खाना-खाने के बाद चढ़ने लगती है सुस्ती और आने लगती है नींद तो फॉलों करें ये 5 टिप्स, मिलेगी ताकत और भागेगी नींद

खाना खाने के बाद लोगों के बीच थका-थका महसूस करना एक आम समस्या बन गई है, अगर आपको भी ऐसा होता है तो ये 5 टिप्स फॉलो करें। 

Jitendra Gupta
Written by: Jitendra GuptaPublished at: Feb 28, 2020Updated at: Feb 28, 2020
खाना-खाने के बाद चढ़ने लगती है सुस्ती और आने लगती है नींद तो फॉलों करें ये 5 टिप्स, मिलेगी ताकत और भागेगी नींद

ऐसा कई बार देखा गया है कि बहुत से लोगों को खाने खाना के बाद अक्सर नींद या फिर सुस्ती चढ़ने लगती है। क्या आपको भी पेट भर भोजन करने के बाद अक्सर सुस्ती या फिर नींद आने लगती है? क्या आप भी उन लोगों में शामिल हैं, जिन्हें खाना खाने के तुरंत बाद ऐसा लगता है कि बहुत काम कर लिया अब थोड़ा सुस्ता लिया जाए या फिर खाना खाने के बाद आपका दिन भर काम में मन नहीं लगता है? अगर ऐसा है तो इसमें कोई दो राय नहीं है कि इसके लिए कहीं न कहीं आपकी डाइट जिम्मेदार है।

fatigue

मौजूदा वक्त में लोगों के बीच थका-थका महसूस करना एक आम समस्या बन गई है, और ज्यादातर लोग खान-पान की खराब आदतों और व्यस्त जीवनशैली के कारण हर वक्त थका-थका महसूस करते हैं। आमतौर पर हम थकान के लिए हमारे इस दौड़ती-भागती जिंदगी को जिम्मेदार ठहराते हैं लेकिन इसके पीछे का सटीक और बिल्कुल सही कारण है अपर्याप्त मात्रा में डाइट लेना। जी हां, आपने बिल्कुल ठीक पढ़ा। अपर्याप्त मात्रा में डाइट लेने से आपके शरीर को जरूरी मात्रा में पोषक तत्व नहीं मिल पाते, जिस कारण आप थकान महसूस करने लगते हैं। एक सही डाइट आपको पूरे दिन चलने और काम में लगे रहने के लिए ऊर्जा प्रदान करती है। इस लेख में हम आपको ऐसे टिप्स के बारे में बताने जा रहे हैं, जिन्हें फॉलो कर आप थकान को दूर सकते हैं और आराम से अपना काम कर सकते हैं।

खाना खाने के बाद सुस्ती और थकान से बचने के लिए क्या करें और क्या नहीं

बिना कैफीन वाले पेय पदार्थ पीएं

आपने कई खबरों या किताबों में पढ़ा होगा या फिर दूसरों के मुंह से सुना होगा कि कैफीन आपको कई स्वास्थ्य लाभ प्रदान करता है। इन्हीं स्वास्थ्य लाभ में से एक है बहुत कम समय में आपकी एनर्जी को बढ़ाना। लेकिन खाना खाने के बाद कैफीनयुक्त पेय पदार्थों का सेवन आपको ज्यादा वक्त के लिए थका-थका महसूस करा सकता है। आपके लिए ये बात जानना बहुत जरूरी है कि जो भी फूड तुरंत एनर्जी देने का काम करते हैं वो बहुत जल्दी आपकी एनर्जी छीन भी लेते हैं। इस लिए खाना खाने के बाद कैफीनयुक्त पेय पदार्थों के सेवन से बचें।

इसे भी पढ़ेंः वर्कआउट के बाद मसल्स को रिकवर करेंगे ये आसान उपाय, दर्द और थकान भी होंगे दूर

प्रोसेस्ड फूड खाने से बचें

कभी-कभार दोस्तों या फिर अपने परिवार के साथ जब हम लंच के लिए बाहर जाते हैं तो शौक-शौक में प्रोसेस्ड फूड का सेवन कर लेते हैं। हालांकि प्रोसेस्ड फूड से आपका पेट तो भर जाता है लेकिन आपका शरीर पोषक तत्वों की कमी का शिकार हो जाता है। अगर आपको प्रोसेस्ड फूड खाना ही है तो आप सामान्य मात्रा में ही इसका सेवन करें और एक बात जान लें कि इसमें न्यूट्रिशनल वैल्यू बहुत कम होती है। इसके साथ ही आपके लिए ये जानना बेहद जरूरी है कि प्रोसेस्ड फूड ऊर्जा प्रदान नहीं कर पाते हैं जैसा कि हेल्दी फूड करते हैं।

fatigue fighting tips

हमेशा हाईड्रेट रहें

ऐसा एक आम धारणा रही है कि हर एक्सपर्ट बीमार होने पर ज्यादा से ज्यादा पानी पीने की सलाह देता है दरअसल पानी हमारे रक्त का एक मुख्य घटक है। पानी हमारे शरीर में सभी जरूरी पोषक तत्वों को एक जगह से दूसरी जगह यानी की कोशिकाओं में ले जाने का काम करता है। इसके साथ ही पानी शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने का काम भी करता है। इसलिए जरूरी मात्रा में पानी पीएं।

इसे भी पढ़ेंः हर समय थकान महसूस होना क्रोनिक फटीग सिंड्रोम के हैं संकेत, जानें कारण और बचाव

चिया बीज खाएं

आपने चिया के बीजों के स्वास्थ्य लाभ के बारे में तो सुना ही होगा। दरअसल चिया बीज पोषक तत्वों से भरे होते हैं। लंच में चिया बीज का सेवन आपके लिए बेहद फायदेमंद साबित होता है। ये सुपरफूड आपको 4,800 ग्राम फैटी एसिड, फाइबर, प्रोटीन, विटामिन, मिनरल और एंटी-ऑक्सीडेंट प्रदान करता है, जो कि मानव शरीर के लिए ऊर्जा में ईंधन का काम करते हैं।

सप्लीमेंट लेने से बचें

विटामिन और सप्लीमेंट ऊर्जा बढ़ाने के लिए अपनी डाइट में शामिल करना एक अच्छी बात हो सकती है लेकिन इसका प्रयोग करने वाले लोगों को इस बात का हमेशा ख्याल रखना चाहिए और इनका प्रयोग प्राकृतिक फूड के स्थान पर नहीं करना चाहिए। ये विटामिन और सप्लीमेंट आपको तुरंत ऊर्जा देने का काम तो करते हैं लेकिन जल्द ही आप खुद-खुद को थका-थका महसूस करते हैं। इसलिए हमेशा प्राकृतिक फूड का सेवन करें, जो आपको ऊर्जा देने के साथ-साथ पोषक तत्वों की आपूर्ति भी करते हैं।

Read More Articles On Other Diseases In Hindi

Disclaimer