ढीली त्वचा में कसावट लाने के लिए करें ये 3 योगासन, एक्सपर्ट से जानें इन्हें करने का तरीका और अन्य फायदे

ढीली त्वचा में कसाव लाने के लिए वीरभद्रासन एक और वीरभद्रासन दो दोनों ही कारगर हैं। इसके अलावा कपोल शक्ति विकासित क्रिया भी फायदेमंद है। 

Meena Prajapati
Written by: Meena PrajapatiPublished at: Jul 28, 2021Updated at: Jul 28, 2021
ढीली त्वचा में कसावट लाने के लिए करें ये 3 योगासन, एक्सपर्ट से जानें इन्हें करने का तरीका और अन्य फायदे

त्वचा में ढीलापन कई कारणों से आ सकता है। बढ़ता प्रदूषण चेहरे पर समय से पहले झुर्रियों को कारण बन सकता है। तो वहीं, हार्मोन में परिवर्तन, बढ़ती उम्र आदि कारण भी हैं, जिनसे चेहरे पर ढीलापन आ सकता है। समय से पहले चेहरे पर झुर्रियां लोगों के लिए मुसीबत का सबब बनती है। अगर आपकी स्किन भी लूज हो गई है, और चेहरे को आकर्षक व त्वचा को टाइट बनाना चाहते हैं तो यहां बताए गए योगासन कर सकते हैं। इनोसेंस योगा की योग एक्सपर्ट भोली परिहार ने हमें कुछ ऐसे योगासन बताए जो ढीली त्वचा को कसते हैं। तो आइए जानते हैं ऐसे कुछ आसनों के बारे में।

inside5_looseskinyoga

वीरभद्रासन एक (Warrior asana 1)

वीरभद्रासन करने से हमारे शरीर को सुडौल और ताकतवर बनाता है। साथ ही साथ हमारे शरीर की कोशिकाओं को सक्रिय करते हुए शरीर में रक्त संचार बढ़ा देता है। यह आसन हमारे शरीर की ढीली मांसपेशियों को टाइट करता है। वीरभद्रासन ढीली स्किन को ही नहीं बल्कि जांघ को भी मजबूत करते हुए घुटने पर सही प्रभाव डालता है। वीरभद्रासन करने से शरीर का निचला हिस्सा सही शेप में रहता है।

inside1_looseskinyoga

वीरभद्रासन करने का तरीका

  • सावधान अवस्था में खड़े हो जाएं। 
  • दोनों हाथों को साइड से चिपका लें।
  • धीरे से अपने राइट पैर को सामने की ओर से खोल लें और लेफ्ट पैर को पीछे की ओर ले जाएं।
  • इसमें हमारा सीधे पैर का पंजा सीधी तरफ रहेगा और लेफ्ट पंजा भी हल्का सा राइट साइड रहेगा। 
  • अपने दोनों हाथों को ऊपर उठाते हुए नमस्कार मुद्रा में लाएं। 
  • सांस छोड़ते हुए अपने सीधे पैर को 90 डिग्री पर मोड़ लें।
  • लेफ्ट पैर बिल्कुल पीछे से सीधा रहेगा। 
  • इस आसन में 10 सैकेंड होल्ड करें। यदि आप 30 सैकेंड कर सकते हैं या उससे ज्यादा तो अपनी क्षमता अनुसार करें। 
  • इसी आसन को दूसरे पैर से दोहराएं। वापस आते हुए विश्राम करें।

सावधानी

जिन लोगों को अर्थराइटिस की दिक्कते है वे इस आसन को न करें। बाकी सभी लोग कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें : Virabhadrasana 1, 2 & 3: वीरभद्रासन 1, 2 और 3 में क्या है अंतर? जानें इन तीनों को करने की विधि और फायदे

वीरभद्रासन दो (Warrior asana 2) 

