चेहरे पर दिखाई दे ये 3 संकेत तो आपके शरीर में हो गई विटामिन डी की कमी, कहीं आपको तो नहीं मिल रहे ये संकेत

विटामिन डी की कमी आम है लेकिन अधिकतर लोग इस बात से अवगत नहीं हैं। विटामिन डी की कमी के कई लक्षण हो सकते हैं। सिर्फ आपके समग्र स्वास्थ्य को ही नहीं, विटामिन डी की कमी आपकी त्वचा को भी प्रभावित कर सकती है। 

Jitendra Gupta
Written by: Jitendra GuptaPublished at: Sep 10, 2019
चेहरे पर दिखाई दे ये 3 संकेत तो आपके शरीर में हो गई विटामिन डी की कमी, कहीं आपको तो नहीं मिल रहे ये संकेत

विटामिन डी, सूरज की रोशनी से प्राप्त होने वाला एक ऐसा विटामिन है, जिसकी जरूरत कुछ गतिविधियों के लिए हमारे शरीर को होती है। यह कुछ जरूरी गतिविधियों को अंजाम देता है, जिसके कारण यह हमारी डेयरी डाइट का एक जरूरी हिस्सा है। सूरज की रोशनी विटामिन डी का सबसे अच्छा स्त्रोत है। जब भी आपका शरीर सूरज की रोशनी के संपर्क में आता है तो ये विटामिन डी का उत्पादन करता है। सूरज की रोशनी के अलावा बहुत से ऐसे खाद्य स्त्रोत हैं, जो विटामिन डी की कमी पूरी करते हैं। विटामिन डी की कमी शरीर के लिए ठीक से काम करना मुश्किल बना सकती है। विटामिन डी हमारी डाइट से कैल्शियम के अवशोषण में भी मदद करता है। इसलिए, यह स्वस्थ हड्डियों और दांतों के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है। यह प्रतिरक्षा प्रणाली और तंत्रिका तंत्र के कार्यों का भी समर्थन करता है। यह अवसाद के लक्षणों से लड़ने में मदद कर सकता है। विटामिन डी प्रतिरक्षा प्रणाली को बेहतर बनाने का काम करता है, जो आपकी कई बीमारियों से लड़ने में मदद करता है।

विटामिन डी की कमी आम है लेकिन अधिकतर लोग इस बात से अवगत नहीं हैं। विटामिन डी की कमी के कई लक्षण हो सकते हैं। सिर्फ आपके समग्र स्वास्थ्य को ही नहीं, विटामिन डी की कमी आपकी त्वचा को भी प्रभावित कर सकती है। विटामिन डी की कमी के कुछ संकेत और लक्षण आपकी त्वचा पर भी दिखाई देते हैं।

विटामिन डी की कमी के कुछ अन्य लक्षण आपको शामिल हो सकते हैं

  • हड्डियों का कमजोर होना।
  • घावों का धीमा-धीना भरना। 
  • लगातार थकान रहना।
  • बाल झड़ना।
  • बार-बार बीमार होना।
  • डिप्रेशन।
  • मांसपेशियों में दर्द।

इसे भी पढ़ेंः शराब पीने की है आदत तो भूलकर भी न पीएं इन 5 मौकों पर शराब, होंगे ये नुकसान

त्वचा पर विटामिन डी के संकेत और लक्षण

मुंहासे

विटामिन डी का कम सेवन बार-बार  मुंहासे ला सकता है। विटामिन डी के एंटीऑक्सीडेंट गुण मुंहासों को रोकने में भी मदद कर सकते हैं। विटामिन डी के कम स्तर के कारण हार्मोन में बदलाव भी मुंहासों के आने का कारण बन सकते हैं।

स्किन रैशेज

विटामिन डी की कमी के कारण आपके चेहरे पर लाल रंग के चकत्ते हो सकते हैं, त्वचा सूखी हो सकती है और आपके चेहरे पर खुजली हो सकती है। विटामिन डी का सेवन आपको इस तरह की त्वचा संबंधी समस्याओं से छुटकारा दिला सकता है। यह स्किन रैशेज में कमी ला सकता है। विटामिन डी एग्जिमा के उपचार में भी फायदेमंद है। ऐसा आमतौर पर देखा गया है कि वे लोग जो एग्जिमा से पीड़ित होते हैं उनमें विटामिन डी का स्तर काफी कम होता है।

इसे भी पढ़ेंः पैरों में आए ये 6 बदलाव हैं इन गंभीर बीमारियों का संकेत, नजरअंदाज करना पड़ सकता है भारी

त्वचा का बूढ़ा दिखना

विटामिन डी का कम स्तर आपकी त्वचा को जल्दी बूढ़ा बना सकता है। आपको उम्र से पहले ही बुढ़ापे के लक्षण दिखाई दे सकते हैं। विटामिन डी की कमी के कारण शरीर की गतिविधियों में विभिन्न परिवर्तन होते हैं, जो लोगों को समय से पहले बूढ़ा बना देते हैं। उम्र बढ़ने से आपके शरीर में विटामिन डी के उत्पादन की क्षमता पर भी असर पड़ता है।

विटामिन डी के स्रोत

  • सूरज की रोशनी विटामिन डी का सबसे अच्छा स्रोत है। 
  • संतरे का रस।
  • दलिया।
  • अनाज।
  • सोया दूध।
  • गाय का दूध। 
  • मशरूम और अंडे की जर्दी।

Read More Articles On Miscellaneous in Hindi

Disclaimer