कोरोनावायरस (Covid19) को लेकर लोगों में डर का माहौल है। एक तरफ जहां लोग इसके लक्षणों को लेकर दुविधा की स्थिति में हैं वहीं कुछ ऐसे मिथ भी है, जिनपर लोग बिना सोचे-समझे विश्वास कर रहे हैं। दुनियाभर में कोरोनावायरस के कुल मामले की संख्या 109,600 तक पहुंच गई है और 3800 से ज्यादा लोग इस संक्रमण के कारण अपनी जान गंवा चुके हैं। हालांकि राहत की खबर ये है कि 60 हजार से ज्यादा मरीज अब ठीक हो चुके हैं। कोरोनावायरस की दहशत का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि ऐसा पहली बार हुआ है जब 100 देशों ने अपने यहां कोरोनावायरस के होने की पुष्टि की है। कोरोना की बढ़ती दहशत के बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) ने इस संक्रमण से जुड़े कुछ नए मिथ पर से पर्दा उठाया है, जिन्हें सच मानकर लोग कोरोना से बचने के लिए करने पर उतारू हो गए थे। अगर आप भी इन मिथ को अपना रहे हैं तो तुरंत छोड़ दें क्योंकि इससे आपको कोई फायदा नहीं मिलने वाला है।

इन मिथ पर न करें भूलकर भी विश्वास

गर्मियों में खत्म नहीं होगा कोरोना

डब्लूएचओ हेल्थ इमरजेंसी प्रोग्राम के कार्यकारी निदेशक डॉ. माइकल रयान का कहना है कि ऐसे कोई सबूत नहीं है कि गर्मियों में कोरोना खत्म हो जाएगा। उन्होंने कहा, '' हम अभी इस बात से वाकिफ नहीं हैं कि वायरस का व्यवहार अलग जलवायु स्थिति में कैसा रहने वाला होगा। हम ये मान रहे हैं कि वायरस में क्षमता है कि वह फैलना जारी रख सकता है।''

coldweather

कोरोनावायरस को खत्म नहीं कर सकता ठंडा मौसम और बर्फ 

इस बात पर विश्वास करने का कोई कारण नहीं है कि ठंडा मौसम कोरोनावायरस या अन्य किसी बीमारी को खत्म कर सकता है। मानव का सामान्य शरीर का तापमान 36.5 से 37 डिग्री सेल्सियस रहता है फिर चाहे बाहर मौसम कैसा भी क्यों न हो। कोरोनावायरस से सुरक्षित रहने का सबसे प्रभावी तरीका है बार-बार अपने हाथों को एल्कोहल बेस्ड हैंड रब से साफ करना या फिर साबुन और पानी से हाथ धोना।

इसे भी पढ़ेंः  COVID-19: कोरोनावायरस से जुड़ी ये 9 जरूरी बातें ऑनलाइन सर्च करने से बचें, जानें कहीं आप भी तो नहीं कर रहे सर्च

hotbath

गर्म पानी से नहाने पर दूर नहीं होगा कोरोना

गर्म पानी से नहाकर आप कोरोनावायरस से नहीं बच सकते हैं। आपके शरीर का सामान्य तापमान  36.5 से 37 डिग्री सेल्सियस रहता है फिर चाहे आपके पानी का तापमान कितना ही क्यों न हो। दरअसल ज्यादा गर्म पानी से नहाना आपके लिए नुकसानदेह साबित हो सकता है क्योंकि ये आपको जला सकता है। कोरोना से बचने का सबसे सही तरीका है बार-बार अपने हाथ धोना। ऐसा करने से आप अपने हाथों से वायरस को हटा सकते हैं और आंख, मुंह और नाक को छूकर फैलने वाले खतरे को रोक सकते हैं।

touchingthings

वस्तुओं को छून से नहीं फैलता कोरोना

डब्लूएचओ के मुताबिक, भले ही कोरोनावायरस कुछ घंटों या कई दिनों तक सतहों पर रह सकता है लेकिन ऐसी संभावना बहुत कम है कि वायरस एक जगह से दूसरी जगह ले जाने या फिर विभिन्न स्थितियों और तापमान के संपर्क में रहने के बाद भी वहां बना रहेगा। अगर आपको ऐसा लगता है कि सतह दूषित हो सकती है, तो इसे साफ करने के लिए आप कीटाणुनाशक का उपयोग करें। सतह या वस्तु को छूने के बाद अपने हाथों को अल्कोहल बेस्ड हैंड रब से साफ करें या उन्हें साबुन और पानी से धोएं।

mosquitobite

मच्छर के काटने से नहीं फैलता कोरोना

अभी तक स्पष्ट जानकारी नहीं मिल पाई है कि मच्छरों के काटने से कोरोनावायरस फैल सकता है। कोरोना सांस संबंधी एक वायरस है, जो किसी व्यक्ति के खांसने या छींकने की बूदों के पड़ने से फैलता है। अपने आप को सुरक्षित रखने के लिए आप बार-बार एल्कोहल बेस्ड हैंड रब का इस्तेमाल करें या फिर साबुन और पानी से हाथ धोएं। इसके अलावा आप खांसने और छींकने वाले व्यक्ति से उचित दूरी बनाएं रखें।

इसे भी पढ़ेंः यात्रा करते वक्त बरतेंगे ये सावधानियां तो कोरोनावायरस छू नहीं पाएगा, एक्सपर्ट से जानें बचाव के आसान टिप

handdryre

हैंड ड्राइर कोरोना को मारने में प्रभावी नहीं

हैंड ड्राइर कोरोना को मारने में बिल्कुल भी प्रभावी नहीं है। अपने आप को सुरक्षित रखने के लिए आप बार-बार एल्कोहल बेस्ड हैंड रब का इस्तेमाल करें या फिर साबुन और पानी से हाथ धोएं। अगर आपके हाथ साफ हैं तो आप पेपर टावल का प्रयोग कर सकते हैं या फिर आप गर्म हवा वाले ड्राइर का इस्तेमाल करें।

THERMALSCANNER

थर्मल स्कैनर कोरोना का पता लगाने में प्रभावी

थर्मल स्कैनर कोरोना के संक्रमण से बीमार हुए व्यक्ति का पता लगाने में प्रभावी हैं क्योंकि बीमार व्यक्ति को सबसे पहले बुखार होता है, जिसका थर्मल स्कैनर आसानी से पता लगा सकता है। हालांकि ये उन लोगों का पता नहीं लगा सकता, जो संक्रमित हैं लेकिन अभी तक बुखार से बीमार नहीं हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि इसके लक्षण सामने आने में 2 से 10 दिन का वक्त लगता है और व्यक्ति इस दौरान ही बीमार और बुखार का शिकार होता है।

alcohol

शराब या क्लोरिन छिड़कने से नहीं मरता वायरस

अपने शरीर पर शराब या क्लोरिन छिड़कने से वायरस को खत्म करने का मिथ बिल्कुल गलत है क्योंकि ये आपके शरीर में पहले ही प्रवेश कर चुका होता है। ऐसी चीजों का इस्तेमाल करना आपके कपड़ों और आंख व मुंह के लिए हानिकारक हो सकता है।

Read More Articles On Other Diseases In Hindi

Disclaimer