इस आसन को करने से हमारे शरीर की ढीली मांसपेशियां टाइट होती हैं और उनमें कसाव आता है। जिसके कारण बेकार दिखती ढीली स्किन टाइट मसल में बदल जाती है। यह आसन हमारी मांसपेशियों को मजबूती प्रदान करता है। जिससे हमारी जांघ की लटकती हुई मांसपेशियां एक सही आकार पा लेती हैं। साथ ही साथ वीरभद्रासन हमारे छाती वाले हिस्से में भी कसाव लाता है। जैसे कि वीरभद्रासन में बताया गया है कि अपने दोनों हाथों को कंधे के बराबर रखते हैं जिससे पैक्ट (pactoral) एक्टिव हो जाता है। जिससे हमारी छाती टाइट हो जाती है। इससे चेहरे की ढीली त्वचा टाइट हो जाती है।

inside2_looseskinyoga

वीरभद्रासन दो करने का तरीका

  • सावधान अवस्था में खड़े हो जाएं।
  • अपने दोनों हाथों को कमर पर रख लें। 
  • अपने घुटनों को हल्का सा मोड़ते हुए जंप करते हुए अपने दोनों पैरों में अंतराल कर लें। 
  • दोनों पैरों के बीच में आरामदायक अंतराल (40-45 इंच दूरी) करें।
  • अपने सीधे पंजे को बाहर की तरफ ले जाएं। लेफ्ट पंजे को हल्का सा अंदर की तरफ कर लें। 
  • अपने दोनों हाथों को कंधों के बराबर ले आएं।
  • राइट पैर के घुटने को राइट साइड धीरे से मोड़ें और 90 डिग्री एंगल बनाएं। 
  • इस आसन में 10-15 सैकेंड होलड करें। बाकी अपनी क्षमता अनुसार।
  • इसी आसन को दूसरे पैर से भी दोहराएं व वापस आ जाएं। 

इसे भी पढ़ें : माथे की झुर्रियां दूर करने के लिए रोज करें ये 3 योग

कपोल शक्ति विकासक क्रिया (Facial exercise)

कपोलशक्ति विकासित क्रिया करने से हमारे पूरे चेहरे को अच्छा आकार मिलता है। इस क्रिया को करने से अनचाहा फैट निकल जाता है। इसके बाद हमारे चेहरे पर टाइट मांसपेशियां रह जाती हैं। जिसमें किसी भी प्रकार का फैट नहीं होता, जिससे हमारा फेस सुंदर व आकर्षक दिखता है। यह क्रिया हमारे लिप्स के आसपास के डार्क एरिया को साफ कर देता है।  

कपोल शक्ति विकासक क्रिया करने का तरीका

  • सावधान अवस्था में ख़ड़े हो जाएं।
  • अपने दोनों हाथों को अपनी जांघों से लगा लें।
  • कमर, गर्दन, घुटने को बिल्कुल सीधा रखते हुए अपनी आंखों को एक जगह टिका लें। 
  • अब अपने दोनों होंठों से चोंच (Pout) बनाएं। लंबा गहरा सांस अपने मुंह के द्वारा चोंच बनाते हुए अंदर भरें।
  • अब अपने होठों को बंद कर लें।
  • सांस भरने के बाद अपने गालों को फुला लें। 
  • अपनी ठुड्डी को अपनी छाती से लगा लें। इस समय ध्यान रखें कि आपकी सांस अंदर लेने के बाद वह बाहर न निकले। 
  • जितनी देर आप होल्ड कर सकते हैं, आप रुकें।  जैसे ही आपको लगे कि आपक अपनी सांस को होल्ड नहीं कर पा रहे हैं तो धीरे अपनी गर्दन को सीधा करें, गालों को पिचकाते हुए नाक से सांस को बाहर छोड़ दें। 
  • इस क्रिया को 15-30 बार दोहराएं। 

ढीली त्वचा में कसाव लाने के लिए वीरभद्रासन एक और वीरभद्रासन दो दोनों ही कारगर हैं। इसके अलावा कपोल शक्ति विकासित क्रिया भी फायदेमंद है। 

Read More Articles on Yoga in Hindi

Disclaimer